मन्त्र रूप औषध :

१-धन्वन्तरिजी श्रीसुश्रुत से कहते हैं-‘ ओंकार‘ आदि मन्त्र आयु देनेवाले तथा सब रोगों को दूर करके आरोग्य प्रदान करनेवाले हैं। इतना ही नहीं, देह छूटनेके पश्चात् वे स्वर्गकी भी प्राप्ति करानेवाले हैं। ‘ओंकार’ सबसे उत्कृष्ट मन्त्र है। उसका जप करके मनुष्य अमर हो जाता है-आत्माके अमरत्वका बोध प्राप्त करता है अथवा देवतारूप हो जाता है।

२- गायत्री मंत्र भी उत्कृष्ट मन्त्र है। उसका जप करके मनुष्य भोग और मोक्ष का भागी होता है।

( और पढ़े –गायत्री मंत्र के फायदे और असाध्य रोगों का इलाज)

३-‘ॐ नमो नारायणाय’—यह अष्टाक्षर-मन्त्र समस्त मनोरथों को पूर्ण करनेवाला है। ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय‘-यह द्वादशाक्षर-मन्त्र सब कुछ देनेवाला है।

४-‘ॐ हं विष्णवे नम:’-यह मन्त्र उत्तम औषध है। इस मन्त्र का जप करने से देवता और असुर श्री सम्पन्न तथा नीरोग हो गये। जगत के समस्त प्राणियों का उपकार तथा धर्माचरण-यह महान् औषध है।

५- ‘धर्मः, सद्धर्मकृत्, धर्मी‘-इन धर्म-सम्बन्धी नामों के जपसे मनुष्य निर्मल (शुद्ध) हो जाता है।

६- ‘श्रीदः, श्रीशः, श्रीनिवासः, श्रीधरः, श्रीनिकेतनः, श्रियःपतिः तथा श्रीपरमः‘-इन श्रीपति-सम्बन्धी नामात्मक मन्त्रपदोंके जपसे मनुष्य लक्ष्मी (धन-सम्पत्ति)-को पा लेता है।

( और पढ़े – आरोग्य प्राप्ति के 15 आसन उपाय )

७-‘कामी, कामप्रदः, कामः, कामपालः, हरिः, आनन्दः, माधव:‘-श्रीहरिके इन नाम-मन्त्रोंके जप और कीर्तन से समस्त कामनाओं की पूर्ति हो जाती है।

८- रामः, परशुरामः, नृसिंहः, विष्णुः, त्रिविक्रमः‘-ये श्रीहरि के नाम युद्ध में विजय की इच्छा रखनेवाले योद्धाओं को जपने चाहिये।

९-नित्य विद्याभ्यास करनेवाले छात्रों को सदा ‘श्रीपुरुषोत्तमः‘ नामका जप करना चाहिये।

१०- ‘दामोदरः‘ नाम बन्धन दूर करनेवाला है।

११-‘पुष्कराक्षः‘-यह नाम-मन्त्र नेत्र-रोगोंका निवारण करनेवाला है।

१२-‘हृषीकेशः‘ इस नामका स्मरण भयहारी है। औषध देते और लेते समय इन सब नामोंका जप करना चाहिये।

१३-औषधकर्म में ‘अच्युत‘-इस अमृत-मन्त्र का भी जप करे।

१४-संग्राम में ‘अपराजित‘ का तथा जल से पार होते समय ‘ श्रीनृसिंह‘ का स्मरण करे।

१५- जो पूर्वादि दिशाओं की यात्रा में क्षेत्र की कामना रखने वाला हो, वह क्रमश: ‘चक्री’, ‘गदी‘, ‘शाङ्ग’ और ‘खड्गी‘ का चिन्तन करे।

१६-व्यवहारों (मुकदमों)-में भक्ति-भाव से ‘सर्वेश्वर अजित‘ का स्मरण करे। ‘

१७-नारायण‘ का स्मरण हर समय करना चाहिये।

१८-भगवान् ‘नृसिंह‘को याद किया जाय तो वे सम्पूर्ण भीतियोंको भगानेवाले हैं।

१९-‘गरुडध्वज‘-यह नाम विष का हरण करनेवाला है।

२०-‘वासुदेव‘ नामका तो सदा ही जप करना चाहिये।

२१-धान्य आदि को घर में रखते समय तथा शयन करते समय भी ‘अनन्त‘ और ‘अच्युत‘ का उच्चारण करे।

२२-दुःस्वप्न दीखने पर ‘नारायण‘ का तथा दाह आदि के अवसरपर ‘ जलशायी‘ का स्मरण करे।

२३-विद्यार्थी ‘हयग्रीव‘ का चिन्तन करे।

२४-पुत्र की प्राप्ति के लिये ‘जगत्सूति’ (जगत्-स्रष्टा)-का तथा शौर्यकी कामना हो तो ‘श्रीबलभद्र‘ का स्मरण करे।

इनमेंसे प्रत्येक नाम अभीष्ट मनोरथको सिद्ध करनेवाला है।
(अग्निपुराण अ० २८४)