प्रेरक लघु कहानी : Hindi Moral Story

★  महात्मा बुद्ध अपने शिष्यों को ध्यान-अभ्यास बताते थे । किसीका २० साल के अभ्यास से ध्यान सधा तो किसीका ४० साल के अभ्यास से । किसीका ५० वर्ष के अभ्यास से भी ध्यान नहीं सधा और किसीने युवावस्था में ध्यान शुरू किया और वृद्धावस्था तक भी ध्यान नहीं सधा ।

★  महात्मा बुद्ध के निजी शिष्य थे आनंद । उन्होंने ध्यान के बारे में कभी बुद्ध से पूछा भी नहीं और बुद्ध ने उन्हें कभी बताया भी नहीं । आनंद बुद्ध को प्राणों से भी अधिक प्यार करते थे । रात-दिन उनकी सेवा में लगे रहते ।

★  एक बार आनंद के एक साथी ने उनसे कहा : ‘‘अब मुझे ध्यान की गहराइयों की अनुभूति हो रही है । अब चित्त बिल्कुल शांत हो गया है । इसकी प्राप्ति के लिए मुझे ८० साल लगे । आनंद ने यह बात सुनी तो उन्हें लगा कि ‘अभी तक तो मुझे ऐसी अवस्था की प्राप्ति हुई ही नहीं !

★  आनंद ने अपने मन की बात बुद्ध को कही तो वे बोले : ‘‘ध्यान तो तुम्हारे लिए चुटकी बजाने जितना सरल है । बुद्ध ने आनंद को ध्यानाभ्यास बताया और तीसरे दिन आनंद ध्यान में डूब गये, समाधि में खो गये ।

★  आनंद ने कहा : ‘‘भंते ! क्या कारण है कि मैं वर्षों के बजाय ३ दिन में ही उस स्थिति को प्राप्त हो गया हूँ ? बुद्ध हँसे, बोले : ‘‘वत्स ! जो बिना सेवा के केवल ध्यान के द्वारा ही अंतःकरण को शुद्ध करना चाहते हैं उनके लिए यह एक बहुत लम्बी यात्रा है । सेवा के द्वारा तुम्हारा अंतःकरण इतना अधिक निर्मल और पावन हो चुका है कि अब तुम्हारे लिए ध्यान और समाधि बहुत ही आसान हो गये हैं ।

श्रोत – ऋषि प्रसाद मासिक पत्रिका (Sant Shri Asaram Bapu ji Ashram)
मुफ्त हिंदी PDF डाउनलोड करें – Free Hindi PDF Download