पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

लव जिहाद का शिकार सबसे अधिक क्यूँ बनती है हिन्दू बेटियां | Love Jihad

Home » Blog » Articles » लव जिहाद का शिकार सबसे अधिक क्यूँ बनती है हिन्दू बेटियां | Love Jihad

लव जिहाद का शिकार सबसे अधिक क्यूँ बनती है हिन्दू बेटियां | Love Jihad

हिन्दू समाज की बेटियां सबसे अधिक क्यूँ लव जिहाद का शिकार बनती हैं?

1. क्यूंकि न तो हिन्दू समाज अपनी संतानों को धार्मिक शिक्षा देते हैं।

2. क्यूंकि न ही हिन्दू समाज वैदिक धर्म की श्रेष्ठता और अवैदिक मतों की निकृष्टता से अपनी संतानों को अवगत करवाते हैं।

3. क्यूंकि न ही हिन्दू समाज अपने घरों में धार्मिक माहौल रखता हैं?

4. बॉलीवुड की अश्लील फिल्में एवं साँस बहु के लड़ने वाले सीरियल से परिवार का वातावरण अधिक दूषित हैं।

5. राष्ट्रीय सामाजिक और धार्मिक मुद्दों पर परिवार के सदस्यों में परस्पर वार्तालाप की कमी होने से परिवार के सदस्यों के चिंतन की दिशा एक नहीं हैं।

6. हिन्दू समाज में केवल पैसा जोड़ना धार्मिक होने से अधिक महत्वपूर्ण हो गया हैं।

7. हिन्दू समाज अपनी संतानों को हमारे महान इतिहास, वीर पुरुषों, उनके तप और बलिदान की कहानियों से प्राय: अनभिज्ञ रखना।

इसे भी पढ़ें –   वेद क्या हैं ? what are the vedas in hinduism

keywords – love jihad in india , love jihad in hindi ,love jihad latest news ,love jihad kerala ,love jihad cases , hindu love jihad ,love jihad story ,love jihad website , love jihad cases ,love jihad kerala , love jihad story , love jihad latest news , love jihad video ,hindu love jihad ,love jihad baby machines
2017-05-19T17:49:57+00:00 By |Articles|0 Comments

Leave a Reply