घमौरियां दूर करने के 24 सबसे असरकारक देसी आयुर्वेदिक उपचार | Ghamori Treatment in Hindi

Home » Blog » Disease diagnostics » घमौरियां दूर करने के 24 सबसे असरकारक देसी आयुर्वेदिक उपचार | Ghamori Treatment in Hindi

घमौरियां दूर करने के 24 सबसे असरकारक देसी आयुर्वेदिक उपचार | Ghamori Treatment in Hindi

घमौरियों के कारण लक्षण व घरेलु उपचार : Heat Rash: Causes,Symptoms & Home Remedies

घमौरी होने का कारण: Ghamoriyo ka karan

★ यह रोग अधिक गर्मी के कारण तथा शरीर की ठीक प्रकार से साफ़-सफाई न होने के कारण होता है।
★ यह रोग रोगी को कब्ज बनने के कारण भी हो सकता है।

घमौरी के लक्षण :Ghamoriyo ke lakshan

★ जब यह रोग किसी व्यक्ति को हो जाता है तो उसकी त्वचा पर छोटी-छोटी और लाल-लाल फुन्सियां निकलती हैं, जिसमें से कभी-कभी दूषित द्रव निकलने लगता है तथा इनमें खुजली भी होती रहती है।

घमोरियों में तुरंत आराम देने वाले घरेलु आयुर्वेदिक उपाय :Ghamoriyo ka ilaj in Hindi

१) घी:  गाय या भैंस के असली घी की पूरे शरीर पर मालिश करने से घमौरियां मिट जाती हैं और दुबारा कभी होती भी नहीं हैं।

२) तुलसी:  तुलसी(Basil)की लकड़ी को पीसकर चन्दन की तरह शरीर पर मलने से घमौरियां समाप्त हो जाती हैं।

३) समुदफेन:  समुदफेन के बारीक चूर्ण को गुलाबजल (rose water)में मिलाकर शरीर पर लगाने से घमौरियों से राहत मिलती है।

४) करेला चौथाई कप करेले के रस में 1 चम्मच खाने वाला मीठा सोडा मिलाकर दिन में 2 से 3 बार घमौरियों(Heat rash) पर लेप करने से घमौरियां मिट जाती हैं।

५) आम: कच्चे आम(Raw mango) को धीमी आंच में भूनकर इसके गूदे का शरीर पर लेप करने से घमौरियों में आराम होता है।

६) धनिया:  बर्फ के पानी में 50 ग्राम धनिये(coriander) के पानी को भिगो देना चाहिए। लगभग 5 घंटे बाद इस पानी को छानकर घमौरियों वाले स्थान पर लगाने से राहत मिलती है। यदि किसी छोटे तौलिये को इस पानी में भिगोकर घमौरियों पर रखा जाए तो रोगी को बहुत आराम मिलता है। इस प्रक्रिया को 2 दिन तक सुबह-शाम करने से घमौरियां नष्ट हो जाती हैं। इसके अतिरिक्त नींबू के रस में धनिया डालकर पीना भी घमौरियों में लाभकारी रहता है। ध्यान रहे कि घमौरियों के कारण शरीर में नमक की मात्रा कम होने लगती है। इसलिए नमक का सेवन अवश्य ही करना चाहिए। यदि रोटी में नमक और अजवायन को मिला लिया जाए तो भी घमौरियों में बहुत आराम मिलता है।

७) लहसुन: लहसुन की कलियों(Garlic buds)को पीसकर रस उसका रस निकाल लें। यह रस 3 दिन तक शरीर पर मलने से शरीर पर गर्मी से निकलने वाली घमौरियां मिट जाती हैं।

८) बर्फ : घमौरियां होने पर शरीर पर बर्फ मलने से ठंडक मिलती है।

९) मुलतानी मिट्टी शरीर पर मुलतानी मिट्टी का लेप करने से घमौरियां कुछ ही दिनों में मिट जाती हैं।

१०) नारियल: रोजाना सुबह और शाम नहाने के बाद नारियल के तेल में कपूर को मिलाकर पूरे शरीर पर मालिश करने से घमौरियां दूर हो जाती हैं।

