पसली में दर्द का इलाज और घरेलू नुस्खे | Rib Pain in Hindi

Home » Blog » Disease diagnostics » पसली में दर्द का इलाज और घरेलू नुस्खे | Rib Pain in Hindi

पसली में दर्द का इलाज और घरेलू नुस्खे | Rib Pain in Hindi

पसली में दर्द क्या होता है ?

फेफड़ों की झिल्ली पर सूजन आने के कारण पसलियों के अन्दर दर्द उत्पन्न होता है उसे ही पसली का दर्द या पसली चलना कहते हैं। यह किसी भी उम्र के लोगों में हो सकता है लेकिन युवा वर्ग में जिम और एक्सरसाइज के चलन के कारण उनमें इस रोग की सम्भावना ज़्यादा रहती है इसलिए भारी सामान उठाते समय अपने शरीर का ध्यान रखें और व्यायाम के दौरान शरीर को झटका लगने से बचाये।

पसली में दर्द के कारण : Rib Pain Causes in Hindi

pasli me dard kyu hota hai
पसलियों में दर्द निम्नलिखित कारणों से हो सकता है:
1. अधिक ठंड लग जाने से।
2. कोई दुर्घटना होने, चोट लगने से।
3. अधिक बोझ ढोने से।
4. वायु कारक आहार खाने से।
5. ठंडा तासीर वाले भोज्य पदार्थ खाने से।
6. फेफड़ों में अधिक सर्दी लग जाने से।
7. छाती से कफ के जमने से तथा शरीर के लगातार अस्वस्थ रहने से।

पसली में दर्द के लक्षण – Rib Pain Symptoms in Hindi

pasli me dard ke lakshan
✶इस रोग में फेफड़े में दर्द उत्पन्न होता है, जो फेफड़े से होते हुए कंधे तक पहुंचता है।
✶ शरीर में यह दर्द वायु के प्रभाव के कारण शुरू होता है।
✶इस रोग में दर्द की लहर दाएं फेफड़े में होने पर दाएं कंधे में और बाएं फेफड़े में होने पर बाएं कंधे में होती है।
✶दर्द यदि दोनों फेफड़ों में हो तो दर्द दोनों कंधे में एक साथ उत्पन्न होता है।
✶इस रोग में फेफड़े में सूजन, तेज दर्द, सूखी खांसी, सांस लेने में कठिनाई, पेशाब लाल रंग का तथा बुखार के साथ शरीर में कंपकंपी जैसे लक्षण उभरते हैं।
✶इस रोग में सबसे अधिक छाती में दर्द होता है। रोगी के माथे पर पसीना आता रहता है जिससे उसकी बेचैनी बढ़ जाती है।

पसली में दर्द के घरेलू उपचार : Pasli me Dard ka ilaj in Hindi

rib pain home remedies in hindi
1. कटोरी में दो-अढाई चम्मच देशी घी में लहसुन के पांच दाने छीलकर डालें और गरम करें। इसे भोजन के साथ दोपहर तथा शाम को नियमित लेते रहें।पसलियों का दर्द जाता रहेगा। ( और पढ़ेपसली के दर्द से राहत देंगे यह 17 चमत्कारिक घरेलु उपचार )

2. मालिश भी फायदा करती है। सरसों के तेल में लहसुन गरम करें तेल को गुनगुना हो जाने पर पसलियों पर मालिश करें। यदि इस मालिश के बाद कपड़े की पट्टी बांध लें, तो और जल्दी आराम मिलता है।

3. कालीमिर्च 4 दाने , लौंग २ दाने , हल्दी 1 ग्राम एवं सेंधा नमक 1 ग्राम | इन सबको अच्छी तरह पीसकर एक गिलास पानी में उबालें और जब पानी आधा गिलास रह जाए तो छान कर पिएं ।दर्द जाता रहेगा।

4. आधा किलो पानी में दो तोला पिसी सोंठ डालकर इतना उबालें कि पानी 250 ग्राम रह जाए। इसे छानकर तीन हिस्सों में बांटकर दिन में तीन बार लें। जल्दी फायदा करेगा।

5. पसलियों के दर्द को शांत करने के लिए सांभर के सींग को पानी में घिसकर पसलियों पर लेप करें। दर्द गायब हो जाएगा।

6. हींग को पानी से घोलकर पसलियों पर लेप करने से दर्द समाप्त हो जाता है।

7. पसलियों को हवा लगने से बचाएं। अंडरक्लॉथ ठीक प्रकार व मोटे पहनने से दर्द कम होता है।

8. पुदीना की पांच पत्तियां तथा पांच कालीमिर्च डालकर पानी में उबालें अब इस छानकर पिलें । दर्द समाप्त हो जाता है। ( और पढ़े – पुदीना के 70 जबरदस्त फायदे )

9. तारपीन तेल में थोड़ा सा शुद्ध कपूर मिलाकर थोड़ी-थोड़ी देर बाद इस तेल से पसलियों पर हल्के हाथों से मालिश करें दर्द गायब हो जाएगा।

10. लहसुन की 3-4 कलीयों को हल्का भूनकर शुद्ध शहद के साथ रोगी को खिलाएं इससे दर्द समाप्त हो जाता है। ( और पढ़ेलहसुन के 13 बड़े फायदे )

पसली में दर्द होने पर क्या करे :

ऊपर बताए उपचारों में से कोई एक या दो अपनाकर अपना रोग दूर कर सकते हैं। जिसे अपनाएं, भली प्रकार अपनाएं तथा तब तक अपनाएं जब तक रोग से पूरी तरह छुटकारा नहीं मिल जाता। इलाज बीच में न छोड़े। किसी भी प्रकार शारीरिक दर्द से परेशान होने पर:

✶ जो-जो मालिश ऊपर बताई गई है, उन्हें करें।
✶ ठंडी चीजों का सेवन न करें।
✶. गरम चीजों का सेवन शारीरिक दर्दो को कम कर देता है, इसमें अखरोट,गुड़, नारियल की गिरी आदि आते हैं।
✶ बाजरे तथा ज्वार की रोटी भी सभी दर्दी से कम करती है।
✶ अच्छी पौष्टिक खुराक दर्दो को खत्म करता है।
✶ वायु या वात उत्पन्न करने वाले आहार दर्द बढ़ाते हैं।
✶ज़रूरी व्यायाम, तेल मालिश तथा योगासन भी अवश्य करें।
✶ चाहे कुछ भी हो, आलस्य को अपने पास न फटकने दें। जितना चुस्त दुरुस्त रहने का प्रयत्न करेगे, रोग उतना ही ज्यादा किनारा करेगा। आप चैन से जी सकेंगे। जब तक शारीरिक दर्द रहेगा, चैन से नहीं रहा जा सकता।

सावधानियाँ :

1- मांसाहार और शराब का सेवन न करें, साथ ही ज़्यादा तेल मसाले का खाना खाने से भी परहेज करें।
पौष्टिक आहार लेने से सूजन में राहत मिलने लगती है।
2-भारी वजन उठाने से बचें।

पसली में दर्द की दवा : rib pain medicine

pasli me dard ki dawa
अच्युताय हरिओम फार्मा द्वारा निर्मित ” स्पेशल मालिश तेल (Achyutaya Hariom Special Malish Tel)” पसली के दर्द में शीघ्र राहत देने वाली लाभदायक आयुर्वेदिक औषधि है |

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |