पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

अच्युताय हरिओम सौभाग्य-शुंठी पाक(Achyutaya Hariom Saubhagya Sunthi Pak)

Home » Portfolio » Achyutaya Hariom Pharma Products » अच्युताय हरिओम सौभाग्य-शुंठी पाक(Achyutaya Hariom Saubhagya Sunthi Pak)
अच्युताय हरिओम सौभाग्य-शुंठी पाक(Achyutaya Hariom Saubhagya Sunthi Pak) 2017-01-07T18:34:12+00:00

Project Description

(बुद्धि,तेज,वीर्य, को बढाकर नवचेतना प्रदायनी औषधि)

दैवी-गुणों से संपन्न 

यह 80 प्रकार के वातरोग, 40 प्रकार के पित्तरोग तथ 20 प्रकार के कफ रोगों को नष्ट करता है ।
इस पाक की महिमा का वर्णन भगवान महादेवजी ने पार्वतीजी के समक्ष किया था । नारदजी ने इसे ब्रम्हाजी के श्रीमुख से सुना व अश्विनीकुमारों ने इस पाक का निर्माण किया था । इसके सेवन से बल,बुद्धि,स्मृति,उत्तम वाणी,सौंन्दर्य,सुकुमारता तथा सौभाग्य की प्राप्ति होती है । माताओं के लिए यह खास वरदानस्वरूप है प्रसूति के बाद सेवन से दूध खुलकर आता है तथा संभावित कई व्याधियों से रक्षा होती है ।सर्दियों में इस दैवी पाक का विधिवत सेवन कर सभी निरोगता व दिर्घ्यायुष्य की प्राप्ति कर सकते है ।
सेवन-विधि : सुबह १० ग्राम पाक दूध के साथ ले उसके चार से छः घंटे बाद भोजन में
तीखे,खट्टे,तले हुए तथा पचने में भरी पदार्थ न लें । शाम को पुनः१० ग्राम पाक दूध के साथ लें ।

(1) Product Name :- Achyutaya Saubhagya Sunthi Pak
(2) Quantity :- 450 g.

(3) Direction For Use :- Dose depends on digestive capacity. In general 10gm pak with fresh milk in morning on empty stomach. Also can be taken 10g. pak in evening with fresh milk. Lunch or Dinner should be taken after 4 to 6 hrs. OR as directed by physician.
(4) Benefits :- Lord shiva and Lord brahma enumerated the benefits of this pak infront of parvatidevi and rushi Narad respectively.
It inceases strength, glow, memory, beauty and fortune.
It is specially useful after delivery increasing lactation and for avoiding puerpural disorders.
It cures 80 types of vataj disorders, 40 types of pittaj disorders and 20 types of kaphaj disorders.
Thereby Useful in T.B., anaemia, cough, dyspnoea, weak digestive power, sprue, molar pregnancy (Raktagulma), leucorrhoea, menorrhagia, somrog, loss of milk secretion, dysuria, jaundice, neck rigidity and all pittaj, vatpittaj and puerpural women’s vata disorders etc
(5)Main Ingredients :- Saffaron(Keshar), Shilajit, Loha bhasma, Zinziber officinale(sunthi), cow’s ghee, cow’s milk, Bacopa monieri(brahmi),Asparagus racemosus(shatavari) etc.

Leave a Reply