जानिये क्या है फिजीओथेरपी और इसके फायदे – Physiotherapy in Hindi

फिजीओथेरपी का इतिहास (History of Physiotherapy in Hindi)

फिजीओथेरपी 460 ईसा पूर्व से है। हिप्पोक्रेट्स और बाद में गैलेन जैसे चिकित्सक फिजीओथेरपी के पहले चिकित्सक माने जाते हैं। वे 460 ई.पू. में लोगों के इलाज के लिए मैनुअल थेरपी तकनीक और जल चिकित्सा प्रयोग करते थे। विश्व युद्ध के दौरान कई महिलाएं घायल सैनिकों को शारीरिक स्वास्थ्य बहाल करने हेतु बिना दवाइयों के इस ‘फिजीओथेरपी’ के लिए प्रशिक्षित हुईं।

फिजीओथेरपी क्या है ? (What is Physiotherapy in Hindi)

फिजीओथेरपी एक उपचार पद्धति के रूप में परिभाषित की जा सकती है जो विज्ञान की गतिविधि पर ध्यान केंद्रित करती है और लोगों को शारीरिक समस्याओं को हल करके उनकी शारीरिक शक्ति, कार्य, गति और समग्र सुख को बहाल करने में मदद करती है।

आज लोग बिना दवा और गैर शल्यचिकित्सा के विकल्प की ओर बढ़ रहे हैं जहाँ कोई दुष्प्रभाव नहीं है। फिज़ीओ थेरपिस्ट चोट, बीमारी या विकलांगता से प्रभावित लोगों को व्यायाम, मैनुअल थेरपी, शिक्षा और सलाह के माध्यम से प्रभावित करते हैं। यह सभी उम्र के लोगों को स्वास्थ्य बनाए रखने में मदद करती हैं, रोगियों के दर्द का प्रबंधन करने और रोग को रोकने में मदद करती हैं। यह विकास को प्रोत्साहित करती हैं और स्वास्थ्य लाभ की सुविधा देती हैं, जिससे कि लोग काम करते रहें।

फिजियोथेरेपी के स्वास्थ्य लाभ (Physiotherapy Ke Fayde in Hindi)

फिजियोथेरेपी के फायदे निम्लिखित है –

  1. चोट और विकलांगता के उपचार में सहायक ।
  2. दर्द को कम करना और मरीज़ को दर्द मुक्त बनाने और उनके जीवन में सुख वापस लाने में मदद करना।
  3. तीव्र और पुरानी स्थितियों को प्रबंधित करना।
  4. शारीरिक कार्य छमता को सुधारना ।
  5. चोट को ठीक करना और रोग या विकलांगता के प्रभाव को कम करना।
  6. चोटों की फिर से घटना को रोकने के लिए रोगियों को शिक्षित करना।
  7. प्रभावित जोड़ों में सामान्य गति के रखरखाव रखना।
  8. कमजोर मांसपेशियों में शक्ति और कार्य का सुधार करना।

मरीज़ों को स्वास्थ्य संबंधी विभिन्न प्रकारों के लिए फिज़ीओ थेरपिस्ट से बहमूल्य सहायता प्राप्त करने के लिए भेजा जा सकता है।

इन स्वास्थ्य समस्याओं में कारगर है फिजियोथेरेपी :

फिज़ीओथेरपिस्ट निम्नलिखित स्थितियों से संबंधित उपचार प्रदान करता हैं –

कार्डियोरेस्पिरेटरी :

1) फिजीओथेरपी का लक्ष्य है फेफड़ों को साफ करना, साँस लेने के प्रयास को कम करना और व्यायाम सहिष्णुता में सुधार करना। श्वसन संबंधी जटिलताओं को रोकने या हल करने के लिए यांत्रिक वेंटिलेशन की आवश्यकता वाले रोगियों के लिए फिजीओथेरपी महत्वपूर्ण है।

2) यह उन बीमारियों और चोटों से ग्रस्त लोगों के लिए समर्थन, रोकथाम और पुनर्वास भी प्रदान करता है जो हृदय और फेफड़ों से प्रभावित है, जैसे कि – अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, परिधीय संवहनी (peripheral vascular) रोग, मायोकार्डियल इन्फाक्र्शन, हृदय या वाल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी, कार्डियक या वाल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी।

