पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

नेत्रज्योति बढ़ाने के लिए

Home » Blog » Disease diagnostics » आँखों के रोग ( Eye diseases ) » नेत्रज्योति बढ़ाने के लिए

आँखों की रौशनी बढ़ाने वाले सबसे कामयाब घरेलु नुस्खे | Improve Your Vision Naturally

2017-05-21T09:40:41+00:00 By |Disease diagnostics, आँखों के रोग ( Eye diseases ), नेत्रज्योति बढ़ाने के लिए|

लक्षण : इस रोग में रोगी को आंखों से सब कुछ धुंधला दिखाई देता है तथा उसे आंखों से [...]

नेत्रज्योति बढ़ाने के लिए कुदरती आसान उपाय | Herbal remedies to increase Eyesight naturally

2017-03-25T22:29:46+00:00 By |Disease diagnostics, आँखों के रोग ( Eye diseases ), नेत्रज्योति बढ़ाने के लिए|

पहला प्रयोगः इन्द्रवरणा (बड़ी इन्द्रफला) के फल को काटकर अंदर से बीज निकाल दें। इन्द्रवरणा की फाँक को रात्रि [...]