योगक्षेम का वहन (शिक्षाप्रद कहानी ) | Prerak Hindi Kahani

Home » Blog » Inspiring Stories(बोध कथा) » योगक्षेम का वहन (शिक्षाप्रद कहानी ) | Prerak Hindi Kahani

योगक्षेम का वहन (शिक्षाप्रद कहानी ) | Prerak Hindi Kahani

अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते ।
तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम् ॥
(गीता ९।२२)

‘जो अनन्यप्रेमी भक्तजन मुझ परमेश्वरको निरन्तर चिन्तन करते हुए निष्कामभावसे भजते हैं, उन नित्य-निरन्तर मेरा चिन्तन करनेवाले पुरुषोंका योगक्षेम मैं स्वयं प्राप्त कर देता हैं।’

कोई-कोई इस श्लोकका सर्वथा सकाम और निवृत्तिपरक अर्थ करते हैं और संसारयात्राकी कुछ भी चिन्ता न कर केवल भगवान पर  निर्भर रहते हुए भजन करना ही उचित मानते हैं। इसपर वे निम्नलिखित दृष्टान्त दिया करते हैं।
एक ईश्वरभक्त गीताभ्यासी निवृत्तिप्रिय ब्राह्मण थे। वे अर्थको समझते हुए समस्त गीताका बार-बार पाठ करने एवं भगवान के नामका जप तथा उनके स्वरूपका ध्यान करनेमें ही अपना सारा समय व्यतीत करते थे। वे एकमात्र भगवान पर ही निर्भर थे। जीविकाकी कौन कहे, वे अपने खाने-पीनेकी भी परवाह नहीं करते थे। उनके माता-पिता परलोक सिधार चुके थे। वे तीन भाई थे। तीनों ही विवाहित थे। वे सबसे बड़े थे और दो भाई छोटे थे। दोनों छोटे भाई ही पुरोहितवृत्तिके द्वारा गृहस्थीका सारा काम चलाया करते थे। एक दिनकी बात है, दोनों छोटे भाइयोंने बड़े भाईसे कहा-‘आप कुछसमय जीविकाके लिये भी निकाला करें तो अच्छा रहे।’

बड़े भाई बोले-‘जब सबका भरण-पोषण करनेवाले विश्वम्भर भगवान् सर्वत्र सब समय मौजूद हैं तब अपनी जीविकाकी चिन्ता करना तो निरा बालकपन है। भगवान ने गीताके नवम अध्यायके बाईसवें श्लोकमें स्वयं योगक्षेमके वहनका जिम्मा लिया है

अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते ।
तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम् ॥

इसलिये ‘भाई ! हमलोगोंको तो बस, अपने भगवान पर  ही निर्भर रहना चाहिये। वे ब्रह्मासे लेकर क्षुद्रातिक्षुद्र जीव-परमाणुतक सभीका भरण-पोषण करते हैं। फिर जो उनके भरोसे रहकर नित्यनिरन्तर उन्हींका स्मरण-चिन्तन करता है, उसका योगक्षेम चलानेके लिये तो वे वचनबद्ध ही हैं। हमलोगोंको तो नित्य गीताका अध्ययनाध्यापन और निरन्तर श्रद्धा-प्रेमपूर्वक भगवान का  भजनस्मरण ही करना चाहिये।’

दोनों भाइयोंने कहा-‘भाई साहेब ! आपका कहना तो ठीक है, पर जीविकाके लिये कुछ भी चेष्टा किये बिना, भगवान् किसीको घर बैठे ही नहीं दे जाते।’ बड़े भाईने विश्वासके साथ उत्तर दिया‘ श्रद्धा-विश्वास हो तो घर बैठे भी भगवान् दे सकते हैं। दोनों छोटे भाइयोंने कुछ झुंझलाकर कहा–’भाई साहेब ! बातें बनाने में कुछ नहीं लगता। हमलोग कमाकर लाते हैं तब घरका काम चलता है।
आप केवल पड़े-पड़े श्लोक रटना और बड़ी-बड़ी बातें बनाना जानते हैं। आपको पता ही नहीं, हमलोग कितना परिश्रम करके कुछ जुटा पाते हैं। आप जब हमलोगों से अलग होकर घर चलायेंगे, तब पता लगेगा; तब हम देखेंगे कि जीविकाके लिये प्रयत्न किये बिना आपका काम कैसे चलता है। बड़े भाईने धीरजके साथ कहा-‘भाई ! तुमलोग यही ठीक समझते हो तो बहुत आनन्द। मुझे अलग कर दो। मैं किसीपर भाररूप होकर नहीं रहना चाहता । भगवान् किस प्रकार मेरा निर्वाह करेंगे, इसे वे खूब जानते हैं।’ इसपर दोनों भाई निश्चिन्त-से होकर बोले-‘बहुत ठीक है। कल ही हम सबको अपने-अपने हिस्सेके अनुसार बँटवारा कर लेना चाहिये।’

बड़े भाईने कहा-‘जिस प्रकार तुमलोग उचित समझो, उसी प्रकार कर सकते हो; मेरी ओरसे कोई आपत्ति नहीं है। मैं तो तुमलोगों की राजी में ही राजी हूँ।’

दूसरे ही दिन दोनों भाइयोंने, जो कुछ सामान-सम्पत्ति थी, सबके तीन हिस्से कर दिये। ब्राह्मण भक्तके हिस्सेमें एक छोटा-सा कच्चा मकान, कुछ नकद रुपये और कुछ साधारण गहने-कपड़े तथा रसोईके बर्तन आदि आये। तीसरे हिस्सेकी यजमानोंकी वृत्ति भी उनके हिस्सेमें दे दी गयी । पर यजमानोंका यह हाल था कि उनके पास यदि कोई पुरोहित चला जाता तो भले ही उनसे कुछ ले आता; घर बैठे पुरोहित महाराजको कोई याद नहीं करता।

इस प्रकार जब तीनों भाई अलग-अलग हो गये, तब उस ब्राह्मण भक्तने अपनी पत्नीसे कहा-‘मेरे भाइयोंने हमलोगोंको जो कुछ भी दिया है, वह बहुत ही संतोषजनक है; किंतु अब हमें इस बातका पूरा ध्यान रखना चाहिये कि हम केवल भगवान पर ही निर्भर करें। किसीके भी घर जाकर कभी भी याचना न करें और न किसीके देनेपर ही कुछ ग्रहण करें । भगवान स्वयं योगक्षेम वहन करनेवाले हैं, वे ही हमारा योगक्षेम चलायेंगे। भाइयोंने जो कुछ दिया है, अभी तो उसीसे काम चलाना चाहिये

ब्राह्मणी ईश्वरकी भक्त और पतिव्रता थी। उसने पतिकी बात बड़े आदरके साथ स्वीकार की। उसने सोचा-‘अभी तो निर्वाहके लिये कुछ हाथमें है ही। इसके समाप्त होनेके बाद स्वामी जैसा उचित समझेंगे, अपने-आप ही व्यवस्था करेंगे।’

वे भगवद्भक्त ब्राह्मण प्रातःकाल चार बजे ही उठते और शहरसे एक मील दूर एक तालाबपर जाकर शौच-स्नान करते। फिर संध्यावन्दनके अनन्तर भगवान की  मानस-पूजा, जप, ध्यान करके सम्पूर्ण गीताका भावसहित अर्थको समझते हुए पाठ किया करते; इसके बाद दिनमें ग्यारह बजे घर लौटकर भोजनादि करते । भोजन करनेके पश्चात् पुनः दोपहरमें एक बजे वापस वहीं तालाबपर जाकर जप, ध्यान, स्वाध्याय करते। फिर सायंकाल चार बजे शौच-स्नान करके संध्यावन्दन करते । तदनन्तर मानस-पूजा करके सत्-शास्त्रोंका श्रद्धापूर्वक स्वाध्याय करते। सूर्यास्तके बाद भगवान के नामका जप और उनके स्वरूपका ध्यान किया करते थे। अन्तमें रातको आठ बजेके बाद घर लौटकर भोजन करते और फिर अपनी पत्नीसे सदालाप करके दस बजे शयन किया करते ।

उनकी साध्वी धर्मपत्नी भी दोनों समय पतिको भोजन कराकर स्वयं भोजन करती और प्रतिदिन पतिको नमस्कार करना, उसकी सेवा-शुश्रूषा करना, उनकी आज्ञाका पालन करना तथा ईश्वरका भजन-ध्यान करना अपना परम कर्तव्य समझती थी। इस प्रकार दोनोंका समय बीतता था। प्रतिदिन व्यय तो होता ही था। कुछ दिनों में उनके पास जो कुछ रुपये-पैसे थे, सब समाप्त हो गये। पत्नीने स्वामीसे कहा-‘रुपये सब पूरे हो गये हैं। पतिने पूछा-‘क्या गहने-कपड़े भी समाप्त हो गये ?’ पत्नीने कहा’ नहीं।’ इसपर ब्राह्मणीने सोचा-अभी गहने-कपड़ों से काम चलाने की स्वामीकी सम्मति है। अतएव वह उन्हें बेचकर घरका काम चलाने लगी । पर वे गहने-कपड़े भी कितने दिनके थे। वे भी समयपर शेष हो गये। फिर एक दिन पत्नीने कहा–‘गहने-कपड़े भी सबसमाप्त हो गये हैं।

‘ पतिने कहा- ‘कोई चिन्ता नहीं, अभी बर्तन-भाँड़े और मकान तो हैं ही।’ इससे ब्राह्मणीने समझा कि अभी स्वामीकी सम्मति मकान और बर्तनोंसे काम चलाने की है। उसने प्रसन्नता से मकान को बेच दिया और वे दूसरे किरायेके मकानमें चले गये। कुछ दिन इससे काम चला। इसके बाद बर्तन-भाँड़े भी बेच दिये, पर उनसे क्या होता । अन्तमें ब्राह्मणीके पास तन ढाँकनेके लिये एक साड़ी बची और ब्राह्मण देवताके लिये एक धोती और एक गमछा बचा। एक दिन ब्राह्मण देवता जब प्रातः चार बजे जंगल की ओर जाने लगे, तब पत्नीने बड़े विनीत-भावसे हाथ जोड़कर निवेदन किया-‘स्वामिन् ! अब सब कुछ शेष हो गया है। घर तो किराये का है, बर्तन-भाँड़े भी सब समाप्त हो चुके हैं। केवल आपकी यह गीताजीकी पोथी, धोती, गमछा और मेरी एक साड़ी बची है। आज भोजनके लिये घरमें अन्न भी नहीं है। जो कुछ था, कल शेष हो गया। ब्राह्मणने इसका कुछ भी उत्तर नहीं दिया और वे सदाकी भाँति जंगलकी ओर चल दिये।

सदाकी भाँति ही पंडितजी तालाबपर गये और शौच-स्नानसे निवृत्त हो उन्होंने संध्या-गायत्री-जप आदि नित्यकर्म किया। उसके अनन्तर जब वे गीताका पाठ करने लगे, तब उनके सामने वह अपना इष्ट श्लोक आया-

अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते ।
हि तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम् ॥
(९।२२)

उस दिन पंडितजी इस श्लोकको पढ़कर चौंक पड़े और इसे पढ़ते हुए मन-ही-मन विचार करने लगे कि ‘मालूम होता है, इस श्लोकमें भगवान के  वचन नहीं हैं, शायद क्षेपक होगा। यदि यह
भगवान का कथन होता तो भगवान् क्या मेरी सँभाल नहीं करते ? । मैं तो सर्वथा उन्हींपर निर्भर हूँ। उन्होंने आजतक मेरी सुधि जरा भी नहीं ली।’ यह समझकर ब्राह्मणने उस श्लोकपर हरताल लगा दी

