पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

मुँह में छाले(Mouth ulcers)

Home » Blog » Disease diagnostics » मुँह के रोग(Mouth disease) » मुँह में छाले(Mouth ulcers)

मुह के छाले दूर करने के 101 घरेलु उपचार | Muh ke Chhale ka Gharelu Upchar

2017-10-04T15:23:09+00:00 By |Disease diagnostics, मुँह के रोग(Mouth disease), मुँह में छाले(Mouth ulcers)|

मुह के छालों का कारण लक्षण व सबसे असरकारक देसी उपचार :Muh ke Chale / Mouth Ulcers ★ भोजन [...]

मुंह के छाले दूर करने के आयुर्वेदिक असरकारक घरेलु उपाय | Mouth ulcers home remedies

2017-03-25T10:57:56+00:00 By |Disease diagnostics, मुँह के रोग(Mouth disease), मुँह में छाले(Mouth ulcers)|

कारण : मुंह में छाले अपचन व कब्ज के कारण होता है। पेट की पाचनक्रिया खराब होने का कारण घी, [...]