हार्ट ब्लॉकेज दूर करने के 10 सबसे असरकारक घरेलु उपचार | Heart Blockage ka Desi ilaj

Home » Blog » Disease diagnostics » हार्ट ब्लॉकेज दूर करने के 10 सबसे असरकारक घरेलु उपचार | Heart Blockage ka Desi ilaj

हार्ट ब्लॉकेज दूर करने के 10 सबसे असरकारक घरेलु उपचार | Heart Blockage ka Desi ilaj

हार्ट ब्‍लॉकेज के सफल घरेलु उपचार: Natural way to Remove Heart Blockage

हार्ट ब्‍लॉकेज के लक्षण : Heart Blockage ke Lakshan in Hindi

★ हार्ट ब्‍लॉकेज होने के लक्षण की बात करें तो यह इस पर निर्भर करता है कि आपको किस डिग्री की ब्‍लॉकेज हैं।
★ फर्स्‍ट डिग्री हार्ट ब्‍लॉकेज का कोई खास लक्षण नहीं होता। सेकेंड डिग्री और थर्ड डिग्री हार्ट ब्‍लॉकेज में दिल की धड़कनें निश्चित समय अंतराल पर न होकर रूक-रूक कर होती है।
★ इस तरह की हार्ट ब्‍लॉकेज के अन्‍य लक्षण चक्‍कर आने या बेहोश हो जाना, सिर में दर्द की शिकायत रहना, थोड़ा काम करने पर थकान महसूस होना, छोटी सांस आना, सीने में दर्द रहना आदि है।
★ इनमें से कोई लक्षण आपको अन्‍य किसी बीमारी के होने पर भी हो सकता है। थर्ड डिग्री हार्ट ब्‍लॉकेज में रोगी को तुरंत इलाज की जरूरत होती है क्‍योंकि यह घातक हो सकती है।

इसे भी पढ़े : सीने में दर्द से तुरंत राहत देते है यह 10 घरेलु उपचार | Chest Pain Treatment

हार्ट ब्‍लॉकेज का आयुर्वेदिक घरेलु उपचार : Heart Blockage Home Remedies in Hindi

1) गोझरण : गोझरण अर्क 10 से 20 मि.ली 100 मि.ली सुबह -शाम खाली पेट ले |कितना भी ब्लोकेज(heart blockage) हो खुलता है |

2)तुलसी : तुलसी के २५-३० पत्ते/उसका रस, १ नींबू, थोड़ा सा शहद (अगर ड़ायबीटीस नहीं है तो) जरा-जरा चाटो, पानी मिलाके पियो- अपने आप ब्लोकेज खुलता है |

3)सफेद मिर्च : काली मिर्च आती है उसी प्रकार सफ़ेद मिर्च भी आती है | सफ़ेद मिर्च सब्जी में खाया करो, अपने आप ब्लोकेज खुलता है |

4)नींबू : नींबू १-२ सफ़ेद मिर्च, शहद और अदरक का रस चाटो, अपने आप ब्लोकेज खुल जायेगा |

5) पीपल : ★ आप पीपल के करीब 10 से 15 हरे, कोमल और विकसित पत्ते लें और उनके नीचे व ऊपर वाले हिस्से को काट दें.
★ अब आप पत्ते के बचे हुए हिस्से को साफ़ करें.
★ अब आप एक गिलास पानी लें और उसमें सभी पत्तों को डालकर धीमी आंच पर पकने के लिए छोड़ दें. जब आपको उबल-उबल कर 1/3 रह जाएँ तो आप उसे आंच से उतारे और ठंडा होने के लिए छोड़ दें.
★ आप पानी को छाने, इस तरह एक काढा तैयार हो जाता है. अब आप तैयार काढ़े को तीन बराबर हिस्सों में बाँट लें और अगले दिन प्रातःकाल आप खाली पेट पहला हिस्सा पियें. अगले दोनों हिस्सों को आप 3 – 3 घंटों के अन्तराल पर ले लें.
★ इस तरह आपका हृदय स्वस्थ होता है. जिस व्यक्ति को पहले हार्ट अटैक आया है, ये काढा पीने के बाद उसे दोबारा हार्ट अटैक आने की संभावना भी खत्म हो जाती है. इसीलिए हर दिल के रोगी को इस काढ़े को एक बार अवश्य प्रयोग करना चाहियें.

6)लहसुन हार्ट ब्लॉकेज के लिए :Garlic good for Heart
एक कप दूध में लहसुन की तीन से चार कली डालकर उबालें। इस दूध को रोज पीएं।

7) दालचीनी हार्ट ब्लॉकेज रोके : Cinnamon, good for Heart
दालचीनी में ऑक्सीडाइजिन्ग गुण मौजूद होते हैं। दाल चीनी खाने में और पीस कर रस बना कर पीयें। दाल चीनी हार्ट ब्लॉकेज रोकने में सहायक है।

8) इलायची  : Cardamom, Natural Remedy
आर्युवेद जगत में इलायची का खास स्थान है। इलायची फैट कम करने में सहायक है। इलायची में फैटी ऐसिड गुण मौजूद हैं। इलायची नसों, कोशिकाओं, धमनियों को सुचारू करने में सक्षम है। इसीलिए इलाइची को को मसालों की रानी से भी पुकारा जाती है।

9)अर्जुन की छाल: दो चम्मच अर्जुन की छाल को डेड गिलास पानी मे गर्म करे जब पानी आधा से पौण गिलास रह जाए तो इसे छान लीजिये और बिलकुल ठंडा होने के लिए छोड़ दीजिये और सुबह खाली पेट और शाम को पीजिए | heart की blockage ,कोल्सट्रोल और यूरिक एसिड के लिए यह प्रयोग बहुत ही ज्यादा लाभकारी है |

10) विशेष प्रयोग : क्या आपको हृदय रोग है ? डाँक्टर ने ऐन्जियोग्राफी या बायपास सर्जरि करने को कहा है ?कराने से पहले अच्युताय हृदयसुधा सिरप (Achyutaya Hriday Sudha Syrup) इस दवा का प्रयोग अवश्य करें,ईश्वर कृपा से आपको जरूर लाभ होगा तथा हृदय की तरफ जाने वालि तमाम रक्त वाहिनियाँ खुल जायेंगी ।

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |

नोट :- किसी भी औषधि या जानकारी को व्यावहारिक रूप में आजमाने से पहले अपने चिकित्सक या सम्बंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ से राय अवश्य ले यह नितांत जरूरी है ।