गर्मी दूर कर शरीर को ठंडक देने वाले आसान उपाय : Tips to reduce body heat

गर्मी के मौसम में दस्त, उल्टी और डिहाइड्रेशन जैसी समस्याएं ज्यादा होती हैं। पसीना ज्यादा आने से कई बार थकान भी होती है। ऐसे में कमजोरी महसूस होने लगती है। गर्मी से होने वाली इन समस्याओं से बचने के लिए सही पेय पदार्थ लेना बहुत जरूरी है। शरीर में ठंडक बनी रहती है तो स्वास्थ्य ठीक रहता है और गर्मी के कारण होने वाली ये कॉमन प्रॉब्लम्स परेशान नहीं करती हैं। चलिए, आज जानते हैं गर्मी दूर भगाने वाली कुछ ऐसी ही घरेलू देसी शर्बतों के बारे में, जिन्हें पीने से शरीर को जबरदस्त ठंडक मिलेगी। साथ ही, गर्मी के कारण होने वाली हेल्थ प्रॉब्लम्स दूर रहेंगी।जाने शरीर की गर्मी कैसे दूर करें ? Sharir Ki Garmi kaise Dur Kare ,How to reduce body heat

इसे भी पढ़े :
<> गर्मी मे स्वस्थ व निरोगी रहने के 14 उपाय | Health Tips For Summer
<> शरीर की गर्मी दूर करने के 16 देसी उपाय | Garmi Dur karne ke Upay

शरीर(पेट) की गर्मी दूर करने के उपाय : Sharir(pet) ki Garmi Dur karne ke upay

1) पानी / Water : शरीर की गर्मी को कम करने के लिए पानी सबसे असरदार तरीका है। हर दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पियें जिससे कि शरीर की सारी गर्मी चली जाए।

2) गन्ने का रस /sugarcane juice:
<> गर्मी में गन्ने का रस सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं। इसे पीने से ताजगी बनी रहती है। लू से बचाव होता है। बुखार होने पर गन्ने का सेवन करने से बुखार जल्दी उतर जाता है।
<> एसिडिटी के कारण होने वाली जलन में भी गन्ने का रस लाभदायक होता है।
<> गन्ने के रस का सेवन यदि नींबू के रस के साथ किया जाए तो पीलिया जल्दी ठीक हो जाता है। गन्ने के रस में ज्यादा बर्फ मिलाकर नहीं पीना चाहिए, सिर्फ रस पीना ज्यादा फायदेमंद है।

3) छाछ /Buttermilk : गर्मी में छाछ का सेवन ठंडक देने वाला होता है। आयुर्वेद के अनुसार गर्मी में खाने के बाद छाछ पीने के अनेक फायदे हैं। छाछ में पुदीना, काला नमक और जीरा मिलाकर पीने से गैस व एसिडिटी की समस्या परेशान नहीं करती है।pudina ka sharbat

4) खस का शर्बत : गर्मी में खस के शर्बत का सेवन बहुत ठंडक देने वाला होता है। इसका शर्बत पीने से दिमाग को ठंडक मिलती है। खस का शर्बत बनाने के लिए खस धोकर सुखा लें। उसके बाद इसे पानी में उबालेंं और स्वादानुसार चीनी मिलाएं। छानकर ठंडा कर लें। इसमें थोड़ा खाने वाला हरा रंग मिलाकर बोतल में भर लें।

5) सत्तू : सत्तू भुने हुए चना, जौ और गेहूं को पीसकर बनाया जाता है। बिहार में यह काफी लोकप्रिय है। सत्तू पेट की गर्मी दूर करता है। कुछ लोग इसमें चीनी मिलाकर तो कुछ नमक व मसाले मिलाकर खाते हैं।

6) आम पना /aam panna : कच्चे आम को पानी में उबालकर इसका पल्प निकाल लें। उसमें चीनी, धनिया, पुदीना, नमक और भुना हुआ जीरा मिलाकर पिएं। गर्मी से होने वाले रोग दूर ही रहेंगे।

7) बेल का जूस /wood apple juice : गर्मी में बेल के फलों का जूस बहुत फायदेमंद होता है। गर्मी के कारण होने वाली बीमारियां जैसे डायरिया, लू लगना, शरीर में गर्मी बढऩा आदि समस्याओं में बेल का जूस रामबाण है।

8) ताजे फलों का रस : गर्मी में ताजे फलों का रस बनाकर पीने से भी सेहत बन जाती है। पाइन एप्पल, मैंगो, मौसमी और संतरे जैसे फलों का रस न सिर्फ एनर्जी देता है, बल्कि गर्मी के कारण होने वाली बीमारियों को भी दूर कर देता है।

9) नींबू पानी /nimbu pani : नींबू पानी गर्मी के मौसम का एक देसी टॉनिक है। बॉडी में विटामिन सी की मात्रा कम हो जाए तो एनीमिया, जोड़ों का दर्द, दांतों की बीमारी, पायरिया, खांसी और दमा जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। नींबू में विटामिन सी की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। इसलिए इन बीमारियों से दूरी बनाने में यह आपकी मदद करता है। पेट खराब, पेट फूलना, कब्ज, दस्त होने पर नींबू के रस में थोड़ी-सी अजवाइन, जीरा, हींग, काली मिर्च और नमक मिलाकर पीने से काफी राहत मिलती है।

10) तरबूज का रस /Watermelon juice : तरबूज के रस से एसिडिटी खत्म हो जाती है। तरबूज का रस पीने से लू नहीं लगती है। यह दिल के रोगों, डायबिटीज व कैंसर से शरीर की रक्षा करता है।

11) पुदीने का शर्बत /pudina ka sharbat : गर्मी में पुदीना बेहद फायदेमंद होता है। पुदीने को पीसकर उसमें स्वाद अनुसार नमक, जीरा व चीनी मिलाएं। इसे पीने से लू, बुखार, जलन, उल्टी व गैस जैसी समस्याओं में काफी लाभ होता है।

12) ठंडाई /thandai : गर्मी में ठंडाई शरीर के लिए बहुत लाभदायक होती है। इसे बनाने के लिए खसखस और बादाम रात को भिगो दें। सुबह इन्हें मिक्सर में पीसकर ठंडे दूध में मिलाएं व स्वादानुसार चीनी डालकर पिएं। गर्मी दूर हो जाएगी।

विशेष : अच्युताय हरिओम फार्मा द्वारा निर्मित शरीर की गर्मी दूर कर शीतलता व आरोग्य देने वाले लाभदायक उत्पाद
1)अच्युताय हरिओम गुलकंद(Achyutaya Hariom Gulkand)
2)अच्युताय हरिओम गुलाब सर्बत (Achyutaya Hariom Gulab Sharbat)
3) अच्युताय हरिओम पलाश शर्बत(Achyutaya Hariom Palash Sharbat)

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |