गर्भावस्था में कभी न खायें यह चीज वरना हो सकती है बच्चे को हानि | What’s not safe to eat in pregnancy?

Home » Blog » Ahar-vihar » गर्भावस्था में कभी न खायें यह चीज वरना हो सकती है बच्चे को हानि | What’s not safe to eat in pregnancy?

गर्भावस्था में कभी न खायें यह चीज वरना हो सकती है बच्चे को हानि | What’s not safe to eat in pregnancy?

सगर्भावस्था में निषिद्ध आहार:Garbhavastha mein yh nahi Khayen

pregnancy Diet tips in hindi में सबसे पहले आप यह जाने ले की गर्भ रहने पर गर्भिणी / गर्भवती(garbhvati) किसी भी प्रकार के आसव-अरिष्ट (कुमारी आसव, दशमूलारिष्ट आदि), उष्ण-तीक्ष्ण औषधियों, दर्द-निवारक (पेन किलर) व नींद की गोलियों, मरे हुए जानवरों के रक्त से बनी रक्तवर्धक दवाइयों एव टॉनिक्स तथा हानिकारक अंग्रेजी दवाइयों आदि का सेवन न करें |

गर्भवती महिला के लिए भोजन में इडली, डोसा, ढोकला जैसे खमिरयुक्त, पित्तवर्धक तथा चीज, पनीर जैसे पचने में भारी पदार्थ नही होने चाहिये | ब्रेड, बिस्कुट, केक, नुडल्स (चाऊमीन), भेलपुरी, दहिवड़ा जैसी मैदे की वस्तुएँ न खाकर शुद्ध घी व आटे से बने तथा स्वास्थ्यप्रद पदार्थो का सेवन करे |

★ कोल्डड्रिंक्स व डिब्बाबंद रसों की जगह ताजा नीबू या आँवले का शरबत ले | देशी गाय के दूध, गुलकंद का प्रयोग लाभकारी है |

★ मांस, मछली, अंडे आदि का सेवन कदापि न करे |

★ आयुर्वेदानुसार सगर्भावस्था(garbhvati) में किसी भी प्रकार का आहार अधिक मात्र में न लें | षडरसयुक्त आहार लेना चाहिए परंतु केवल किसी एकाध प्रिय रस का अति सेवन दुष्परिणाम ला सकता हैं |

इसे भी पढ़े :गर्भवती महिला के लिए पुष्टिवर्धक संतुलित भोजन |Pregnancy health diet in Hindi

इस संदर्भ में चरकाचार्यजी ने बताया है |

१] मधुर(मीठा) : अधिक मात्र में सतत सेवन करने से बच्चे को मधुमेह (डायबिटीज), गूँगापन, स्थूलता हो सकती हैं |

२] अम्ल(खट्टा) : अधिक मात्र में खट्टे पदार्थ जैसे इमली. टमाटर, खट्टा दही , डोसा, खमीरवाले पदार्थ अतिप्रमाण में खाने से बच्चे का जन्म से ही नाक में से खून बहना, त्वचा व आँखों के रोग हो सकते हैं |

३] लवण (नमक) : ज्यादा नमक लेने से रक्त में खराबी आती है, त्वचा के रोग होते हैं | बच्चे के बाल असमय में सफेद हो जाते हैं, गिरते है, गंजापन आता है, त्वचा पर समय झुरियाँ पडती है तथा नेत्रज्योति कम होती है |

४] तीखा : अधिक मात्र में तीखी चीजों के सेवन से बच्चा कमजोर प्रकुति का, क्षीण शुक्रधातुवाला व् भविष्य में संतानोत्पत्ति में असमर्थ हो सकता है |

५] कडवा : अधिक मात्र में कडवे पदार्थों के सेवन से बच्चा शुष्क, कम वजन का व कमजोर हो सकता है |

६] कषाय(कसैले) : अति खाने पर श्यावता (नीलरोग) आती है, उर्ध्ववायु की तकलीफ रहती है |

सारांश यही है कि स्वादलोलुप न होकर आवश्यक संतुलित आहार लें |

श्रोत – ऋषि प्रसाद मासिक पत्रिका (Sant Shri Asaram Bapu ji Ashram)

2017-07-15T13:52:41+00:00 By |Ahar-vihar|0 Comments

Leave A Comment

5 × 3 =