११) मेहंदी:
★ शरीर में घमौरियां होने पर मेहंदी का लेप करने से घमौरियां कुछ ही समय में बिल्कुल खत्म हो जाती हैं।
★ नहाते समय पानी में मेहंदी के पत्तों को पीसकर मिला लें। इस पानी से नहाने से घमौरियां ठीक हो जाती हैं और रोगी को राहत मिलती है।

१२) नीम:
★ घमौरियां होने पर नीम की छाल को घिसकर चन्दन की तरह शरीर पर लगाने से घमौरियां कुछ ही समय में ठीक हो जाती हैं।
★ पानी में थोड़ी सी नीम की पत्तियां डालकर उबाल लें। इस पानी से नहाने से घमौरियां दूर हो जाती हैं।

१३) चंदन:
★ सफेद चंदन को पानी के साथ पीसकर शरीर पर लेप करने से घमौरियां ठीक हो जाती हैं।
★ गुलाबजल में चंदन और कपूर को घिसकर घमौरियों पर लगाने से आराम आता है।

१४) खसखस:  20 ग्राम खसखस को पीसकर पानी में मिलाकर घमौरियों पर लगाने से घमौरियों से राहत मिलती है। इसके अलावा 2 चम्मच खसखस के शर्बत को 1 कप पानी में मिलाकर दिन में 2-3 बार पीने से भी घमौरियों में लाभ होता है।

१५) अनानास: घमौरियां होने पर अनान्नास का गूदा शरीर पर लगाने से रोगी को आराम होता है।

१६)बड़हल :  बड़हल (बरहर) के पेड़ की छाल की फांट से त्वचा को धोने से घमौरियां और फुन्सियां ठीक हो जाती हैं।

१७) सरसों: पानी में बराबर मात्रा में सरसों का तेल मिलाकर सुबह और शाम मालिश करने से सिर्फ 3 दिनों में ही घमौरियां पूरी तरह से खत्म हो जाती है।

१८) नारंगी: नारंगी के छिलकों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें। इस पाउडर को गुलाबजल में मिलाकर शरीर पर लेप करने से घमौरियों में लाभ होता है।

घमौरी का प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा सरल उपचार: Ghamori Treatment in Hindi

1- घमौरियों का उपचार करने के लिए रोगी व्यक्ति को रात के समय में अपने पेड़ू पर गीली मिट्टी की गर्म पट्टी बांधनी चाहिए।
2- यदि रोगी व्यक्ति को कब्ज की शिकायत हो तो उसे प्रतिदिन सुबह के समय में एनिमा क्रिया करनी चाहिए ताकि उसका पेट साफ हो सके। इसके बाद रोगी को दिन में 2 बार अपने शरीर पर मिट्टी की गीली पट्टी का लेप करना चाहिए और जब यह लेप सूख जाए तब स्नान करना चाहिए।
3- इस रोग से पीड़ित रोगी को उत्तेजक पदार्थ वाला भोजन नहीं करना चाहिए। रोगी को हमेशा सादा भोजन ही करना चाहिए।
4- बारिश के पानी में स्नान करन से घमौरी का रोग जल्दी ही ठीक हो जाता है।
5- रोगी व्यक्ति को एक बर्तन में पानी भरकर उसमें नीम की पत्तियां डालकर उबालना चाहिए। फिर इस पानी को गुनगुना करके स्नान करना चाहिए। इस स्नान को प्रतिदिन दिन में 2 बार करने से घमौरियां ठीक हो जाती हैं।
6- रोगी व्यक्ति को सुबह के समय में नीम की 4-5 कच्ची पत्तियां चबाने से बहुत अधिक लाभ मिलता है।

विशेष : घमौरियों को दूर करने वाले अच्युताय हरिओम फार्मा के लाभकारी उत्पाद
अच्युताय हरिओम एलोवेरा जेल(Achyutaya Hariom AloeVera Gel)
अच्युताय हरिओम गुलकंद(Achyutaya Hariom Gulkand)
अच्युताय हरिओम नीम अर्क(Achyutaya Hariom Neem Ark)

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है