बुढ़ापे के रोग और उनके घरेलू उपचार | Old Age Diseases and Their Treatment

Home » Blog » Disease diagnostics » बुढ़ापे के रोग और उनके घरेलू उपचार | Old Age Diseases and Their Treatment

बुढ़ापे के रोग और उनके घरेलू उपचार | Old Age Diseases and Their Treatment

सन्धिवात रोग (गठिया) : Rheumatism (Gout) in Hindi

सन्धिवात में हड्डी के जोड़ों में दर्द होता है और सूई चुभने जैसा कष्ट होता है। आमवात की स्थिति काफी लम्बे समय तक बनी रहे और इसे ठीक न किया जा सके तो यह स्थिति सन्धिवात का रूप ले लेती है। इस रोग को प्रचलित बोलचाल की भाषा में ‘गठिया कहते हैं। गठिया रोग चूंकि आमवात के बाद की रोग की बढ़ी हुई स्थिति होती है इसलिए इस रोग के पैदा होने के कारण वे ही हैं जो आमवात होने में कारण होते हैं और आमवात होने में मुख्य कारण होती है मन्दाग्नि व अपच होना।

सन्धिवात का इलाज : Gout Home Remedies in Hindi

1-हरीतकी चूर्ण से सन्धिवात का इलाज –
20 से 40 ग्राम हरीतकी का चूर्ण बनाकर घी के साथ सुबह-शाम सेवन करने से गठिया के रोग में ठंड के कारण उत्पन्न होने वाली कमजोरी दूर हो जाती है।

2-गुग्गुल से सन्धिवात का इलाज –
लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग से लगभग 1 ग्राम गुग्गुल को शिलाजीत के साथ मिलाकर 2-3 खुराक के रूप में लेने से गठिया का दर्द ठीक हो जाता है।

3-पिप्पली से सन्धिवात का इलाज –
पिप्पली, सोंठ, कालीमिर्च और गिलोय को बराबर मात्रा में लेकर कूटकर और पीसकर चूर्ण बनाकर रख लें। इसमें से 5 ग्राम चूर्ण को रोजाना सुबह-शाम पानी से लेने से गठिया के रोगी का रोग दूर हो जाता है।

मधुमेह रोग : Diabetes in Hindi

यह रोग उन लोगों को अधिक होता है जो हमेशा बैठे रहते हैं और कोई शारीरिक काम नहीं करते हैं। इससे शरीर में इन्सुलिन हार्मोन की कमी हो जाती है। इस दशा में जब लोग खाने के साथ शक्कर खाते हैं, वह सही से पच नहीं पाता, इसके कारण पेशाब के साथ चीनी भी बाहर निकल जाती है। मधुमेह रोग में रोगी को बार-बार पेशाब आता रहता है जिसके कारण रात को सोते-सोते उसे पेशाब करने के लिए कई बार उठना पड़ता है।रोगी को बार-बार प्यास लगती रहती है लेकिन पानी पीने के बाद भी रोगी का मुंह सूखा हुआ रहता है।रोगी का वजन दिन पर दिन कम होता जाता है। रोगी को आंखों से कम दिखाई देने लगता है।

मधुमेह का इलाज : Diabetes Home Remedies in Hindi

1-मेथी से मधुमेह का इलाज –
5 ग्राम मेथी के दाने एक कप में पानी भरकर, उसमें डालकर रखें। सुबह उसी पानी में मेथी को पीसकर सेवन करने से खून में शर्करा का मिलना बन्द हो जाता है।

2-करेला से मधुमेह का इलाज –
5 मिलीलीटर करेले का रस रोजाना पीने से मधुमेह रोग में लाभ होता है।

3-आंवला से मधुमेह का इलाज –
10 ग्राम मिलीलीटर आंवले का रस, 1 ग्राम हल्दी और 3 ग्राम शहद मिलाकर सेवन करने से मधुमेह में लाभ होता है।

4-गिलोय से मधुमेह का इलाज –
40 मिलीलीटर हरी गिलोय का रस, 6 ग्राम पाषाण भेद का रस और 6 ग्राम शहद को मिलाकर 1 महीने तक पीने से मधुमेह रोग मिट जाता है।

