करेला खाने की सही विधि व उसके चमत्कारिक औषधीय प्रयोग | karela khane ke fayede

Home » Blog » Herbs » करेला खाने की सही विधि व उसके चमत्कारिक औषधीय प्रयोग | karela khane ke fayede

करेला खाने की सही विधि व उसके चमत्कारिक औषधीय प्रयोग | karela khane ke fayede

करेला (karela) खाने के फायदे

★ स्वस्थ व निरोग शरीर के लिए खट्टे, खारे, तीखे, कसैले और मीठे रस के साथ – साथ कडवे रस की भी आवश्यकता होती है |
★ करेले में कडवा रस तो होता ही है, साथ ही यह अनेक गुणों को अपने भीतर सँजोये हुए हैं |
★ करेला (karela)पचने में हलका, रुचिकर, भूख, बढानेवाला, पाचक, पित्तनाशक, मल-मूत्र साफ़ लानेवाला, कृमिनाशक तथा ज्वरनाशक है |
★ यह रक्त को शुद्ध करता हैं, रोगप्रतिकारक शक्ति एवं हीमोग्लोबिन बढ़ाता हैं |
★ यकृत की बीमारियों एवं मधुमेह (डायबिटीज ) में अत्यंत उपयोगी है |
★ चर्मरोग, सूजन, व्रण तथा वेदना में भी लाभदायी है |
★ करेला कफ प्रक्रुतिवालों के लिए अधिक गुणकारी है |
★ स्वास्थ्य चाहनेवालों को सप्ताह में एक बार करेले अवश्य खाने चाहिए |

इसे भी पढ़े : चौलाई : खनिज व पोषक तत्वों से मालामाल चौलाई के 21 अदभुत औषधीय गुण

गुणकारी करेले (karela) की सब्जी :-

★ सब्जी बनाते समय कडवाहट दूर करने के लिए करेले के ऊपरी हरे छिलके तथा रस नहीं निकालना चाहिए | इससे करेले के गुण बहुत कम हो जाते हैं | कडवाहट निकाले बिना बनायी गयी सब्जी परम पथ्य है |

★ बुखार, आमवात, मोटापा, पथरी, आधासीसी, कंठ में सूजन, दमा, त्वचा-विकार, अजीर्ण, बच्चों के हरे-पीले दस्त, पेट के कीड़े, मूत्ररोग एवं कफजन्य विकारों में करेले की सब्जी लाभप्रद है |

करेले (karela)के औषधीय प्रयोग :-

मधुमेह ( डायबिटीज ) : आधा किलो करेले काटकर १ तसले में ले के सुबह आधे घंटे तक पैरों से कुचलें | १५ दिन तक नियमित रूप से यह प्रयोग करने से रक्त – शर्करा (ब्लड शुगर) नियंत्रित हो जाती है | प्रयोग के दिनों में करेले की सब्जी खाना विशेष लाभप्रद है |

तिल्ली व यकृत वृद्धि :
१] करेले का रस २० मि.ली., राई का चूर्ण ५ ग्राम, सेंधा नमक ३ ग्राम – इन सबको मिलाकर सुबह खाली पेट पीने से तिल्ली व यकृत (लीवर ) वृद्धि में लाभ होता है |
२] आधा कप करेले के रस में आधा कप पानी व २ चम्मच शहद मिलाकर प्रतिदिन सुबह – शाम पियें |

रक्ताल्पता : करेलों अथवा करेले के पत्तों का २ – २ चम्मच रस सुबह – शाम लेने से खून की कमी में लाभ होता हैं |

मासिक की समस्या : मासिक कम आने या नहीं आने की स्थिति में करेले का रस ४० मि. ली. दिन में २ बार लें | अधिक मासिक में करेले का सेवन नहीं करना चाहिए |

गठिया : करेले या करेले के पत्तों का रस गर्म करके दर्द और सूजनवाले स्थान पर लगाने व करेले की सब्जी खाने से आराम मिलता हैं |

तलवों में जलन : पैर के तलवों में होनेवाली जलन में करेले का रस लगाने या करेला घिसने से लाभ होता हैं |

विशेष : करेले का रस खाली पेट पीना अधिक लाभप्रद हैं | बड़े करेले की अपेक्षा छोटा करेला अधिक गुणकारी होता हैं |

सावधानियाँ : जिन्हें आँव की तकलीफ हो, पाचनशक्ति कमजोर हो,मल के साथ रक्त आता हो, बार – बार मुँह में छाले पड़ते हों तथा जो दुर्बल प्रकृति के हों उन्हें करेले का सेवन नहीं करना चाहिए | करेले कार्तिक मास में वर्जित हैं |

स्त्रोत – ऋषिप्रसाद

2017-06-25T16:00:33+00:00 By |Herbs|0 Comments