नुसखे : जानिये स्मरण शक्ति कैसे बढायें | How to Increase Memory Power

Last Updated on February 17, 2017 by admin

• सोंठ का मगज, मिश्री तथा बादाम गिरी इन तीनों की ढाई -ढाई सौ ग्राम की मात्रा में लेकर अच्छी तरह से पीसकर चूर्ण बना लें। रात को सोने से पहले 10 ग्राम की मात्रा में चूर्ण की फंकी दूध के साथ चालीस दिनों तक लगातार लेने से याददाश्त अच्छी होने के साथ आंखों की रोशनी भी बढ़ जाती है।

• आधा लीटर पानी में 125 ग्राम धनिया कूट कर उबालें। जब पानी चौथाई भाग रह जाये तब छानकर 125 ग्राम मिश्री मिलाकर फि गर्म करें। जब गाढ़ा हो जाये तो उतार लें। यह प्रतिदिन दस ग्राम चाटें। इससे मस्तिष्क की कमजोरी तो दूर होती ही है याददाश्त भी अच्छी हो जाती है।

• गाय के दूध की छाछ में मुलहठी की जड़ का चूर्ण मिलाकर कुछ दिनों तक नियमित पीने से मस्तिष्क की कमजोरी तो दूर होती ही है साथ ही स्मरण शक्ति भी तेज हो जाती है।

• स्मरण शक्ति की कमी, दिमागी कमजोरी तथा गुर्दे की खराबी में भोजन करने से पहले एक मीठा सेब बिना छीले खाने से लाभ होता है। इससे दुर्बलता भी दूर होती है।

• 5 ग्राम दालचीनी पानी के साथ सुबह-शाम नियमित प्रयोग करने से दिमागी कमजोरी दूर हो जाती है। स्मरण शक्ति में वृद्घि होती है।

• अखरोट स्मरण शक्ति बढाने में सहायक है। 20 ग्राम अखरोट और साथ में 10 ग्राम किशमिश रोजाना लेना चाहिये।

• अलसी का तेल आपकी एकाग्रता बढाता है, आपकी स्मरण शक्ति तेज करता है तथा सोचने समझने की शक्ति को भी बढ़ाता है। नियमित रूप से अलसी के तेल के सेवन से आपको मष्तिष्क सम्बन्धी कोई विकार नहीं रहेगा।

• ब्रह्मी दिमागी शक्ति बढाने की मशहूर जड़ी-बूटी है। इसका एक चम्मच रस नित्य पीना हितकर है। इसके 7 पत्ते चबाकर खाने से भी वही लाभ मिलता है। ये दिमाग की शक्ति घटने पर रोक लगती है।

• बादाम 5 नग रात को पानी में गलाएं। सुबह छिलके उतारकर बारीक पीस कर पेस्ट बना लें। अब एक गिलास दूध गरम करें और उसमें बादाम का पेस्ट घोलें। उतारकर मामूली गरम हालत में पीएं। यह मिश्रण पीने के बाद दो घंटे तक कुछ न लें।

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!
Share to...