हाईब्लडप्रैशर रोग : High Blood Pressure in Hindi

रक्त संचार के समय रक्त नलियों के भीतरी दीवार पर जो रक्त का दाब पड़ता उसे रक्तदाब या चाप कहते है। जब यह रक्तदाब सामान्य से गति से अधिक हो जाती है, तो उच्च रक्त चाप (हाई ब्लड प्रेशर) कहते है। इस रोग के मुख्य कारण है दिल की बीमारी , अधिक क्रोध (गुस्सा), भय, दु:ख (परेशानी), शंका, अधिक मोटापा, अधिक शारीरिक और दिमागी (मानसिक) परिश्रम आदि |
उच्च रक्तचाप (हाई ब्लडप्रेशर) से पीड़ित रोगी को सामान्य रूप से कुछ लक्षण आते हैं जैसे- शुरू में सिर में दर्द रहना, चक्कर आना, हृदय की धड़कन का बढ़ जाना, सिर में भारीपन होना, काम में मन का नहीं लगना, इसके बाद रोग बढ़ जाने पर जी घबराना, उल्टी हो जाना, बेचैनी आदि लक्षण दिखाई देते है ।

हाईब्लडप्रैशर का इलाज : High Blood Pressure Home Remedies in Hindi

1-लहसुन से हाईब्लडप्रैशर का इलाज –
6 बूंदे लहसुन के रस को 4 चम्मच पानी में मिलाकर रोजाना 2 बार पीने से हाई ब्लडप्रेशर (उच्चरक्त चाप) के रोग में लाभ मिलता है।

2-प्याज से हाईब्लडप्रैशर का इलाज –
25 मिलीलीटर प्याज के रस में इतना ही शहद मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से कुछ सप्ताह में उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) घटने लगता है।

3-अश्वगंधा से हाईब्लडप्रैशर का इलाज –
अश्वगंधा चूर्ण 3 ग्राम, सूरजमुखी बीज का चूर्ण 2 ग्राम, मिश्री 5 ग्राम और गिलोय का

कोलैस्ट्रौल का बढ़ना : Cholesterol in Hindi

शरीर में पाई जाने वाली कोलेस्ट्राल एक प्रकार की चर्बी होती है जो शरीर में कई प्रकार की क्रियाकलापों को कराने जैसे नई कोशिकाओं के निर्माण, इंसुलिन तथा हारमोंस उत्पादन करने में आवश्यक है।जब कोलेस्ट्रोल की मात्रा अधिक हो जाती है तो इसके कारण रक्त के संचारण में अवरोध उत्पन्न होता है तथा हृदयघात होने की स्थिति पैदा हो जाती है। अधिक तले-भुने तथा बासी भोजन का सेवन करने से, मांस अंडा तथा पशु का दूध पीने या दूध से बने पदार्थों का अधिक उपयोग करने के कारण कोलेस्ट्रोल ज्यादा हो सकता है।

कोलैस्ट्रौल का इलाज : Cholesterol Home Remedies

1-सबसे पहले इस रोग से पीड़ित रोगी को वह भोजन बिल्कुल भी सेवन नहीं करना चाहिए जिसमें कोलेस्ट्राल की मात्रा अधिक हो।

2-इस रोग से पीड़ित रोगी को किसी भी प्रकार के मांस का सेवन नहीं करना चाहिए।

3-अजवायन से कोलैस्ट्रौल का इलाज –
अजवायन खून में हानिकारक कोलेस्ट्रोल की मात्रा कम करती है इसलिए भोजन में प्रतिदिन अजवायन का उपयोग करना चाहिए।

4-नारियल पानी से कोलैस्ट्रौल का इलाज –
खून में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को सामान्य करने के लिए हरे नारियल का पानी पीना काफी उत्तम होता है। इसलिए रोगी व्यक्ति को हरे नारियल का पानी प्रतिदिन पीना चाहिए।

पथ्य-अपथ्य :

पचने में भारी, तले हुए और चिकनाई युक्त पदार्थों का सेवन न करें। क़ब्ज़ न रहने दें। खूब चबा चबा कर खाएं। रात को सोते समय मल विसर्जन अवश्य किया करें।

(वैद्यकीय सलाहनुसार सेवन करें)

2018-09-18T14:50:56+00:00 By |Disease diagnostics|0 Comments