पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

आध्यात्मिक अनुभव : आश्रम में आने से “बायपास सर्जरी” में से मुक्ति

Home » Blog » Spiritual experience » आध्यात्मिक अनुभव : आश्रम में आने से “बायपास सर्जरी” में से मुक्ति

आध्यात्मिक अनुभव : आश्रम में आने से “बायपास सर्जरी” में से मुक्ति

आध्यात्मिक अनुभव : Spiritual experience

★ मुझे सन १९८४ से हाई बी.पी. की बिमारी हो गयी थी । सुरत सिविल हॉस्पीटल के डाक्टरों ने कार्डियोग्राम देखखर कहा था कि तुम ‘एन्जोग्राफीङ्क कराओ । तुम्हें “बायपास सर्जरी” करानी होगी ।

★ १९८७ में मुझे चालू स्कुटर पर एटेक आया और तात्कालिक निदान के लिए सुरत की अशक्ताश्रम अस्पताल में १५ दिन रहा । घर आने के बाद दो दिन पश्चात् पुनः पीडा और चक्कर शुरू होते ही सुरत के न्यु सिविल हॉस्पीटल में दो मास तक इलाज कराया “इको कार्डियोग्राफी” करवाई । ऑपरेशन कराने का निर्देश मिला ।

★ ता. ६-२-१९९० के दिन हृदयरोग का गंभीर हमला हुआ । मुझे बेभान अवस्था में सुरत के महावीर अस्पताल में दाखिल किया गया । मुझे होश में लाकर तात्कालिक बम्बई अस्पताल में दाखिल हो जाने के लिए जताया । बम्बई में एन्जोग्राफी कराकर बायपास सर्जरी करानी होगी, ऐसा डॉक्टरों ने बताया था । डॉक्टरों की रिपोर्ट थी कि हृदय को रक्त देने वाली दो मुख्य नसें १०० % बंद हैं । दूसरी एक ७०% तथा एक ५०% बंद है । अगर जीवित रहना हो तो सप्ताह में ही बायपास सर्जरी करा लो ।

★ उस समय गुरुदेव सूरत आश्रम में विराजमान थे । मेरी पत्नी मुझे वहाँ ले गयी । मुझे दो तीन व्यक्ति पकड कर रिक्शा में से पूज्य बापू के समक्ष लाये । मेरी पत्नी हंसा ने रोते रोते विगत बताकर कहा कि बायपास सर्जरी कराना यह हमारी शक्ति से बाहर की बात है । गुरुदेव ने मुझसे सभी बातें पूछ कर प्रभु स्मरण करने तथा गुरुगीता एवं योगयात्रा पुस्तकों को पढने की आज्ञा की । मेरे लिए तो यह प्रत्यक्ष आशीर्वाद था । पूज्य बापू ने कहा : ‘‘तुम्हें बायपास सर्जरी नहीं करानी होगी । सुबह एक कली का लहसुन और तुलसी के पाँच पत्ते खाओ ?

★ इतना कहने के साथ क्या शक्ति दी, इसका वर्णन मैं किस तरह करूँ ? ‘नजरों से वे निहाल हो जाते हैं जो नजरों में आ जाते हैं । पूज्य बापू की दृष्टि अमृतवर्षा है । मेरे मृत्यु की ओर तीव्र गति से धँसने वाले शरीर को उस दृष्टि से जीवनदान दिया है । अब तो मुझे बहुत ही अच्छा है । डॉक्टरों की रिपोर्ट नोर्मल है । हम दोनों पति-पत्नी ने पूज्य बापू से मंत्र दीक्षा लेकर जीवन को धन्य बनाया है ।

★ मेरी पत्नी ने सवा मन शक्कर एवं २१ श्रीफलों की बाधा पूर्ण की । हम नित्य रविवार को वट बादशाह की प्रदक्षिणा करते हैं । यदि पूज्य बापू की शरण न मिली होती तो आज मैं इस दुनिया में न होता और मेरा परिवार भी अपार दुःख में घसीटा गया होता । मुझ पर गुरुदेव की असीम कृपा है । हमारे जीवनदाता को हमारे लाख लाख प्रणाम ।

-मणीशंकरजी पाठक
सेलटेक्स ऑफीसर, अहमदाबाद ।

श्रोत – ऋषि प्रसाद मासिक पत्रिका (Sant Shri Asaram Bapu ji Ashram)
मुफ्त हिंदी PDF डाउनलोड करें – Free Hindi PDF Download

Summary
Review Date
Reviewed Item
आध्यात्मिक अनुभव : आश्रम में आने से "बायपास सर्जरी" में से मुक्ति
Author Rating
51star1star1star1star1star
2017-10-10T15:44:22+00:00 By |Spiritual experience|0 Comments

Leave a Reply