3) कार्डियक सर्जरी के बाद पुनर्स्थापना में फिजीओथेरपी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। फिजीओथेरपी कार्यक्रम मरीजों और उनके रिश्तेदारों को जीवनशैली में सुधार के लिए शिक्षित करने के लिए बनाया गया है ताकि ऑपरेशन के बाद उपयुक्त स्वास्थ्य लाभ जल्दी से प्राप्त किया जा सके और जोखिम को कम किया जा सके।

4) जिन रोगियों ने हृदय की सर्जरी करवाई है वे अक्सर ऐसी गतिविधियाँ शुरू करने के बारे में आशंका करते हैं जो पहले उन्हें दर्द या साँस लेने की वजह से थीं। ऐसे मरीज विशेषज्ञ फिज़ीओथेरपिस्ट के तहत गतिविधि को फिर से शुरू कर सकते हैं। हृदय और फेफड़े संबंधी पुनर्वास कार्यक्रमों का पर्यवेक्षण एक महत्वपूर्ण लक्ष्य है।

मस्तिष्क कोशिका :

मस्तिष्क कोशिका फिजीओथेरपी भौतिकी शोधन का एक विशेष क्षेत्र है, जो चोटों का सामना करते हैं जो मांसपेशियों, जोड़ों और कोमल ऊतकों को प्रभावित करते हैं।
चोट जिनका मस्तिष्क कोशिका फिजीओथेरपी द्वारा इलाज किया जा सकता है इसमें शामिल हैं –

  • अस्थिबंधन (लिगामेंट) मोच
  • मांसपेशियों में खिंचाव
  • गठिया
  • कर्टिलेज
  • सर्जरी के पहले और बाद का पुनर्वास
  • फ्रैक्चर पुनर्वास
  • पीठ दर्द

तंत्रिकासंबंधी (न्यूरोलॉजिकल) :

आपके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी सहित आपकी केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का खराब होने का अर्थ है कि आपके मस्तिष्क के संदेश आपके शरीर के प्रभावित हिस्सों तक नहीं पहुँच पा रहे हैं। इसके परिणामस्वरूप गतिविधि में कमी और उत्तेजना, गैर संयोजित गतिविधियों, कमजोर और निष्क्रिय मांसपेशियों, ऐंठन और कँपकँपी हो सकती है।
न्यूरोलॉजिकल फिजीओथेरपी संदेश के मार्गों को चालू करके शुरू करने में सक्षम बनाता है, जो आपका मस्तिष्क उपयोग करने के लिए संघर्ष कर रहा था, दोहरावदार क्रियाओं और अभ्यासों के माध्यम से नए रास्ते बनते हैं।

सामान्य तंत्रिका (न्यूरोलॉजिकल) स्थितियों में शामिल हैं –

  • कार्यात्मक तंत्रिका संबंधी विकार
  • स्ट्रोक, सीवीए या टीआईए
  • रीढ़ की हड्डी और दर्दनाक मस्तिष्क की चोटें
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस
  • पार्किनसन्स रोग

महिला स्वास्थ्य :

स्वभाव से महिलाएँ देखभाल करनेवाली होती हैं और कई अवसर आते हैं जब वह अपने प्रियजनों की मदद के लिए अपने स्वास्थ्य के साथ लापरवाही बरतती हैं। स्थिति पुरानी होने पर स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं का कारण बन सकती है। स्वास्थ्य की स्थिति को पहचानने के बाद दवाइयों को लेने से बहुत बेहतर है निवारक स्वास्थ्य देखभाल करना।

महिला स्वास्थ्य फिजीओथेरपी महिलाओं को प्रभावित करनेवाली विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं के लिए विशिष्ट गैर-सर्जिकल चिकित्सीय उपचार की सुविधा प्रदान करती है। जैसे – गर्भावस्था, जन्म, प्रसवोत्तर देखभाल, स्तनपान, रजोनिवृत्ति, नींद में पेशाब करने की बीमारी, फैला हुआ मूत्राशय या आतों से संबंधी मुद्दों को देखना।

‘एक फिज़ीओ थेरपिस्ट के पास वैज्ञानिक का दिमाग, एक मानवता से भरा दिल और एक कलाकार का हाथ होता है।’

Leave a Comment