मोबाइल रेडिएशन से बचने के सरल उपाय | Mobile Radiation se Bachne ke Upay

Home » Blog » Health Tips » मोबाइल रेडिएशन से बचने के सरल उपाय | Mobile Radiation se Bachne ke Upay

मोबाइल रेडिएशन से बचने के सरल उपाय | Mobile Radiation se Bachne ke Upay

मोबाइल रेडिएशन क्या है ? mobile radiation kya hota hai

मोबाइल ने आजकल हमारे जीवन को बहुत ही सरल बना दिया है। मोबाइल से आज हम लगभग हर काम कर सकते है, लेकिन मोबाइल हमारे लिए जितना अच्छा है, उतना ही खतरनाक भी है। मोबाइल के अधिक प्रयोग से इससे निकलने वाले खतरनाक रेडिएशन स्वास्थ्य पर बहुत ही बुरा प्रभाव डालते है।

मोबाइल रेडिएशन कैसे चेक करे : mobile radiation kaise check kare

मोबाइल फोन का प्रयोग करते समय शरीर में जाने वाले रेडिएशन की मात्रा को स्पेसिफिक एब्सार्पशन रेट (SAR) कहते है। इंडिया में स्पेसिफिक एब्सार्पशन रेट (SAR) के लिये मानक पहले से तय है जिसके अनुसार प्रत्येक मोबाइल फोन का SAR रेट 1.6 वॉट प्रति किग्रा से ज्यादा नहीं होना चाहिये अगर यह इससे ज्यादा है तो यह आपके शरीर के लिए नुकसानदेह है। अपने मोबाइल का रेडियशन स्तर यानि SAR जॉचने के लिये आप *#07# डायल करें, यदि फोन का SAR वैल्यू 1.6 वॉट प्रति किग्रा (1.6 W/kg) से अधिक है तो यह खतरे का संकेत है और ऐसी स्थिति में अपना मोबाइल फ़ोन तुरंत बदल लेना चाहिए।
( और पढ़ेदीर्घायु होने के 23 सरल उपाय)

मोबाइल रेडिएशन के दुष्प्रभाव : mobile radiation se hone wale nuksan

मोबाइल के रेडिएशन से तमाम दिक्कतें हो सकती हैं, जिनमें प्रमुख हैं।

• सिरदर्द,
• लगातार थकान महसूस करना,
• चक्कर आना,
• नींद न आना,
• आंखों में ड्राइनेस,
• काम में ध्यान न लगना,
• सुनने में कमी,
• याददाश्त में कमी, अनियमित धड़कन,
• जोड़ों में दर्द आदि।

वर्तमान में चल रहे कई अनुसंधान में ये बात सामने आयी है की रेडिएशन से लंबे समय के बाद प्रजनन क्षमता में कमी, कैंसर, ब्रेन ट्यूमर और गर्भपात की समस्या भी हो सकती है। मोबाइल रेडिएशन से गर्भ में पल रहे बच्चे के स्वास्थ्य को नुकसान पहुँचा सकता है। इस दौरान जहाँ तक संभव हो, ऐसे विकिरण से बचने की पूरी कोशिश करनी चाहिए।
डब्ल्यूएचओ की ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार मोबाइल के ज्यादा प्रयोग से अधिक देर तक हम रेडिएशन के प्रभाव में रहते है जिससे कैंसर तक होने की आशंका बढ़ जाती है। एक शोध के मुताबिक हर दिन आधे घंटे या उससे ज्यादा मोबाइल का इस्तेमाल करने पर 8-10 साल में ब्रेन ट्यूमर की आशंका 200-400 फीसदी बढ़ जाती है। आइये जाने मोबाइल रेडिएशन के खतरे से कैसे बचे ,mobile radiation se kaise bache

मोबाइल रेडिएशन से बचने के उपाय : Mobile Radiation se Bachne ke Upay

मोबाइल व टावर के रेडिएशन से बचने के लिये क्या उपाय कर सकते हैं?

• मोबाइल टॉवरों से जितना संभव हो सके, दूर रहें।
• अगर घर के बिल्कुल सामने मोबाइल टावर है तो घर की खिड़की दरवाजे बंद करके रखे।
• घर की खिड़कि यों पर खास तरह की एन्टी रेडिएशन ग्लास फिल्म लगा
सकते हैं क्योंकि सबसे ज्यादा रेडिएशन ग्लास के जरिए आता है। खिड़की दरवाजों पर शिल्डिंग पर्दै लगा सकते हैं। ये पर्दे काफी हद तक रेडिएशन को रोक सकते हैं।
• ज्यादा बात करनी हो तो स्पीकर पर बात करे।
• मोबाइल को जेब से निकालकर कम से-कम-दो फुट यानी करीब एक हाथ की दूरी पर रखें।
• सोते हुए भी दूरी बनाए रखें।
• शर्ट की जेब में मोबाइल रखना दिल के लिए नुकसानदेह होता है। बहुत लंबे समय तक यह मोबाइल रखे से दिल की धड़कन का अनियमित होने की आशंका जरूर होती है।
• पैंट की जेब में मोबाइल रखेने से शुक्राणुओं में कमी होने लगती है जिससे नपुंसकता हो सकती है।

2018-12-13T18:17:06+00:00By |Health Tips|0 Comments

Leave A Comment

17 − four =