और वे उस श्लोकको छोड़कर गीताका पाठ करने लगे।

ब्राह्मण देवताके हृदयके इस भावको देखकर सर्वहृदयेश्वर भक्तवाञ्छाकल्पतरु भगवान् तुरंत एक विद्यार्थीक रूपमें घोड़ेपर सवार होकर ब्राह्मणके घर उनकी धर्मपत्नीके पास पहुँचे और मिठाईका एक थाल भेटमें रखकर पूछने लगे-‘गुरुजी कहाँ हैं ?’
ब्राह्मण-पत्नीने कहा-‘यहाँसे एक मील दूर एक तालाब है, वे प्रतिदिन वहाँ शौच-स्नान और नित्यकर्म के लिये जाते हैं और लगभग ग्यारह बजे लौटते हैं, अभी दस बजे हैं, उनके आनेमें एक घंटेकी देर है। आप कौन हैं और यह मिठाई किसलिये लाये हैं ?’ विद्यार्थीने उत्तर दिया-‘मैं पंडितजीका शिष्य हूँ और गुरुजीकी तथा आपकी सेवाके लिये यह मिठाई लाया हूँ। इसे आप रख लें। ब्राह्मण-पत्नीने कहा-‘पंडितजी न तो किसीको शिष्य ही बनाते हैं।
और न किसीकी दी हुई वस्तु ही लेते हैं। मुझको भी उन्होंने किसीकी वस्तुको स्वीकार न करनेकी आज्ञा दे रखी है। इसलिये मैं किसीकी दी हुई कोई वस्तु नहीं ले सकती। इसे आप ले जाइये।’

विद्यार्थी ने कहा-‘आप जैसा कहती हैं, वैसा ही मैं भी मानता हैं। वे किसीको भी शिष्य नहीं बनाते, यह बात भी सही है। मुझको छोड़कर उन्होंने न तो किसीको शिष्य बनाया है और न बनायेंगे ही। मुझपर उनकी | विशेष कृपा है, इसीसे मुझको उन्होंने शिष्य माना है। केवल मैं एक ही उनका शिष्य हैं, इसके लिये मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ। ब्राह्मण-पत्नीने कहा-‘मैंने तो यह बात कभी नहीं सुनी कि उन्होंने आपको शिष्य बनाया है। मैं तो जानती हूँ कि उन्होंने किसीको शिष्य बनाया ही नहीं है, फिर मैं इस बातको कैसे मान लें कि आप उनके शिष्य हैं। जो भी कुछ हो, मैं इस मिठाईको किसी हालतमें भी स्वीकार नहीं कर सकती। पंडितजीके लौटनेपर आप उन्हें दे सकते हैं।’

विद्यार्थीने कहा-‘अच्छा, यह थाली यहाँ रखी है और मेरा घोड़ा भी यहीं बँधा है। मैं लौटकर पंडितजीसे मिल लूंगा।’ इसपर ब्राह्मण-पत्नीने उत्तर दिया-‘आप इस थालीको वापस ले जाइये, पंडितजीके आनेपर आप फिर ला सकते हैं। मैं पंडितजीकी आज्ञाके बिना इसे किसी हालतमें नहीं रख सकती।’ किंतु वे भगवान् तो विचित्र ठहरे। वे थालीको वहीं छोड़कर चल दिये। चलते समय ब्राह्मण-पत्नीने पूछा-‘अपना नाम-पता तो बतला दीजिये, जिससे पंडितजीके आनेपर यह मिठाईकी थाली आपके घर वापस पहुँचा दी जाय।’ विद्यार्थीने कहा-‘वे मुझे जानते हैं। उनकी मुझपर अत्यन्त कृपा है; क्योंकि मैं उनका एक ही शिष्य हूँ। मेरे सिवा दूसरा कोई शिष्य है ही नहीं। आप कह दीजियेगा कि आज प्रातःकाल जिसके मुँहपर आपने हरताल पोती थी, वही शिष्य आया था। इससे वे समझ जायँगे।’ इतना कहकर भगवान् चलते बने।

