पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

चन्द्रगुप्त | सुखी होने का मार्ग ( प्रेरक प्रसंग )

Home » Blog » Inspiring Stories(बोध कथा) » चन्द्रगुप्त | सुखी होने का मार्ग ( प्रेरक प्रसंग )

चन्द्रगुप्त | सुखी होने का मार्ग ( प्रेरक प्रसंग )

चन्द्रगुप्त ( Chandragupta )व चाणक्य (chanakya)के बीच राज्याभिषेक से पहले संवाद :-

चाणक्य : ये क्या सुन रहा हूँ मैं चन्द्रगुप्त

चन्द्रगुप्त : आपने ठीक ही सुना है आचार्य, नहीं बनना मुझे मगद का सम्राट

चाणक्य : क्यों !

चन्द्रगुप्त : जब से यहाँ आया हूँ अपनी इच्छा से सांस तक नहीं ले सका हूँ।

आपने मुझे एक स्वपन दिया था चक्रवती सम्राट का, चक्रवती साम्राज्य का लेकिन यहाँ आने के बाद पता चला के विष्णुगुप्त के लिए सम्राट एक वेतन लेने वाले नौकर से बढकर कुछ नहीं।

चाणक्य : तूने ठीक ही सुना है

चन्द्रगुप्त। मेरे लिए सम्राट एक नौकर से बढकर कुछ नहीं।
चन्द्रगुप्त : तो रखिये अपना साम्राज्य मुझे नहीं बनना सम्राट अगर यही सुख है सम्राट बनने का।

इसे भी पढ़ें –    मेरी रक्षा करो गुरुदेव ( बोध कथा )

चाणक्य : चन्द्रगुप्त! तुझे सुखी होना है।

चन्द्रगुप्त :क्या सम्राटों को सुखी नहीं होना चाहिए ।

चाणक्य : मूर्ख! जब तक तेरे साम्रज्य में एक भी व्यक्ति भूखा है तो क्या तू सुखी रह पायेगा। सुख शिक्षक और सम्राटों के भाग्य में नहीं होता। भूल गया तू चन्द्रगुप्त मैंने तुझे साम्राज्य देने का वचन दिया था सुख देने का नहीं।

भूल गया तू के प्रजा के हित में ही राजा का हित है। प्रजा के सुख में ही राजा का सुख है, सुख चाहता है तो पहले प्रजा को सुखी बना। तूने साम्राज्य अर्जित
किया है सुख अर्जित करने का मार्ग तेरे आगे खुला है।

=>चन्द्रगुप्त अपने जीवन के अन्तकाल में 40 दिनों तक भूखा रहता है क्योंकि उस समय भयंकर अकाल पडा था।
इसे कहते है राजधर्म / राष्ट्र्धर्म

 

keywords – Chandragupta , chanakya, Motivational and Inspiring Short Storie,Inspiring Stories , (बोध कथा)bodh katha , Moral Stories,प्रेरक लघु कहानियां( prerak prasang) , katha in Hindi , Prerak Prasang ( प्रेरक प्रसंग )

Leave a Reply