मुंह की बदबू का घरेलू इलाज | Bad Breath in Hindi

Home » Blog » Disease diagnostics » मुंह की बदबू का घरेलू इलाज | Bad Breath in Hindi

मुंह की बदबू का घरेलू इलाज | Bad Breath in Hindi

रोग परिचय :

भोज्य पदार्थों को ठीक स्वरूप दे कर शरीर के अवयवों तक पहुंचाने में दांतों की अहम भूमिका होती है. लेकिन जिन दांतों से हर क्षण कुछ न कुछ कार्य निरंतर लिया जाता है, उन दांतों की चमक बरकरार रहे और सांसें भी महकी महकी हों तो इस से व्यक्ति का सौंदर्य तो बढ़ता ही है, साथ ही व्यक्तित्व को भी गरिमा मिलती है. इस के विपरीत यदि दांत गंदे हों और मुंह से बदबू आती हो तो सौंदर्य तथा व्यक्तित्व अनाकर्षक होगा ही, लोग भी करीब आने से कतराएंगे. ऐसी स्थिति उत्पन्न न हो इस के लिए जरूरी है कि शुरू से ही दांतों की सफाई का पूरापूरा ध्यान रखा जाए.

मुंह से दुर्गंध आने का कारण : Muh se Durgandh Aane ka Karan

Bad Breath Causes in Hindi
मुंह से आने वाली बदबू का मुख्य कारण मुंह तथा दांतों की नियमित तथा समुचित सफाई न होना ही है. यदि इस ओर गंभीरता से ध्यान दिया जाए तो मुंह की बदबू की समस्या से सहज ही छुटकारा मिल सकता है. मुंह से बदबू आने के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं:-
✶दांतों की खराबी एवं मसूड़ों की सड़न,
✶कब्ज की शिकायत,
✶दांतों में अन्नकणों का फंसा होना,
✶भोजन खूब चबाचबा कर करना,
✶दिन में देर से सो कर उठना तथा रात में देर से सोना,
✶कोई भी चीज खाने के बाद दांत तथा मुंह की सफाई न करना,
✶नकली दांतों की समुचित सफाई न करना,
✶श्वास नली अथवा फेफड़ों में विकार होना,
✶शराब, सिगरेट पीना, गुटका या तंबाकू चबाना,
✶मुंह में छाले होना

मुंह की बदबू दूर करने के घरेलू उपाय और नुस्खे : Muh ki Badboo ka ilaj in Hindi

Bad Breath Home Remedies in Hindi
1.गुलाबजल के प्रयोग से
एक कप गुलाबजल में आधा नीबू निचोड़कर सुबह-शाम नियमित रूप से कुल्ला करने से मुंह की बदबू दूर होती है तथा मसूड़े व दांत मजबूत होते है ।

2.सौंफ के इस्तेमाल से
सौंफ खाना ठीक रहता है। यदि पेट ठीक नहीं रहता, तो दोनों समय भोजन के बाद एक-एक बड़ा चम्मच सौंफ खाएं। जल्दी लाभ होगा।

3. हरा धनिया
यदि आपके भोजन में लहसुन है और यही बदबू का कारण है, तो थोड़ा हरा धनिया चबाएं। इससे दुर्गध खत्म हो जाएगी।

4.लौंग के उपयोग से
दोनों समय का भोजन करने के बाद लौंग को मुंह में रखकर धीरे धीरे चूसने से दुर्गंध नहीं रहती।

5.तुलसी सेवन से
तुलसी की 2-4 पत्तियां पूरी तरह चबाकर, थोड़ा पानी पीने से इससे बहुत लाभ होता है।

6.नीबू के उपयोग से
एक बड़ा कप पानी से आधा नीबू निचोड़कर कुल्ला करने से सास की दुर्गध खत्म हो जाती है।

7.भुनी हुई सौंफ सेवन से
मुंह से बदबू आती हो तो भोजन के पश्चात् भुनी हुई सौंफ व मिश्री का सेवन करें।

8.फिटकरी व नमक के उपयोग से
यदि बदबू पायरिया रोग के कारण आती हो तो भोजन के पश्चात् फिटकरी व नमक के मिश्रण से मंजन करें।

9.इलायची के उपयोग से
मुंह की बदबू दूर करने के लिए इलायची व लौंग का सेवन लाभदायक रहता है। यदि भोजन के पश्चातू एक लौंग का नित्य सेवन की जाए तो मुंह की बदबू दूर होने के साथ ही कई प्रकार के मुंह व उदर विकार भी ठीक होते हैं।

10.दांतों की सफाई
उपर्युक्त उपायों में से कोई एक नियमित करने के साथ-साथ दांतों को भी साफ रखें। दोनों समय ब्रश करें। मुंह से खाद्य पदार्थों को सड़ने का मौका न दे, तो आपके मुंह से दुर्गध नहीं आएगी।

मुंह के सभी रोगों का उपचार :

यदि आप मुंह के रोगों के लक्षणों एवं कारणों को जानने में कठिनाई महसूस कर रहे हों और यह जानते हों कि मुंह की तकलीफ़ परेशान कर रही है, तो आप सभी प्रकार के मुंह के रोगों से छुटकारा पा सकते हैं। इसके लिए नीचे दिए कुछ उपचारों को ध्यान में रखें तथा अपनी परेशानी के अनुसार सरल उपाय को अपनाकर लाभ उठाए।

1. यदि मुंह में घाव है, फोड़ा हो गया है। कुछ खा-पी नहीं सकते।पानी पीने तथा थूक को निगलने में भी कठिनाई है, तो सफेद चिरमिटी की जड़ अच्छी तरह से धोकर चबाएं। लाभ होगा।
2. चमेली की पत्तियां चबाने से मुंह दुर्गध, छाले, घाव आदि सब ठीक हो जाते है।
3. काढा बना सकें, तो बहत लाभ होगा। इसके लिए चमेली के पत्ते,जबास, दाख, गिलोय, त्रिफ़ला, दारुहलदी, इन सबका काढा बनाए। काढ़े में शहद मिलाएं और काढा सहने योग्य गुनगुना होने पर गरारे
करें। लाभप्रद रहेगा।
4. मुंह के किसी भी रोग से परेशान हों, तो निम्नलिखित पत्तों से काढा तैयार करें- आंवला, हरड़, नीम, परवल, जामुन, चमेली तथा आम के पत्तों को लेकर काढा बनाएं। काढ़े को मुह में भरकर रोकने तथा कुल्ला करने से अधिक लाभ होता है।
5. मिसरी को बारीक पीसकर थोड़ा कपूर मिलाकर मुंह में रखने तथा चबाने से लाभ होता है।

मुंह की बदबू दूर करने की दवा | Muh ki Badboo ki Dawa

Bad Breath Ayurvedic Medicine
अच्युताय हरिओम फार्मा द्वारा निर्मित मुंह की बदबू दूर कर दाँतों को मजबूत बनाने वाली लाभदायक आयुर्वेदिक औषधियां |

1) दंत सुरक्षा तेल -Achyutaya Hariom Dant Suraksha Tel
2) दंतमंजन लाल(Achyutaya Hariom Dant Manjan)

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |

(वैद्यकीय सलाहनुसार सेवन करें)