एक घंटेके बाद पंडितजी जंगलसे वापस लौटे और घरमें प्रवेश करते ही देखा कि एक थाली मिठाईसे भरी रखी है। पंडितजीने कुछ उत्तेजित-से होकर पूछा-‘यह मिठाई कहाँसे आयी, किसने दी और क्यों रखी गयी?’ ब्राह्मण-पत्नीने हाथ जोड़कर विनयपूर्वक उत्तर दिया-‘स्वामिन् ! मैंने नहीं रखी है। एक विद्यार्थी जबरन् इसे रख गया। वह कहता था कि मैं गुरुजीकी सेवाके लिये लाया हूँ। इसपर भी मैंने स्वीकार नहीं किया। परंतु वह जबरन् छोड़कर चला ही गया।’ ब्राह्मणने कहा–’तुम तो इस बातको जानती हो कि मैंने न तो आजतक किसीको शिष्य बनाया है और न बनाता ही हूँ।’

पत्नीने कहा-‘यह बात सत्य है। मैंने भी उससे कहा कि न तो पंडितजीने किसीको शिष्य बनाया है, न बनाते हैं और न बनायेंगे।’ इसपर उसने मेरी बातका समर्थन करते हुए कहा कि ‘मैं इस बातको जानता हैं। गुरुजीने मुझको छोड़कर किसीको शिष्य नहीं बनाया और न बनायेंगे। एकमात्र मैं ही उनका शिष्य हूँ। मुझपर उनकी विशेष दया है। इसीलिये मुझको उन्होंने शिष्य स्वीकार किया है। मैं विश्वास दिलाता हूँ कि यह मेरी बात सच्ची माननी चाहिये।’ इसपर भी मैंने तो यही कहा कि मैंने यह कभी नहीं सुना कि आपको उन्होंने शिष्य बनाया है। जो भी हो, मैं उनकी आज्ञाके बिना यह भेंट नहीं रख सकती, परंतु वह रखकर चल दिया।’ पंडितजीने कहा-‘उसका नाम-पता तो पूछना चाहिये था, जिससे उसके घर उसकी चीज वापस लौटा दी जाती ।’ ब्राह्मण-पत्नीने कहा- मैंने पूछा था; तब उसने यह कहा कि मुझको गुरुजी जानते हैं। आज प्रातःकाल ही उन्होंने मेरे मुँहपर हरताल पोती है, मुझे इतनी ही देरमें वे थोड़े भूल जायँगे। आप कह दीजियेगा कि जिसके मुँहपर आज प्रातःकाल हरताल पोती थी, वही आपका एकमात्र शिष्य भेट दे गया है। बस, इतना कहकर वह चला गया और कह गया कि मिठाईकी थाली यहीं रखी है, मेरा घोड़ा भी यहीं बँधा हुआ है। मैं फिर आकर गुरुजीसे मिल लूंगा।’

यह सुनते ही पंडितजीको रोमाञ्च हो आया और वे गद्गद होकर बोले-‘ब्राह्मणी ! तुम धन्य हो। वे तो साक्षात् भगवान् थे। तुम्हारा बड़ा सौभाग्य है, जो तुमको उनके साक्षात् दर्शन हुए। मैं अविश्वासी और हतभाग्य हैं, इसीलिये मुझको उन्होंने दर्शन नहीं दिये। मैंने एक दिन भी भूख सहन नहीं किया और अधीर होकर भगवान के  वचनोंपर हरताल पोत दी। गीता स्वयं भगवान के मुखसे निकली हुई है, उसपर हरताल पोतना सचमुच भगवान के मुखपर ही हरताल लगाना है।
आज गीताका पाठ करते समय जब यह श्लोक आया |

अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते ।
तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम् ॥(९।२२)

तब मुझ अविश्वासी के मनमें भगवान के वचनोंपर शङ्का हो गयी कि यदि सचमुच ये भगवान के वाक्य होते तो वे निश्चय ही मेरा योगक्षेम वहन करते; यह क्षेपक है। यह सोचकर मैंने उसपर हरताल पोत दी। मैं बड़ा ही नीच, पापी और अविश्वासी हूँ। मेरे हृदयमें यदि तनिक भी धैर्य होता तो मैं ऐसा नीच काम कभी नहीं करता। वे परम दयालु भगवान् तो सदा योगक्षेम चला ही रहे हैं। सब कुछ समाप्त होनेके साथ ही आ ही पहुँचे । हरताल लगानेके अपराधके कारण मैं उनके दर्शनसे वञ्चित रहा। तुम शुद्ध और अनन्य भक्त तथा पतिव्रता हो। इसलिये तुम्हें दर्शन दे गये। अब तो जबतक वे नहीं आते, तबतक मुझे चैन नहीं ।’ इसके बाद उनकी दृष्टि बाहरकी ओर गयी तो क्या देखते हैं कि घोड़ेपर भार लदा हुआ है। उन्होंने तुरंत जाकर भार उतारा और उसे अंदर लाकर देखने लगे। उसमें लाखों रुपयोंके रत्न भरे थे, ब्राह्मण यह देखकर अपने कृत्यपर पश्चात्ताप करने लगे। वे पुनः गद्गद हो गये और प्रेममें तन्मय होकर भागवतका यह श्लोक गाने लगे|
अहो बकी यं स्तनकालकूटं जिघांसयापाययदप्यसाध्वी।
लेभे गतिं धान्युचितां ततोऽन्यं कं वा दयालु शरणं व्रजेम ॥
(३।२।२३)

‘मुझे धिक्कार है कि ऐसे दीनबन्धु, पतितपावन, सबका धारणपोषण करनेवाले विश्वम्भर प्रभुपर मैंने झूठा दोष लगाकर अपनेको कलङ्कित किया। मैं तो अर्थका दास हैं। यदि मैं सचमुच प्रभुका दास होता तो मुझे भोजनाच्छादनकी चिन्ता ही क्यों होती और क्यों भगवान् मुझे संतुष्ट करनेके लिये यह रत्न-राशि दे जाते। मैं वास्तवमें यदि भगवान के तत्त्व-रहस्य को जानता, मेरा उनमें सच्चा प्रेम होता और मेरे मनमें अर्थकी कामना न होती तो वे मुझे ये रत्न देकर क्यों भुलाते।’ यों कहते-कहते ब्राह्मण आनन्दमुग्ध हो गये।

