पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

उत्तान कूर्मासन : दमा व सांस की बीमारी को खत्म करने वाला चमत्कारिक आसन

Home » Blog » Yoga & Pranayam » उत्तान कूर्मासन : दमा व सांस की बीमारी को खत्म करने वाला चमत्कारिक आसन

उत्तान कूर्मासन : दमा व सांस की बीमारी को खत्म करने वाला चमत्कारिक आसन

Uttana Kurmasan Steps and Health Benefits

Uttana kurma asana से रोगों में लाभ :

★ इस आसन(Uttana Kurmasan) के अभ्यास से सांस से सम्बंधित बीमारियां दूर होती है।
★ यह आसन दमा, बोंक्राइटिस, टी.बी. आदि रोगों को ठीक करता है।
★ इससे कमर की मांसपेशियां मजबूत और कमर लचीली और पतली बनती है।
★ यह आसन पेट की अधिक चर्बी को कम करके मोटापे को दूर करता है।
★ इससे घुटनों व पिंडलियों का दर्द कम होता है और मेरूदंड (रीढ़ की हड्डी) लचीला बनता है।
★ नाड़ियों में रक्तसंचार ठीक रखने के लिए यह आसन लाभकारी है
★ और यह आसन खून को भी साफ करता है।

उत्तान कूर्मासन (Uttana Kurmasan)का अभ्यास :

★ उत्तान कूर्मासन के अभ्यास के लिए नीचे दरी या चटाई बिछाकर बैठ जाएं।
★ फिर दोनों पैरों को घुटनों से मोड़कर नितम्ब के नीचे रख लें।
★ पंजों को मिलाकर एड़ियों को थोड़ा अलग रखें।
★ अब पूरे शरीर का भार एड़ी व पंजों पर डालकर बैठ जाएं।
★ हाथों को कमर के नीचे जमीन पर रखें।
★ फिर शरीर का संतुलन बनाते हुए धीरे-धीरे पीछे की ओर झुकते हुए शरीर को जमीन पर टिका दें।
★ इसके बाद दोनों हाथों को दोनों जांघों पर रखें।
★ आसन की इस स्थिति में कंधे व गर्दन को जमीन से सटाकर रखें और श्वासन क्रिया सामान्य रूप से करें।
★ आसन की स्थिति में जितनी देर तक रहना सम्भव हो रहें।

सावधानी :

इस आसन का अभ्यास अल्सर, कोलाइटिस, उच्च रक्तचाप वालों को नहीं करना चाहिए।

विशेष : अच्युताय हरिओम गोझरण अर्क(Achyutaya Hariom Gaujaran Ark)का नित्य सेवन दमा व सांस की बीमारी में लाभ प्रदान करता है |

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |

Summary
Review Date
Reviewed Item
उत्तान कूर्मासन : दमा व सांस की बीमारी को खत्म करने वाला चमत्कारिक आसन
Author Rating
51star1star1star1star1star
2017-08-19T20:00:50+00:00 By |Yoga & Pranayam|0 Comments

Leave a Reply