पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

kya kare kya na kare

Home » Blog » kya kare kya na kare

जानिए भद्रा काल कितना शुभ कितना अशुभ | Bhadra Kal Vichaar and Parihaar

2017-08-07T12:05:51+00:00 By |Adhyatma Vigyan, kya kare kya na kare|

भद्रा काल विचार : Bhadra Vichaar and Parihaar किसी भी मांगलिक कार्य में भद्रा योग का विशेष ध्यान रखा [...]

चन्द्रग्रहण – क्या करें, क्या ना करें | Chandragrahan kya kare, kya na kare

2017-08-07T10:53:18+00:00 By |Adhyatma Vigyan, kya kare kya na kare|

चंद्रग्रहण : Chandragrahan Chandragrahan kya kare, kya na kare यह सवाल हमेशा में यही सवाल सामने आता है की [...]

शास्त्रों के अनुसार तिथियों के निषिद्ध आहार |अगर खायेंगे तो होगा नुकसान |

2017-07-15T17:00:34+00:00 By |Ahar-vihar, kya kare kya na kare|

जानिये किन तिथियों में शास्त्रों ने क्या खाने से किया है मना | Kin Tithiyon me kya na khaye [...]

अगर जीवन मे सुख समृद्धि की चाह है तो इसे आपको पढ़ना चाहिये (बडे काम की जानकारी ..पूरा पढ़े )

2017-03-14T10:08:59+00:00 By |kya kare kya na kare, Successful LifeTips|

-आरती के समय कपूर जलाने का विधान है। घर में नित्य कपूर जलाने से घर का वातावरण शुद्ध रहता है, [...]

जीवनोपयोगी कुंजियाँ

2017-01-12T17:13:56+00:00 By |kya kare kya na kare, Students|

* अपने कल्याण के इच्छुक व्यक्ति को बुधवार व शुक्रवार के अतिरिक्त अन्य दिनों में बाल नहीं कटवाने चाहिए। बुधवार [...]

विविध रंगों का विविध प्रभाव

2017-07-21T23:01:59+00:00 By |kya kare kya na kare|

प्रत्येक रंग का अपना विशेष महत्त्व है एवं रंगों में परिवर्तन के माध्यम से अनेक मनोविकार तथा शारीरिक रोगों [...]

किसके आभूषण कहाँ पहनें ?

2017-01-05T18:58:25+00:00 By |kya kare kya na kare|

सोने के आभूषणें की प्रकृति गर्म है तथा चाँदी के गहनों की प्रकृति शीतल है। यही कारण है कि [...]

धन-सम्पत्ति के लिए क्या करें ?

2017-01-05T18:54:42+00:00 By |kya kare kya na kare|

घर के अंदर, लक्ष्मी जी बैठी हों ऐसा फोटो रखना चाहिए और दुकान के अंदर, लक्ष्मी जी खड़ी हों [...]

जन्मदिवस पर क्या करें ?

2017-01-05T18:48:27+00:00 By |kya kare kya na kare|

जन्मदिवस के अवसर पर महामृत्युंजय मंत्र का जप करते हुए घी, दूध, शहद और दूर्वा घास के मिश्रण की [...]

बालक जन्मे तो क्या करें ?

2017-01-05T17:49:14+00:00 By |kya kare kya na kare|

बच्चे के जन्मते ही नाभि-छेदन तुरंत नहीं बल्कि 4-5 मिनट के बाद करें। नाभिनाल में रक्त-प्रवाह बंद हो जाने [...]