पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

कान में से कीड़े को निकालने के 22 रामबाण घरेलु उपाय |Kaan se kida nikalne ke gharelu upay

Home » Blog » Disease diagnostics » कान में से कीड़े को निकालने के 22 रामबाण घरेलु उपाय |Kaan se kida nikalne ke gharelu upay

कान में से कीड़े को निकालने के 22 रामबाण घरेलु उपाय |Kaan se kida nikalne ke gharelu upay

उपचार :Kaan se kida nikalne ke upay

1. हुरहुर : हुरहुर के रस को कान में डालने से कान के कीड़े(kaan me keeda )खत्म हो जाते हैं।

2. बैंगन :

★ बैंगन को भूनकर उसमें से निकलने वाले धुंए को कान में लेने से कान ( kaan me kida ) के सारे कीड़े खत्म हो जाते हैं।

★ बैंगन और सरसों के तेल को गर्म करके गाय के मूत्र में मिलाकर उसमें हरताल की राख को मिलाकर कान में डालने से कान के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

3. सोंठ : छोटी पीपल, सोंठ और काली मिर्च का चूर्ण बनाकर कान में डालने से कान के सारे कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

4. फिटकरी : अगर कान में चींटी चली जाने की वजह से कान में अजीब सी सुरसुराहठ हो तो फिटकरी को पानी में मिलाकर कान में डालने से लाभ मिलता है।

5. पीपल :

★ कलिहारी की जड़ के रस में पीपल, हुरहुर, सोंठ और मिर्च के रस को बराबर मात्रा मे मिलाकर कान में डालने से कान के कीड़े मर जाते हैं।

★ 10-10 ग्राम पीपल, सेंधानमक, कूट, बच, सोंठ, हींग और लहसुन को एक साथ मिलाकर पीस लें। 250 मिलीलीटर सरसों का तेल और 250 मिलीलीटर आक (मदार) के रस में यह चूर्ण डालकर पका लें। अच्छी तरह से पक जाने के बाद इस तेल को उतारकर छान लें। इस तेल को रोजाना कान में डालने से कान में से मवाद का बहना, बहरापन, कान के कीड़े और कान का दर्द जैसे सब रोग ठीक हो जाते हैं। इस तेल को कान में डालने से पहले कान को 4-5 बार नीम के पानी से अच्छी तरह से साफ करने से कान के कीड़े दूर होकर आराम मिलता है।

6. पुदीना : कान के अन्दर अगर बहुत ही बारीक कीड़ा चला जाये तो कान में पुदीने का रस डालने से कान के अन्दर का कीड़ा समाप्त हो जाता है।

7. भांग : भांग के रस को कान में डालने से कान के कीड़े खत्म हो जाते हैं।

8. ग्वारपाठा : गर्मी के कारण कान में कीड़े पड़ गये हों तो एलुवा को पानी में पीसकर कान में 2-2 बूंद डालने से कान के कीडे़ मर जाते हैं।

इसे भी पढ़े :  कान दर्द का घरेलू उपचार | Home Remedies for Earaches

9. सरसों : अगर कान में कीड़ा चला गया हो तो सरसों के तेल को गर्म करके कान में डालने से कीड़ा बाहर आ जाता है। इसके अलावा कान का दर्द, कान में आवाज और बहरेपन में भी लाभ होता है।

10 पानी : गर्म पानी में थोड़ा-सा नमक मिलाकर कान में डालें। फिर कान उल्टा कर दें। कीड़ा मरकर बाहर निकल जाएगा।

11. वनतुलसी : वनतुलसी के पत्तों के रस की 1-1 बूंद कान में डालने से कान के कीड़े खत्म हो जाते हैं।

12. सुहागा : सुहागे को सिरके में मिलाकर गर्म कर लें। इसको गर्म करके कान में डालने से कान के कीड़े खत्म हो जाते हैं।

13. तिल : तिल के तेल की 3-4 बूंदे कान में डालने से कान के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

14. जामुन : जामुन और कैथ की ताजे पत्तों और कपास के ताजे फलों को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर निचोड़कर इसका रस निकाल लें। इस रस में इतना ही शहद मिलाकर कान में डालने से कान में से मवाद बहना और कान का दर्द ठीक हो जाता है।

15. मकोए : मकोए के पत्तों के रस की 1-1 बूंद करके कान में डालने से कान के सारे कीड़े खत्म हो जाते हैं।

16. निर्गुण्डी : निर्गुण्डी के ताजे पत्तों के रस को कान में डालने से कान के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

17. हरताल : हरताल को गाय के पेशाब के साथ पीसकर कान में डालने से कान के सारे कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

18. कटेरी : कटेरी को उपलों की आग में रखकर उसके धुंए को कान में लेने से कान के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

19. एलुआ : एलुआ को पानी के साथ पीसकर कान में डालने से कान के सारे कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

20. तारपीन : तारपीन के तेल की 2-3 बूंदे कान में डालने से कान के सारे कीड़े बाहर निकल जाते हैं।

21. गुग्गुल : गुग्गुल का धुंआ कान में लेने से कान के सारे कीड़े समाप्त हो जाते हैं।

22. दीपक :दीपक के नीचे का जमा हुआ तेल अथवा शहद या अरण्डी का तेल या प्याज का रस कान में डालने पर कीड़े निकल जाते हैं।

विशेष : अच्युताय हरिओम कर्ण बिंदु की कान में २ से ३ बूंद दालने से कीड़ा मरकर बाहर निकल जाएगा ।

keywords – कान में मच्छर , कान मे कीडा ,कान में कीड़ा, kaan me keeda ,kaan me kida , Kan ke rog, Kan ke kide, Kan me dard, Kaan se kida nikalne ke upay

Leave a Reply