पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

Spiritual experience

Home » Blog » Spiritual experience

आध्यात्मिक अनुभव : पाँच दिन में आठ बार मरे हुये जीवित मानव की मुलाकात !! Spiritual experience

2017-07-21T12:53:34+00:00 By |Spiritual experience|

★ डिप्टी इंजिनियर श्री जयंतिभाई को अभी अभी खतरनाक दिल का दिल का दौरा आ गया । सारा परिवार [...]

आध्यात्मिक अनुभव : गुरुगीता-पाठ और त्रिकाल संध्या-नियमों का प्रभाव | Spiritual experience

2017-07-14T11:08:18+00:00 By |Spiritual experience|

★ मैं आज से दो-ढाई वर्ष पूर्व संत श्री आसाराम जी बापू(Pujya Asaram Bapu Ji) के श्रीचरणों में आया [...]