hatheli ki jalan dur karane ke upay in hindi अक्सर कई लोगो को हाथो और पैरो में जलन होती हैं, वैसे तो ये समस्या गर्मियों में अधिक होती हैं, मगर कई बार
कुछ बीमारियो के कारण ये सर्दियों में भी होती हैं। आज हम आपको बताएँगे इसके कारण और इसके सरल उपचार।

जलन होने पे करे उपचार : hatheli ki jalan dur karane ke gharelu upay

1* जिन्हे हाथ-पैर, तालुओं और शरीर में अक्सर जलन की शिकायत रहती हो उन्हे करीब ५ कच्चे बेल के फलों के गूदे को २५० मिली नारियल तेल में एक सप्ताह तक डुबोए रखना चाहिए और बाद में इसे छानकर जलन देने वाले शारीरिक हिस्सों पर मालिश करनी चाहिए, अतिशीघ्र जलन की शिकायत दूर हो जाएगी।

2* लौकी या घीया को काटकर इसका गूदा पैर के तलवों पर मलने से जलन दूर होती है।

3* हथेली व पैरों के तलवों में जलन होने पर करेले के पत्तों के रस की मालिश करने से लाभ होता है।

4* करेले के पत्ते पीस कर लेप करने से भी लाभ होता है।

5* गर्मी के दिनों में जिन लोगों के पैरों में निरंतर जलन होती है उन्हे पैरों में मेहंदी लगाने से लाभ होता है।

6* हाथ-पैरों में जलन आम की बौर रगडऩे से मिट जाती है।

7* तलवों, हाथ पैरों में जलन हो तो देशी घी मलने से मिट जाती है।

8* मक्खन और मिश्री समान मात्रा में मिलाकर दो चम्मच मिश्रण रोज चाटें।

9* सुखी धनिया और मिश्री समान मात्रा में मिलाकर पीस लें। इस मिश्रण की दो चम्मच मात्रा ठंडे पानी से रोज चार बार लें।

10* शरीर में किसी भी भाग या हाथ-पैर में जलन हो तो तरबूज के छिलके के सफेद भाग में कपूर और चंदन मिलकर लेप करें। जलन से शांति मिलेगी।

 विशेष : अच्युताय हरिओम गुलकंद ,अच्युताय हरिओम पलाश शर्बत ,अच्युताय हरिओम गुलाब सर्बत ,अच्युताय हरिओम आमला मिश्री चूर्णरसायन चूर्ण   शरीर की गर्मी को दूर करता है व इसके सेवन से हथेली व पैरों के तलवों में जलन दूर होती है |

इसे भी पढ़ें –  हाथ व पैरों के तलवे मे होने वाली जलन को दूर करेंगे यह 11 घरेलु उपचार |

keywords – hatheli me jalan, पैर के तलवों में जलन ,हाथो मे जलन ,हथेली में जलन ,शरीर में जलन का कारण ,तलवा में जलन ,पैरों के तलवों में दर्द ,तलवों में जलन के कारण ,शरीर मे जलन होना ,hatheli ki jalan dur karane ke upay in hindi,burning sensation in hands and feet home remedies ,talvon mein jalan ,pairo me jalan ka upay ,paon ki jalan ka ilaj in hindi ,body me jalan in hindi ,sarir me jalan, hath me jalan