घमौरियों से शीघ्र राहत देंगे यह 7 घरेलु उपचार | Ghamori ka Gharelu Upchar

Home » Blog » Disease diagnostics » घमौरियों से शीघ्र राहत देंगे यह 7 घरेलु उपचार | Ghamori ka Gharelu Upchar

घमौरियों से शीघ्र राहत देंगे यह 7 घरेलु उपचार | Ghamori ka Gharelu Upchar

घमौरियों के कारण लक्षण और उपचार : Ghamori ke karan lakshan aur upchar

रोग परिचय:

★ इस रोग को घमोरियां ,अनूरिया, अंघौरी, इत्यादि नामों से भी जाना जाता है।
★ शरीर के छिद्रों या ग्रन्थियों में पसीना रुक जाने से शोथ(सूजन) आ जाया करती है । जिसके फलस्वरूप बाजरा के दानों अथवा उससे भी छोटे दानों के रूप में दाने चर्म पर निकल आते हैं। जिनमें खुजली होती है और सुइयां सी चुभती हैं।
★ यह रोग गर्मी की अधिकता, बहुत अधिक पसीना आना, चर्म की सफाई न रखना, गर्म प्रकृति के भोजनों का अधिक खाना और गरम कपड़े पहनना इत्यादि कारणों से हो जाया करता है।

आहार विहार :

★ यह रोग प्रायः गरमियों में पसीना आने के कारण शरीर में हवा लग जाने से उत्पन्न होता है, अतः रोगी को अधिक पसीना आने से बचायें।
★ धूप में चलने-फिरने से रोकें ।
★ ठण्डी हवा में रखें तथा हल्के कपड़े पहनायें ।
★ कब्ज को दूर करें ।
★ गरम और तेज मिर्च-मसालेयुक्त भोजनों से परहेज रखें।
★ ठण्डे और शान्तिदायक शर्बत और पेय जैसे-अनार का शरबत, सन्तरे का शर्बत, चन्दन का शर्बत आदि पिलायें ।

इसे भी पढ़े :
<> घमौरियां दूर करने के 24 सबसे असरकारक देसी आयुर्वेदिक उपचार |
<> घमौरियों से छुटकारा देंगे यह 19 असरकारक घरेलु नुस्खे | Prickly Heat Rash

घमोरियों का देसी इलाज : Ghamori Treatment in Hindi

1•   मुर्दासंग एवं असली हींग समभाग लेकर खरल करें और चने के समान गोलियाँ बनाकर सुरक्षित रख लें । प्रतिदिन 1 से 3 गोली सुबह-शाम खिलायें। गर्मी के दानों के लिए अतीव गुणकारी है योग केवल 3-4 दिनों में दाने पूर्णरूपेण नष्ट हो जाते हैं और फिर नहीं निकलते हैं।

2•  घमौरियों पर खरबूजे का गूदा निकालकर लगाने से राहत मिलेगी।heat rash home remedies in hindi

3•  गुलाब के फूलों का तेल 12 मि.ली., सिरका 48 मि.ली., गुलाब जल 60 मि.ली., कपूर 1 ग्राम और फिटकरी 3 ग्राम लें। सभी को खरल करके गर्मी के दानों पर लगाना लाभकारी है।

4•  नौशादर, कपूर, नीला थोथा, गन्धक आमलासार (प्रत्येक 9 ग्राम) सभी को पीसकर 3 भाग कर लें । फिर 1 भाग को दही में मिलाकर दानों पर मलें। जब औषधि खुश्क हो जाये, तो थोड़ी देर बाद स्नान कर लें । इसी प्रकार प्रयोग 3 दिन तक करें । आराम हो जाएगा ।

5•  मुलतानी मिट्टी को रेशा खातमी (Khatmi/Gulkhairo) के लुआब में मिलाकर दानों पर मलें । अथवा
मक्खन और कतीरा (कतीरा एक कांटेदार पेड़ का गोंद है) मिलाकर दानों पर मलें । अथवा
खशखश के बीज 12 ग्राम बकरी के 60 मि. ली. दूध में पीसकर गर्मी के दानों( घमौरियों ) पर मलें । तत्पश्चात् आधा घन्टे बाद पानी से स्नान करें । गर्मी के दानों हेतु सभी लाभप्रद योग हैं।

6•  बर्फ (ice) को गर्मी के दानों पर मलना भी गर्मी के दानों में अत्यन्त लाभप्रद है।

7•  चार नग कोकम को दो गिलास पानी में रातभर भिगोकर रखें। अगले दिन सुबह इस पानी को तब तक उबालना है जब तक की पानी एक गिलास न रह जाए। अब ठंडा होने पर उसमें 3 चम्मच शक्कर मिलाकर पी जाएं। यह शरीर की गर्मी दूर करता है और घमौरियों को भी मिटाता है।

विशेष : घमौरियों से राहत देते वाले अच्युताय हरिओम फार्मा के लाभकारी उत्पाद |

<>  पलाश फूल शर्बत(Achyutaya Hariom palaash sharbat)
<>  एलोवेरा जेल(Achyutaya Hariom AloeVera Gel)
<>  नीम अर्क(Achyutaya Hariom Neem Ark)

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |

2018-04-20T16:42:57+00:00By |Disease diagnostics|0 Comments

Leave A Comment

2 × four =