बहुत देर होते देखकर ब्राह्मणीने कहा-‘भगवान का  दिया हुआ प्रसाद तो पा लें।’ पंडितजी बोले-‘जब भगवान् यह कह गये हैं। कि हम आयेंगे, तब अब तो उनके आनेपर ही प्रसाद पाऊँगा।’ सायंकाल हो गया, पर भगवान् नहीं आये। तब ब्राह्मणीने फिर कहा–’अब तो प्रसाद पा लें।’ पंडितजी कब माननेवाले थे, उन्होंने फिर वही बात कह दी। अब रात्रिके दस बज गये, शयनका समय हो गया और भगवान् नहीं आये, तब ब्राह्मणीने पुनः विनयपूर्वक कहा-‘प्रसाद तो पा लीजिये। ब्राह्मणदेवताने फिर भी प्रसाद नहीं पाया और दोनों बिना कुछ खाये ही सो गये। | रातके ग्यारह बजे थे। दरवाजा खटखटाते हुए किसीने बड़े ही मधुर स्वरोंमें पुकारा–‘गुरु आनीजी ! गुरुआनीजी !द रवाजा खोलिये।’ ब्राह्मण-दम्पतिको अभी नींद तो आयी ही नहीं थी। सुमधुर स्वर तथा ‘गुरुआनी जी’ सम्बोधन सुनकर ब्राह्मणी चौंक पड़ी और आनन्दविह्वल होकर बोली-‘स्वामिन् ! लीजिये, आपके भगवान् आ गये हैं।’ ब्राह्मणने तुरंत दौड़कर दरवाजा खोला और वे भगवान के  चरणोंपर गिर पड़े। भगवान ने उनको उठाकर अपने हृदयसे लगा लिया। उस समय पंडितजीकी बड़ी विचित्र दशा थी। उनका शरीर रोमाञ्चित था, नेत्रोंसे आँसुओंकी धारा बह रही थी, हृदय प्रफुल्लित था और वाणी गद्गद थी। फिर भी वे किसी तरह धीरज धरकर बोले-‘नाथ ! मैं तो एक अर्थका दास हूँ। मुझ-जैसे पामर पर भी जो आपने इतनी कृपा की; इसमें आपका परम कृपालु स्वभाव ही हेतु है। यदि मेरे भाव और आचरणों की ओर ध्यान दिया जाय तो आपके दर्शन तो दूर रहे, मुझे कहीं नरकमें ठौर नहीं मिलनी चाहिये। मैंने आप-जैसे सर्वथा निर्दोष महापुरुष पर दोष लगाया—मुझ-जैसा अर्थ कामी नीच कोई शायद ही होगा। मैं तो अर्थके लिये ही आपको भजता था, तभी तो आपने मेरे संतोषके लिये ये रत्न दिये हैं। मैं बड़ा भारी सकामी हैं, इसीलिये तो मैंने आपको सांसारिक योगक्षेम चलानेवाला ही समझा, नहीं तो मैं पारमार्थिक योगक्षेमकी ही कामना करता। जो निष्कामभावसे केवल मात्र आप पर ही निर्भर हैं, वे तो इस योगक्षेम को भी नहीं चाहते; किंतु आप तो बिना उनके चाहे ही उनका योगक्षेम वहन करते हैं। मुझ-जैसे अभागे में ऐसी श्रद्धा, प्रेम, विश्वास और निर्भरता कहाँ, जो आप-जैसे महापुरुष के हेतुरहित अनन्य-शरण होता।’

भगवान् बोले-‘इसमें तुम्हारा कोई दोष ही नहीं है। तुम तो मुझपर ही निर्भर थे। मेरे आनेमें जो विलम्ब हुआ, यह मेरे स्वभावका दोष है, पर अभीतक तुमने भोजन क्यों नहीं किया ?’ पंडितजीने कहा-‘जब आप कह गये थे कि मैं फिर आकर मिलूंगा, तब बिना आपके आये मैं कैसे भोजन करता । आप भोजन कीजिये, उसके बाद हमलोग भी प्रसाद पायेंगे।’ भगवान ने कहा-नहीं-नहीं चलो हमलोग एक साथ ही भोजन करें। फिर ब्राह्मण-पत्नीने भगवान का  संकेत पाकर दोनोंको भोजन कराया। ब्राह्मणदेवताने अत्यन्त प्रेमविहल होकर प्रसाद पाया। भोजनके बाद भगवान् बोले-‘तुम्हारी जो इच्छा हो, सो माँग लो; तुम्हारे लिये कुछ दुर्लभ नहीं है।’ ब्राह्मणने कहा ‘जब आप स्वयं ही पधार गये, तब अब भी माँगना बाकी ही रहा क्या ? नाथ ! मैं तो यही चाहता हूँ कि अब तो मेरे मनमें योगक्षेमकी भी इच्छा न रहे और केवल आपमें ही मेरा अनन्य विशुद्ध प्रेम हो।’ भगवान् ‘तथास्तु’ कहकर अन्तर्धान हो गये। इसके बाद ब्राह्मण-पत्नीने भी प्रसाद पाया।

