पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

अब एन्जिओग्राफी एवं बायपास को करें बाई बाई -हानिरहित प्राकृत उपचार

Home » Blog » Disease diagnostics » अब एन्जिओग्राफी एवं बायपास को करें बाई बाई -हानिरहित प्राकृत उपचार

अब एन्जिओग्राफी एवं बायपास को करें बाई बाई -हानिरहित प्राकृत उपचार

हृदय रोगों से बचाव एवं कोरोनरी आर्टरी की बीमारियों से बचने का उपाय

सामग्री :-

-नीबू का रस- १ कप
-अदरख का रस – १ कप
लहसुन का रस -१ कप
सेब का रस -१ कप
इन सब को मिला लें ओर धीमी आंच पर १/२ घंटे तक पकाएं
१/२ घंटे के बाद जब यह ३-कप शेष रह जाय तब इसे ठंढा होने दें.ठंडा होने पर ३ कप प्राकृतिक शहद मिलकर बोतल में भर लें.प्रत्येक सुबह नाश्ते से पहले १ चम्मच नियमित सेवन करें
क्या आपको हृदय रोग है ? डाँक्टर ने ऐन्जियोग्राफी या बायपास सर्जरि करने को कहा है ?कराने से पहले अच्युताय हृदयसुधा सिरप (Achyutaya Hriday Sudha Syrup) इस दवा का प्रयोग अवश्य करें,ईश्वर कृपा से आपको जरूर लाभ होगा तथा हृदय की तरफ जाने वालि तमाम रक्त वाहिनियाँ खुल जायेंगी ।
यह आयुर्वेदिक औषधि सभी संत श्री आशाराम जी आश्रमसेवा केन्द्रों पर उपलब्द है

2017-01-22T20:36:48+00:00 By |Disease diagnostics|0 Comments

Leave a Reply