घाव में कीड़े पड़ जाने के कारण : ghav me kide padne ke karn

कभी-कभी असावधानी के कारण रिसते हुए घाव को खुला छोड़ देने पर उस पर मक्खियों (लार्वा) छोड़ देने से पीप एवं रक्व में सम्पर्क पाकर वे मांस को काट-काट कर खाते रहते हैं जिसके कारण रोगी को भयंकर दर्द और कष्ट होता है। कभी-कभी तो काटते-काटते वह अन्दर से रक्त तक निकाल देते हैं । धीरे-धीरे उनकी संख्या बढ़ती रहती है, क्योंकि मक्खियाँ बार-बार उस घाव पर बैठकर अण्डे छोड़ती रहती हैं ।

घाव में कीड़े पड़ जाने के घरेलु इलाज / उपचार : ghav me kide padjane ka ilaj

1- घाव के आस-पास खान्ड के दाने छोड़ देने से खाने के लोभ में कीड़े बाहर निकल आते हैं, उन्हें विसंक्रिमत (खौलते पानी में उबालकर) साफ की हुई चिमटी से पकड़-पकड़ कर बाहर निकाल दें ।

2- तारपीन तेल :  उक्त घाव के पार्श्व भाग में या समीप में तारपीन के तेल से तर रुई | की फुरैरी रखने से, इसकी गन्ध से व्याकुल होकर पिल्लू बाहर निकलकर घाव पर रखी हुई रुई में चिपक जाते हैं, जिन्हें चिमटी से से पकड़कर बाहर निकाल लेना चाहिए ।

3- कार्बोलिक एसिड : घाव में कार्बोलिक एसिड (फेना) का आधा से 1 प्रतिशत तैलीय लोशन डाल रूई की फुरैरी रखने से, पिल्लू (कीड़े) मर-मर कर श्वास लेने के लिए बाहर आकर रूई पर चिपक जाते हैं। इन्हें चिमटी से निकाल लेना चाहिए ।

4-गुड़ : गुड़ और तारपीन के तैल की सहायता से (रूई की फुरैरी बनाकर घाव में रखकर) पिल्लू को चिमटी से पकड़कर निकाल फेंकें । ( और पढ़ेगुड़  के 47 जबरदस्त स्वास्थ्यवर्धक फायदे )

5- जात्यादि तेल :घाव पर जात्यादि तैल (शांर्गधर संहिता) या व्रण राक्षस तैल (भै. र.) को रुई में भिगोकर उस पर पट्टी रखकर बाँधे ।

6-हल्दी : घाव पर पिसी हुई हल्दी लगाने से घाव के कीड़े मर जाते हैं और घाव भी जल्द भर जाता है। ( और पढ़े हल्दी के अदभुत 110 औषधिय प्रयोग)

7- करौंदा : करौंदे की जड़ को चन्दन की तरह पानी में घिसकर लेप करने और पतला करके घाव पर लगाने से घाव के कीड़े खत्म हो जाते हैं।

8- बांस : बांस के प्रांकुर यानी कोपल का रस निकालकर कीड़े पड़े घाव पर डाला जायें और बाद में इसी की पुल्टिस घाव पर बांधी जाए तो घाव जल्दी ठीक हो जाता है।

9- बरगद : घाव में कीड़े हो गये हों, बदबू आती हो तो बरगद की छाल के काढ़े से घाव को रोजाना धोने से और इसके दूध की कुछ बूदें दिन में 3-4 बार घाव में डालने से घाव के कीड़े खत्म होकर घाव भर जाते हैं।

10-ढाक : ढाक के बीजों को पीसकर घाव पर छिड़क देने से घाव के कीड़े मर जाते हैं।

11-सीताफल : सीताफल के बीजों को पीसकर लगाने से घाव के कीड़े खत्म हो जाते हैं।

12-पोहकरमूल : पोहकरमूल का पाउडर छिड़कने से घाव के कीड़े मर जाते हैं।

13-लहसुन :घाव में कीडे़ पडने पर 10 कली लहसुन की और चौथाई चम्मच नमक को एक साथ पीसकर देशी घी में सेंककर घाव में लगाने से घाव के कीड़े समाप्त हो जाते हैं। ( और पढ़ेलहसुन के 13 बड़े फायदे )

14-पुदीना : पुदीने के पत्तों को पीसकर, पुल्टिस बनाकर जख्म पर बांधने से घाव के कीड़े मर जाते हैं।

15-डिकामाली : किसी भी तरह का घाव क्यों न हो, चाहे कितना ही संक्रमित हो, कीड़े पड़ गये हो ऐसे घावों में डिकामली को गरम पानी में घोलकर, कपड़े से छानकर प्राप्त घोल से रोजाना 2 बार धोने से लाभ होता है। इससे अगर घाव में कीड़े पड़ गये हो तो वह निकल जाते हैं, नये कीड़े नहीं पड़ते और मक्खियां भी नहीं बैठती है।

16-नीम : नीम और हींग को पीसकर लेप करने से फोड़ों के कीड़े मर जाते हैं और घाव जल्दी ठीक हो जाता है। ( और पढ़ेनीम के 51 कमाल के फायदे )

17-कचनार : पीले कचनार के बीजों को सिरके में पीसकर घाव पर लगाने से घाव के कीड़े मर जाते हैं।

18-कुचला : घाव पर कुचला के पत्तों की पट्टी बांधने से घाव के कीड़े खत्म हो जाते हैं।

19-करंज : करंज के पत्तों की पट्टी बनाकर कीड़ों से भरे घावों पर लगाने से घाव के कीड़े मर जाते हैं तथा रोग में आराम मिलता है।

20-निर्गुण्डी : निर्गुण्डी, करंज तथा नीम के पत्तों को पीसकर लेप करने से घाव में पड़े कीड़े मर जाते हैं तथा घाव सूख जाते है।

21-मूली : आंतों के घाव भरने में मूली लाभप्रद है। मूली आंतों से कीड़े निकालकर पीड़ा से भी छुटकारा दिलाती है। ( और पढ़ेमूली के 33 हैरान करदेने वाले अदभुत फायदे )

22-सरसों : घाव पर प्रतिदिन सरसों का तेल लगाने से घाव के कीड़े मर जाते हैं और घाव में फफोले नहीं बनते हैं।