गर्मियों में लाभदायक स्वादिष्ट रसीले ताजे शर्बत | Refreshing Summer Drinks

गर्मी से राहत देंगे यह जायकेदार शरबत : Cool Drinks to Beat Hot Summer Days

शरीर में पानी की कमी को केवल पानी ही दूर कर सकता है। पर केवल पानी ही प्यास बुझाने के लिए काफी नहीं होता। शरीर में नमी अधिक देर तक बनी रहे इसके लिए कई प्राकृतिक विकल्प मौजूद हैं।

नारियल पानी / Nariyal Pani

पानी वाला नारियल समूचे उत्तर भारत में मिलता है। इससे अधिक तेजी से तरोताजा करने वाला कोई ड्रिंक अब तक नहीं बना है। कच्चे हरे नारियल के एक गिलास पानी को सर्वश्रेष्ठ प्राकृतिक हैल्थ ड्रिंक माना जाता है। शरीर से विषैले पदार्थों को निकाल बाहर करने में यह बेजोड़ है। यह शरीर की पीएच वैल्यू भी कायम रखता है। इसे किसी भी बीमारी से ग्रस्त मरीज को दिया जा सकता है।

फालसा का शर्बत / False ka Sharbat

aam pannaफालसा के शर्बत के सेवन से आमाशय व हृदय को बल मिलता है और जीगर की गर्मी को हटाता है। इसकी तासीर ठण्डी होती है जिससे ये हमारे शरीर को गर्मियों में ठण्डा रखता है| फालसे के स्वाद में खट्टापन, मीठापन तथा कड़वापन तीनों होता है | फालसे में बहुत सारे खनिज लवण जैसे – पोटैशियम , कैल्शियम , मैग्नशियम ,सोडियम , फॉस्फोरस, लोहा, प्रोटीन , विटामिन- ए और सी आदि भरपूर मात्रा में पाये जाते हैं |

सब्जा शरबत / Sabja Seeds sharbat

सब्जा शरबत स्वादिष्ट और ताजगी देने वाला ग्रीष्मकालीन पेय है। यह ना केवल पाचन के लिए अच्छा है बल्कि यह आपको गर्मी के कारण निर्जलीकरण से बचाने में भी मदद करता है।

लौकी का रस / Lauki ka juice

लौकी का रस शीतलता प्रदान करने वाला चमत्कारिक पेय है। यूनानी चिकित्सा पद्धति में लौकी का रस गर्मियों के मौसम की मार से बचाने के लिए सबसे अधिक मरीजों को सुझाया जाता है। यह विटामिन सी और बी-6 का बहुत अच्छा स्रोत है। इसमें आवश्यक खनिज जैसे कैल्शियम, आयोडीन, मैग्नेशियम, फास्फोरस और पोटेशियम भी भरपूर होते हैं। सुबह खाली पेट एक गिलास लौकी का रस दिन भर के लिए शीतलता प्रदान करता है। इसमे एक चुटकी नमक डालने से शरीर में सोडियम की कमी नहीं होती। यह प्यास को शांत करता है तथा संतुष्टि देता है। पेट रोग तो इससे दुरुस्त होते ही हैं।

पलाश का शर्बत / Palash Sharbat

आयुर्वेद में पलाश के पेड़ को ब्रह्मवृक्ष का नाम दिया गया है। यह गुणकारी वृक्ष इंसान को कई तरह की व्याधियों से बचाने में मदद करता है। इसका अर्क नेत्रज्योति बढ़ाता है तथा बुद्धिवर्धक भी है। इसके सेवन से पित्त दोष संतुलित रहता है तथा पित्तजन्य रोगों से मुक्ति मिलती है।

आम का पना / Aam ka Panna

आने वाले मौसम में आम से पहले कैरियां आने लगती हैं। पोदीने के साथ इसे पीसकर पिया जाता है। लू लगने से बचने के लिए आम का पन्हा सर्वश्रेष्ठ उपाय माना जाता है। इसमें विटामिन-सी, बी-1, बी-2, और नियासीन होते हैं। इससे नमक और लौह तत्वों की कमी नहीं होने पाती। हाजमा दुरुस्त रखने में भी आम का पन्हा बेजोड़ होता है।

गुलाब का शरबत / Gulab Sharbat

gulab sharbatगर्मी के मौसम में गुलाब का शरबत शरीर को तरोताजगी से भरपूर कर देने वाला होता है. गुलाब शर्बत का सेवन आपके दिल और दिमागको ठंडक पहुंचाता है|

गन्ने का रस / Ganne ka Ras

ग्लूकोज का यह सबसे बड़ा स्रोत माना जाता है। एक गिलास गन्ने के रस से तत्काल ऊर्जा मिलती है। धूप और पसीने के कारण शरीर से निकल रहे खनिज लवणों की आपूर्ति भी इससे होती है। लौह तत्वों का बड़ा स्रोत माना जाता है। यदि आप मधुमेह के रोगी हैं तो इसे चिकित्सक की सलाह से लें।

नींबू शरबत / Nimbu Sharbat

नींबू शरबत से शरीर को आवश्यक नमक और शक्कर के रूप में ऊर्जा मिल जाती है। विटामिन सी का तो इसे खजाना ही कहा जाता है। इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली मजबूत हो जाती है।

पपीते का रस / Papite ka Juice

पपीते का रस मांसाहारियों ओर कमजोर हाजमें वाले रोगियों के लिए लाभदायक होता है। जिन मरीजों कों प्रोटीन पचाने के लिए आवश्यक एन्जाइम सप्लिमेंट्स चाहिए यह उनमें मदद करता है। गर्भवती महिलाओं को इसे नहीं पीना चाहिए।

तरबूज का रस / Tarbuj ka Juice

तरबूज अरब मुल्कों से हिन्दुस्तान पहुंचा है। इसे प्यास बुझाने वाले महत्वपूर्ण शरबत में शामिल किया गया है। इसमें इलेक्ट्रोलाइट्स भी खूब होते हैं जिससे सोडियम और पोटेशियम की कमी नहीं होने पाती। यह दोनों लवण पसीने के साथ शरीर से निकल जाते हैं।

 

Leave a Comment