पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

वास्तु टिप्स: कौन सा समय किस काम के लिए होता है शुभ?

Home » Blog » Vastu » वास्तु टिप्स: कौन सा समय किस काम के लिए होता है शुभ?

वास्तु टिप्स: कौन सा समय किस काम के लिए होता है शुभ?

सूर्य, वास्तु शास्त्र को प्रभावित करता है इसलिए जरूरी है कि सूर्य के अनुसार ही हम भवन निर्माण करें तथा अपनी दिनचर्या भी सूर्य के अनुसार ही निर्धारित करें।

1- सूर्योदय से पहले रात्रि 3 से सुबह 6 बजे का समय ब्रह्म मुहूर्त होता है। इस समय सूर्य घर के उत्तर-पूर्वी भाग में होता है। यह समय चिंतन-मनन व अध्ययन के लिए बेहतर होता है।

2- सुबह 6 से 9 बजे तक सूर्य घर के पूर्वी हिस्से में रहता है इसीलिए घर ऐसा बनाएं कि सूर्य की पर्याप्त रौशनी घर में आ सके।

इसे भी पढ़े : सफलता प्राप्ति के लिए स्वस्तिक के अचूक शास्त्रीय प्रयोग | Swastik for success

3- प्रात: 9 से दोपहर 12 बजे तक सूर्य घर के दक्षिण-पूर्व में होता है। यह समय  भोजन पकाने के लिए उत्तम है। रसोई घर व स्नानघर गीले होते हैं। ये ऐसी जगह होने चाहिए, जहां सूर्य की रोशनी मिले, तभी वे सुखे और स्वास्थ्यकर हो सकते हैं।

4- दोपहर 12 से 3 बजे तक विश्रांति काल(आराम का समय) होता है। सूर्य अब दक्षिण में होता है, अत: शयन कक्ष इसी दिशा में बनाना चाहिए।

5- दोपहर 3 से सायं 6 बजे तक अध्ययन और कार्य का समय होता है और सूर्य दक्षिण-पश्चिम भाग में होता है। अत: यह स्थान अध्ययन कक्ष या पुस्तकालय के लिए उत्तम है।

इसे भी पढ़े :एक सनातनी परंपरा जिसे हम कुछ भूल से गये | वास्तु शास्त्र | Vastu Tips

6- सायं 6 से रात 9 तक का समय खाने, बैठने और पढऩे का होता है इसलिए घर का पश्चिमी कोना भोजन या बैठक कक्ष के लिए उत्तम होता है।

7- सायं 9 से मध्य रात्रि के समय सूर्य घर के उत्तर-पश्चिम में होता है। यह स्थान शयन कक्ष के लिए भी उपयोगी है।

8- मध्य रात्रि से तड़के 3 बजे तक सूर्य घर के उत्तरी भाग में होता है। यह समय अत्यंत गोपनीय होता है यह दिशा व समय कीमती वस्तुओं या जेवरात आदि को रखने के लिए उत्तम है।

keywords – vastu in hindi ,vastu shastra for home entrance ,vastu shastra tips for home in marathi, vastu for home , vastu in tamil ,vastu bedroom ,vastu shastra for kitchen ,vastu in telugu ,वास्तु ,शास्त्र के अनुसार शौचालय , वास्तुशास्त्र के अनुसार घर का नक्शा ,पश्चिम मुखी ,वास्तु के अनुसार सीढ़ी ,वास्तुशास्त्र के नियम ,वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का मुख्य द्वार ,वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का रंग ,पूर्व मुखी घर,वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का नक्शा ,वास्तु शास्त्र मराठी ,वास्तु शास्त्र के टोटके ,वास्तु दोष ,वास्तु शास्त्र के अनुसार दुकान ,घर वास्तु टिप्स ,४०० वास्तु टिप्स इन हिंदी ,सरल वास्तु शास्त्र ,vastu tips in marathi ,400 vastu tips in hindi ,vastu tips in hindi for home construction ,vastu shastra tips for money ,vastu tips in hindi for wealth ,vastu tips in hindi for bedroom ,vastu tips in hindi for kitchen ,vastu tips in hindi for shop
2017-06-20T11:17:02+00:00 By |Vastu|0 Comments

Leave a Reply