हनुमानासन करने की विधि व उसके लाभ | Hanumanasan Kaise Kare Aur Eshke Labh fayde

Home » Blog » Yoga & Pranayam » हनुमानासन करने की विधि व उसके लाभ | Hanumanasan Kaise Kare Aur Eshke Labh fayde

हनुमानासन करने की विधि व उसके लाभ | Hanumanasan Kaise Kare Aur Eshke Labh fayde

हनुमानासन के फायदे : Hanumanasana benefits in Hindi

इस आसन (Hanumanasana /Monkey Pose)को करने से हमारा शरीर आकर्षक तो बनता ही है, साथ में इसको करने से हमारे शरीर को बहुत ही फायदा मिलता है, इसको करने से हमें जो लाभ मिलते हैं वो कुछ इस प्रकार से है :-

1. इस आसन का जब हम लगातार अभ्यास करते हैं, तो हमारी नाभि के निचले हिस्से की हड्डीयां लचीली होती है।
2. इसको करने से साइटिका का दर्द या नर्वस सिस्टम का दर्द हमेशा के लिए समाप्त हो जाता है। इस आसन को करने से हाथ पैरों के स्नायु भी शक्तिशाली बनते हैं।
3. इसको करने से हमारी कमर पतली होती है और मांसपेशियां मजबूत होती है।
4. इस आसन के नियमित अभ्यास से स्त्रियों के सभी रोग जैसे कि मासिक धर्म संबंधी व रक्त स्त्राव दूर हो जाते हैं।

इसे भी पढ़े :गर्भासन : गर्भाशय के सभी रोगों को दूर करने वाला चमत्कारिक आसन | Garbhasana Steps and Health Benefits

हनुमानासन करने की विधि : Hanumanasana /Monkey Pose Stepshanumanasana in hindi

1. इस आसन (Hanumanasana /Monkey Pose)को करने के लिए आप सबसे पहले साफ़ जमीन पर चटाई को बिछा कर खड़े हो जाओ।
2. अपने दोनों पैरों को घुटनों से मोड़कर नीचे बैठ जाए।
3. अपने दोनों घुटनों को सामने फर्श पर टिका लें तथा आप पंजों पर बैठ जाये।
4. अब अपने बाएं पैर को धीरे-धीरे करके पीछे की तरफ और दाएं पैर को आगे की तरफ ले जाएंं। आसन के प्रारम्भ में जितना हो सके उतने ही पैरों को फैलाने का प्रयास करें।
5. इसको शुरुआत में आप अपने शरीर का संतुलन बनाएं रखने के लिए अपनी हथेलियों का प्रयोग भी कर सकते हैं।
6. अपने दोनों पैरों को इतना फैला दें कि जिससे आपके कुल्हे जमीन से लग जाये।
7. आसन की ऐसी स्थिति में आने के बाद अपने हाथों को प्रार्थना की मुद्रा में आगे की तरफ रखें ओर 2 मिनट तक इस अवस्था में बने रहें।
8. इसके बाद अपने बाएं पैर को आगे की तरफ करें और अपने दाएं पैर को पीछे ले जाओ।
9. आप इस आसन को दोनों पैरों से बदल कर करें और साथ में दोनों पैरों से दो-दो बार करें

सावधानियां :

यह आसन(Hanumanasana /Monkey Pose) थोडा कठिन होता है, इसलिए आप को सबसे पहले यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि शुरुआत में आपको उतने ही पैरों को फैलाना चाहिए जितने की संभव हो सके और साथ में इस आसन को धीरे-धीरे पूरा करने की कोशिश करेंं। इसको आप किसी योग शिक्षक के देखरेख में इसका अभ्यास करेंं। इस आसन को महिलाओंं को जरूर करना चाहिए, क्योंंकि इसको करके वो उन परेशानियों से छुटकारा पा सकती हैंं जिनसे वे बहुत ही परेशान रहती है।

2017-09-05T09:48:47+00:00 By |Yoga & Pranayam|0 Comments