पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

गणेश चतुर्थी की विशेष तेजस्वी संतान प्राप्ति साधना । Santan Prapti ke liye Ganesh Chaturthi Sadhna

Home » Blog » Mantra Vigyan » गणेश चतुर्थी की विशेष तेजस्वी संतान प्राप्ति साधना । Santan Prapti ke liye Ganesh Chaturthi Sadhna

गणेश चतुर्थी की विशेष तेजस्वी संतान प्राप्ति साधना । Santan Prapti ke liye Ganesh Chaturthi Sadhna

तेजस्वी संतान प्राप्ति के लिए उपाय : Santan Prapti ke upay

मान्यता है कि गणेश पूजन और गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi)के उपाय से निसंतान को संतान की प्राप्ति होती है। संतान के सभी कार्यों में सुखों की वृद्धि होती है। इसका एक कारण ये भी है कि मां लक्ष्मी भगवान गणेश को अपना पुत्र मानती हैं।

साधना विधि :

• गणेश चतुर्थी के दिन ‘ॐ गं गणपतये नम:‘ मंत्र की 21 माला जाप करें।
• ‘ॐ वक्रतुंडाय हुं‘ मंत्र से यज्ञ में 108 आहुतियां दे ।
• आहुति देते समय घी का इस्तेमाल करें।

विघ्न विनाशक प्रयोग :

गणेश चतुर्थी (गणेश-कलंक चतुर्थी )के दिन ‘ॐ गं गणपतये नम:’ मंत्र का जप करने और गुड़मिश्रित जल से गणेशजी को स्नान कराने एवं दूर्वा व सिंदूर की आहुति देने से विघ्न-निवारण होता है तथा मेधाशक्ति बढ़ती है |

इसे भी पढ़े :बांझपन को दूर करेंगे यह 34 आयुर्वेदिक घरेलू उपचार |

Summary
Review Date
Reviewed Item
गणेश चतुर्थी की विशेष तेजस्वी संतान प्राप्ति साधना । Santan Prapti ke liye Ganesh Chaturthi Sadhna
Author Rating
51star1star1star1star1star
2017-08-25T11:16:36+00:00 By |Mantra Vigyan|0 Comments

Leave a Reply