जीवन को सुखमय बनाने के सरल उपाय :

1. पूर्व या उत्तर दिशा की तरफ मुँह करके पढ़ाई करें।
2. पूर्व या उत्तर दिशा की तरफ मुँह करके दवाई खाएं।
3. सीढ़ियों के नीचे शौचालय न बनायें, वरना घर में कोई न कोई बीमार रहेगा।
4. बीम के नीचे, न बैठे, न सोयें।
5. बीम के नीचे अगर बैठना या सोना जरुरी है, तो बीम के दोनों ओर कर्ण रेखा की तरह (diagonally, 45°) बांसुरी, बीम के दोनों और लगायें, बांसुरी के छेद नीचे की तरफ होने चाहिए।
6. बीम के दोनों ओर हरे गणपति लगा दें। |
7. दान देते वक्त मुँह पूर्व या उत्तर की और रखे, नीचे जमीन की ओर कदापि न देखें।
8. दहलीज पर खड़े होकर दान नहीं देना चाहिए।

( और पढ़े – पूजा के 55 जरुरी नियम)
9. मकान बनाने से पहले मैटीरियल (सामान) नैऋत्य कोण या वायव्य कोण में रखने से मकान जल्दी बनता है।
10. आँचल से औरते मुँह न पोछे ।
11. पानी पीकर गिलास उल्टा करके रखें।
12. हो सके तो पानी, व भोजन झूठा न छोड़ें।
13. रात को कपड़े बाहर न सुखायें।
14. मुख्य द्वार पर पौधे लगाएं।
15. झाडू, पोछा व कूड़ादान छुपा कर रखें।
16. रात के समये झाडू पोछा न करें।
17. तीन चीनी सिक्के या तीन तांबे के सिक्के लाल धागे में बांध कर गल्ले में रखें।
18. दिन में सूर्य की तरफ, रात में चाँद की तरफ मुँह करके खुले में कभी भी पेशाब, शौच न करें।
19. पलंग की चादर रोज बदलनी चाहिए।
20. जूते, चप्पल कभी भी उलटे नहीं रखने चाहिए।
21. गंदे कपड़े, धुले कपड़ों के साथ कदापि न रखें।
22. नल टपक रहा हो तो तुरंत ठीक करवाना चाहिए।
23. घर में कांटेदार पौधा न रखें।

( और पढ़ेजानिये किस मास में कौनसे देव की पूजा होती है विशेष फलदायी)
24. पंडितों को भोजन, जमीन पे, आसन बिछा कर कराना चाहिए।
25. पंडितों को भोजन उपरान्त दक्षिणा जरूर देनी चाहिए।
26. शाम को घर पर आने के बाद अपने उतरे कपड़ों पर गंगाजल का छींटा देने से, ऊपरी हवाओं, किसी का कुछ भी किया कराया, सब निष्फल होता है।
27. बैंक में जाते वक्त माँ लक्ष्मी का जाप करना चाहिए।
28, माँ लक्ष्मी की पजा में लाल चीजों का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करें।
29. शाम को जब भी घर आयें, खाली हाथ न आयें ।
30. गृहलक्ष्मी, रोजाना सुबह मुख्य द्वार पर एक लोटा जल अर्पित करें।
31. पानी में थोड़ा नमक मिलाकर कभी-कभी घर में पोछा लगाएं।
32. नित्य सुबह पहली रोटी गाय की व अंतिम रोटी कुत्ते की निकाले, लक्ष्मी प्राप्ति के लिए।
33. गाय को बासी खाना न खिलायें ।
34. देवताओं की मूर्ति के आगे प्रणाम करें।
35. अर्थी को देख कर हाथ जोड़ प्रणाम जरूर करें।
36. दान हमेशा सीधे हाथ से ही दें।
37. धार्मिक कार्यों में पत्नी को अपने दाईं ओर बिठायें।

( और पढ़ेआरती क्यों करें और कैसे करें)
38. सोते हुए आदमी के चरण स्पर्श नहीं करने चाहिए।
39. अपने दीपक को किसी अन्य के दीपक से नहीं जलाना चाहिए।
40. भूल कर भी पक्षियों को दाना अपनी छत पर न डालें, नकारात्मक ऊर्जा घर में आती है।
41. किसी भी धार्मिक स्थल से खाली पेट वापसी न लौटें।
42. घर में सुखा पौधा न रखे, यदि है तो मिट्टी सहित बहते जल में प्रवाहित कर दें।
43. बुधवार को किसी को कर्जा न दें।
44. घर से बाहर निकलते समय दाहिना पाँव पहले बाहर निकालें ।
45. कर्ज जल्दी चुकाने के लिए मंगलवार के दिन से कर्जा वापिस करना शुरु करो।
46. घर से निकलते समय खाली जेब न चलें।
47. बासी फूल घर में न रखें।
48. रोजाना पूजा से आत्म बल बढ़ता है।
49. रात्रि में चावल, दही और सत्तू का सेवन करने से लक्ष्मी का निरादर होता है। अतः रात्रि में इनका सेवन न करें।
50. सुबह कुल्ला किए बिना पानी या चाय न पीएं।
51. जूठे हाथों से या पैरों से कभी गौ, ब्राह्मण तथा अग्नि का स्पर्श न करें।
52. अपने घर में पवित्र नदियों का जल संग्रह कर के रखना चाहिए।
53. मकड़ी के जाले घर या दुकान में नहीं होने चाहिए।
54. घर में कभी भी टूटा कांच नहीं रखें।

( और पढ़ेघर में सुख-शांति के 17 उपाय)
55. पांच प्रकार के फलों के रस के तिलक से लोग प्रसन्न व अनुकूल होते हैं।
56. घर में दवाईयां एक बक्से में रखें, जगह-जगह दवाएं रखने से बीमारी बढ़ती है।
57. नकारत्मक सोच वाले लोगों के पास ज्यादा देर मत बैठे।
58. शाम के समय घर में अँधेरा न रखें।
59. पत्र व्यवहार करते वक्त कागजों पर हल्दी या केसर के छींटे मारें।
60. हेलो, नमस्ते की जगह राम-राम बोलें ।
61. औरत को सिर्फ अपने ससुर, पति और जेठ के ही, पैर छूने चाहिए।