पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

किचन संबंधित खास वास्तु टिप्स

Home » Blog » Vastu » किचन संबंधित खास वास्तु टिप्स

किचन संबंधित खास वास्तु टिप्स

महिलाओं का अधिकतम समय किचन में ही बीतता है। वास्तुशास्त्रियों के मुताबिक यदि वास्तु सही न हो तो उसका विपरीत प्रभाव महिला पर, घर पर भी पड़ता है। किचन बनवाते समय इन बातों पर गौर करें।

किचन की ऊँचाई 10 से 11 फीट होनी चाहिए और गर्म हवा निकलने के लिए वेंटीलेटर होना चाहिए। यदि 4-5 फीट में किचन की ऊँचाई हो तो महिलाओं के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। कभी भी किचन से लगा हुआ कोई जल स्त्रोत नहीं होना चाहिए। किचन के बाजू में बोर, कुआँ, बाथरूम बनवाना अवाइड करें, सिर्फ वाशिंग स्पेस दे सकते हैं।

किचन में सूर्य की रोशनी सबसे ज्यादा आए। इस बात का हमेशा ध्यान रखें। किचन की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें, क्योंकि इससे सकारात्मक व पॉजिटिव एनर्जी आती है।

– किचन हमेशा दक्षिण-पूर्व कोना जिसे अग्निकोण (आग्नेय) कहते है, में ही बनवाना चाहिए। यदि इस कोण में किचन बनाना संभव न हो तो उत्तर-पश्चिम कोण जिसे वायव्य कोण भी कहते हैं पर बनवा सकते हैं।

इसे भी पढ़े :वास्तु के अनुसार पूजा घर कहाँ और कैसे होना चाहिये |

– किचन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा प्लेटफार्म हमेशा पूर्व में होना चाहिए और ईशान कोण में सिंक व अग्नि कोण चूल्हा लगाना चाहिए।

– किचन के दक्षिण में कभी भी कोई दरवाजा या खिड़की नहीं होने चाहिए। खिड़की पूर्व की ओर में ही रखें।

– रंग का चयन करते समय भी विशेष ध्यान रखें। महिलाओं की कुंडली के आधार पर रंग का चयन करना चाहिए।

– किचन में कभी भी ग्रेनाइट का फ्लोर या प्लेटफार्म नहीं बनवाना चाहिए और न ही मीरर जैसी कोई चीज होनी चाहिए, क्योंकि इससे विपरित प्रभाव पड़ता है और घर में कलह की स्थिति बढ़ती है।

– किचन में लॉफ्ट, अलमारी दक्षिण या पश्चिम दीवार में ही होना चाहिए।

– पानी फिल्टर ईशान कोण में लगाएँ।

keywords – vastu in hindi ,vastu shastra for home entrance ,vastu shastra tips for home in marathi, vastu for home , vastu in tamil ,vastu bedroom ,vastu shastra for kitchen ,vastu in telugu ,वास्तु ,शास्त्र के अनुसार शौचालय , वास्तुशास्त्र के अनुसार घर का नक्शा ,पश्चिम मुखी ,वास्तु के अनुसार सीढ़ी ,वास्तुशास्त्र के नियम ,वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का मुख्य द्वार ,वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का रंग ,पूर्व मुखी घर,वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का नक्शा ,वास्तु शास्त्र मराठी ,वास्तु शास्त्र के टोटके ,वास्तु दोष ,वास्तु शास्त्र के अनुसार दुकान ,घर वास्तु टिप्स ,४०० वास्तु टिप्स इन हिंदी ,सरल वास्तु शास्त्र ,vastu tips in marathi ,400 vastu tips in hindi ,vastu tips in hindi for home construction ,vastu shastra tips for money ,vastu tips in hindi for wealth ,vastu tips in hindi for bedroom ,vastu tips in hindi for kitchen ,vastu tips in hindi for shop
2017-06-20T11:38:16+00:00 By |Vastu|0 Comments

Leave a Reply