इधर जबसे उन छोटे भाइयोंने अपने ज्येष्ठ भ्राता भगवद्भक्त ब्राह्मणको अलग कर दिया था, तबसे वे उत्तरोत्तर नितान्त दरिद्री और दुःखी होते चले गये। उनकी इतनी हीन दशा हो गयी कि न तो उनको कहींसे कुछ उधार ही मिलता था और न माँगनेपर ही । जब उन्होंने सुना कि हमारे भाई इतने धनी हो गये हैं कि उनके द्वारपर सदा याचकोंकी भीड़ लगी रहती है, तब वे भी अपने भाईके पास गये। परम भक्त पंडितजीने भाइयोंको आये देखकर उन्हें हृदयसे लगा लिया और उनकी कुशल-क्षेम पूछी। उन्होंने उत्तरमें कहा‘आप-जैसे सज्जन पुरुषसे अलग होकर हमें कुशल कहाँ ? हम तो मुँह दिखाने लायक भी नहीं हैं। फिर भी आप हमलोगोंपर दया करके प्रेमसे मिलते हैं, यह आपका सौहार्द है।’ बड़े भाईने कहा–’नहीं-नहीं भैया ! ऐसा मत कहो। हम तीनों सहोदर भाई हैं। हमलोग कभी अलग थोड़े ही हो सकते हैं। यह तो एक होनहार थी। हमलोग जैसे प्रेमसे पहले रहा करते थे, अब भी हमें वैसे ही रहना चाहिये। संसारमें सहोदर भाईके समान अपना हितैषी और प्रेमी कौन है ? तुमलोगोंको लज्जा या पश्चात्ताप न करके पूर्ववत् ही प्रेम करना चाहिये। यह जो कुछ ऐश्वर्य देखते हो, इसमें भैया ! मेरा क्या है। यह सब श्रीभगवान की  विभूति है। जो कोई भी भगवान पर निर्भर हो जाता है, भगवान् सब प्रकारसे उसका योगक्षेम वहन करते हैं। जैसे बालक माता-पितापर निर्भर होकर निश्चिन्त विचरता है और माता-पिता ही सब प्रकारसे उसका पालन-पोषण करते हैं, उसी प्रकार, नहीं-नहीं, उससे भी बढ़कर भगवान् अपने आश्रितका पालन-पोषण और संरक्षण करते हैं। यही क्या, वे तो अपने-आपको ही उसके समर्पण कर देते हैं। अतः तुमलोगों को

अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते ।
तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम् ॥
(गीता ९।२२) ।

इस श्लोकमें कही हुई बातपर विश्वास करके नित्य-निरन्तर भगवान का  ही चिन्तन करना चाहिये तथा अर्थ और भावको समझकर नित्य श्रीगीताका अध्ययनाध्यापन करना चाहिये। | इसके बाद वे दोनों भाई बड़े भाईके साथ रहकर उनकी आज्ञाके अनुसार नित्य-निरन्तर जप, ध्यान तथा गीताका पाठ करने लगे एवं थोड़े ही समयमें भगवान की  भक्ति करके भगवत्कृपासे भगवान को  प्राप्त हो गये।

इस कहानी से यह शिक्षा ग्रहण करनी चाहिये कि भगवान पर  निर्भर होनेपर भगवान् योगक्षेमका वहन करते हैं। अतः हम भी इसपर विश्वास करके भगवान पर  निर्भर हो जायें। सबसे उत्तम बात तो यह है कि नित्य-निरन्तर भगवान्का निष्कामभावसे चिन्तन करना चाहिये। योगक्षेमकी भी इच्छा न करके भगवान में  केवल अहैतुक विशुद्ध प्रेम हो, इसीके लिये प्रयत्न करना चाहिये। किंतु यदि योगक्षेमकी ही इच्छा हो तो सच्चे-पारमार्थिक योगक्षेमकी इच्छा करनी चाहिये।

Leave A Comment

three × 5 =