एलादि वटी के फायदे, खुराक, घटक द्रव्य और दुष्प्रभाव | Eladi Vati Ke Fayde

Home » Blog » Ayurveda » एलादि वटी के फायदे, खुराक, घटक द्रव्य और दुष्प्रभाव | Eladi Vati Ke Fayde

एलादि वटी के फायदे, खुराक, घटक द्रव्य और दुष्प्रभाव | Eladi Vati Ke Fayde

एलादि वटी क्या है ? : Eladi Vati in Hindi

एलादि वटी एक आयुर्वेदिक टैबलेट है जिसका उपयोग खांसी, सर्दी, बुखार और उल्टी के इलाज में किया जाता है। यह मुख्य रूप से श्वसन और गैस्ट्रिक की स्थितियों में उपयोग किया जाता है। इसे ऐलादी बटी और एलादी गुटिका के नाम से भी जाना जाता है।

एलादि वटी के घटक द्रव्य : Eladi Vati Ingredients

✥छोटी इलायची
✥तेजपात
✥दालचीनी
✥पीपल
✥मुलेठी
✥पिण्ड खजूर
✥मुनक्का
✥शहद
✥मिश्री

एलादि वटी बनाने की विधि : Preparation Method of Eladi Vati

छोटी इलायची, तेजपात, दालचीनी- प्रत्येक ६-६ माशा, पीपल २ तोला, मिश्री, मुलेठी, पिण्ड खजूर, मुनक्का ४-४ तोला।
प्रथम मुनक्का और पीण्ड खजूर को खूब महीन पीस कर इसमें अन्य दवाओं का कपड़छन चूर्ण मिलाकर सबको शहद में मिला छोटे बेर के बराबर गोलियाँ बना कर रख लें।

वक्तव्य – पिण्ड खजूर और मुनक्का को बीज निकाल कर लें। मिश्री के स्थान पर दानेदार चीनी भी पीस कर मिलाना उत्तम है, अथवा दानेदार चीनी और शहद की चाशनी बना कर उसमें पिसी हुई सब चीजों को मिलाकर मर्दन कर गोली बनाने से गोली खाने में सुविधा होती एवं टिकाऊ भी अधिक बनती है।

उपलब्धता : यह योग इसी नाम से बना बनाया आयुर्वेदिक औषधि विक्रेता के यहां मिलता है।

मात्रा और अनुपान :

१ से ४ गोली, दिन भर में चूसें या दूध के साथ लें।

एलादि वटी के फायदे और उपयोग : Eladi Vati Benefits in Hindi

1-इस गोली से सूखी खाँसी, क्षय की खाँसी, रक्तपित्त, मुँह से खून गिरना, बुखार, वमन, मूर्च्छा, प्यास, जी घबराना, स्वरभेद और पित्त के विकारों में बहुत लाभ होता है।

2-यह पित्तशामक और कफदोष दूर करने वाली है।

3-सूखी खाँसी में कफ बैठ कर छाती में चिपका हुआ रहता है; जिससे श्वास लेने अथवा खाँसी आने पर विशेष तकलीफ होती है। खाँसी में कफ नहीं निकलने से छाती और सिर में दर्द होने लगता है। कभी-कभी तो रक्त भी आना शुरु हो जाता है। ऐसी अवस्था में इस गोली से बहुत फायदा होता है।

4-यह पित्त को शमन कर, कफ को पिघला करके बाहर निकाल देता है तथा इसके सेवन से एक तरह की तरी बनी रहती है, जिसकी वजह से खाँसी नहीं आती है।

5-इस गोली को चूसने से ही विशेष लाभ होता है।

6-यह अत्यधिक प्यास, प्लीहा रोगों और गाउट से छुटकारा दिलाता है।

7-यह एक प्राकृतिक कामोद्दीपक है और सभी रक्तस्राव की स्थिति में उपयोगी है।

8-सामान्य औषधि होते हुये भी अति प्रबल रोगों को दूर करने में अति उपयोगी सिद्ध हुई है ।

एलादि वटी के नुकसान : Eladi Vati Side Effects in Hindi

✦ इस दवा के कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं हैं फिर भी इसे आजमाने से पहले अपने चिकित्सक या सम्बंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ से राय अवश्य ले
✦ अधिक खुराक से पेट में हल्की जलन हो सकती है।
✦ गर्भावस्था के दौरान इस टैबलेट से बचना बेहतर है।

2019-01-05T10:02:38+00:00By |Ayurveda|0 Comments

Leave A Comment

four × 2 =