पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

जानिए बरसात के मौसम में कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल | Barish ke mosam me bimariyo se kaise bache

Home » Blog » Seasonal Care » जानिए बरसात के मौसम में कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल | Barish ke mosam me bimariyo se kaise bache

जानिए बरसात के मौसम में कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल | Barish ke mosam me bimariyo se kaise bache

बारिश (Barish)के मौसम में बीमारियों से कैसे बचे |How to stay healthy in rainy season

★ बारिश के दिनों में भोजन में अथवा खाने-पीने में अदरक, नींबू, सेंधा नमक आदि लें थोड़ी देर के बाद भोजन करना सुपाच्च होगा, पाचनतंत्र इन दिनों में कमजोर रहेता है | भोजन में पुदीना, हरा धनियाँ, सौंठ, अजवाइन, मेथी, जिरा, हिंग, कालीमिर्च, भेंडी, पड्वल, तुरई, खीरा, मुली पर ये मुली, देठा, लौकी, गिलकी ये खान-पान में हितकारी रहेगा |

★ ताज़ी छाज खट्टी न हो, काली मिर्च और सेंधा नमक मिलाकर लेना, धनियाँ, पुदीना डालके लेने से वो हितकारी रहेगा | दोपहर को भोजन के साथ लेना और हितकारी रहेगा |

★ इन दिनों में हलका-फुलका उपवास और सुपाच्च भोजन हितकारी रहेगा | रात देर का भोजन बड़ा नुकसान करेगा | और भोजन के बीच-बीच में इन दिनों में साधा पानी पीये, ठंडा पानी नहीं पीये | इन दिनों में खट्टा, खारा, तीखा, भारी, राजमा, मिठाई, नया अनाज, आलू हानि करेगी, वायु बढ़ाते है | अरबी हानि करेगी, मटार, राजमा बड़ा नुकसान करेगा |जलेबी, बिस्कुट, डबल-रोटीयाँ, आटा लगा हुआ इडली, डोसे आदि इन चीजों से भी परहेज़ करनी चाहिये | मैदे की बनी चीजों से भी दूर रहना चाहिये |

★ उबटन से मालिश हितकारी रहेगी, तेल की मालिश हितकारी रहेगी, व्यायम हितकारी रहेगा | हलके-फुलके वस्त्र, सूती वस्त्र हितकारी रहेंगे | दिन का सोना बहुत नुकसान करेगा वर्षा ऋतु में, रात्री का जागरण ये भी भारी नुकसान देता है |

इसे भी पढ़े :बारिश के मौसम में स्वस्थ रहने के 6 सूत्र |

★ बरसात में खुले बदन अथवा भीगे बदन रहना, भीगे कपड़े रहना ये भी भविष्य में लकवा अथवा गठियां को, वायुप्रकोप को बुला सकता है |

★ अति व्यायाम भी वर्षा ऋतु में मना किया हुआ है |  बारिश में भीगना वर्जित है, हानिकारक है |

★ वर्षा ऋतु(Barish) में सावधानी के लिए राम हरड उसमे १५ ग्राम सेंधा नमक मिलाकर रख दें | २–३ ग्राम सुबह फाँक लें वो हितकारी रहेगा अथवा तो हरड रसायन गोली १–२ सुबह खा लें अथवा एकाद दूसरा शाम को लें पाचन ठीक बनायेगा | मंदाग्नि न होने दें और मंदाग्नि है, पाचन ठीक नहीं है तो फांस के खाये नहीं | बीच-बीच में गुनगुना पानी पीयो और सुबह हप्ते में २–३ दिन गुनगुना पानी, नींबू और शहद पीना वर्षा ऋतु में हितकारी है |

★ लेकिन जो चुतुर्मास का नियम करें और शहद त्यागने का महत्त्व समझते तो वो शहद बिना भी नींबू, पानी का उपयोग कर सकते है |

विशेष : वर्षा ऋतू में अच्युताय हरिओम हरड़ रसायन टेबलेट (Hariom Harad Rasayan Table)की २-२ गोली नित्य भोजन के बाद चूसें यह बारिश के मौसम में होने वाले कई बिमारियों से आपकी रक्षा करेगी |

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |

श्रोत – ऋषि प्रसाद मासिक पत्रिका (Sant Shri Asaram Bapu ji Ashram)

मुफ्त हिंदी PDF डाउनलोड करें Free Hindi PDF Download

 

Summary
Review Date
Reviewed Item
जानिए बरसात के मौसम में कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल | Barish ke mosam me bimariyo se kaise bache
Author Rating
51star1star1star1star1star
2017-08-21T12:07:31+00:00 By |Health Tips, Seasonal Care|0 Comments

Leave a Reply