गर्मी और लू से बचाव के 15 सबसे असरकारक देसी नुस्खे | Garmi se Bachne ke Upay in Hindi

गर्मी के मौसम में रखें सेहत का ख्याल :

गर्मी के आगमन के साथ ही कई तरह की परेशानियां शुरू हो जाती हैं। गर्मी के मौसम में बेचैनी का अनुभव होने पर मानसिक और शारीरिक रूप से मनुष्य कमजोर हो जाता है। ऐसी स्थिति में रोगी को शान्ति नहीं मिलती है। लोग इससे बचने के लिए तरह-तरह के उपाय करने लगते हैं। आइये जाने ऐसे उपाय हैं जिन्हें अपनाकर आप तेज गर्मी से राहत पा सकते हैं , शरीर की गर्मी दूर कर सकते है व साथ ही गर्मियों में लू लगने से अपने शरीर को बचा सकते है | तो आइये जाने गर्मियों में बचने के उपाय,शरीर की गर्मी दूर करने के आसान उपाय  ,लू से बचने का उपाय

गर्मी व लू से रक्षा करने वाले घरेलू उपाय : Garmi se Bachne ke Tips in Hindi

१ . नींबू Lemon: गर्मी के मौसम में अधिक प्यास लगने पर जंभारी या कागजी नींबू के रस को मिलाकर बना शर्बत बहुत ही उपयोगी होता है। इससे शरीर की गर्मी भी दूर होती है।

२ . इमली tamarind: अगर किसी को गर्मी के कारण या किसी बीमारी के कारण प्यास अधिक लगे तो उसको इमली के बीजों को पीसकर 1 से 3 ग्राम प्रतिदिन 2 से 3 बार पानी के साथ पिलायें। इससे प्यास कम लगेगी और शरीर को नमी के कारण गर्मी कम लगती है।

३ . कतीरा Katira: अगर शरीर को अधिक गर्मी महसूस हो तो उसके लिए कतीरा को पानी में भिगोकर मिश्री मिले शर्बत के साथ घोटकर सुबह-शाम सेवन करने से कम गर्मी लगती है व लू से रक्षा होगी ।

४. संतरा Orange: संतरे का रस 20 से 40 मिलीलीटर पानी में सही मात्रा मिलाकर पीने से शरीर को कम गर्मी लगती है। इससे शरीर को कम गर्मी लगने के अलावा सिर का दर्द भी बन्द हो जाता है।

५. आंवला : गर्मी में ऑवले का शर्बत पीने से बार-बार प्यास नहीं लगती तथा गर्मी और लू  के रोगों से बचाव होता है।

६ . केवड़ा Kewada: गर्मी से पैदा रोगों पर केवडे़ के पत्तों के रस में जीरा पीसकर चीनी मिलायें और सात दिनों तक पीते रहें।

७ . अनार Pomegranate: शक्कर की चाशनी में अनारदानों का रस डालकर कपडे़ से छान लें। आवश्यकता होने पर 20 मिलीलीटर शर्बत, 20 मिलीलीटर पानी के साथ पी लें। इससे उष्णपित्त नष्ट हो जाता है।

८ . नारियल Coconut: नारियल के तेल में पानी को अच्छी तरह मिलाकर सिर व पैरों के तलुवों पर मालिश करने से शरीर की गर्मी धीरे-धीरे शान्त होती है।

इसे भी पढ़े :
  आंतरिक गर्मी को तुरंत शांत करते है यह 10 घरेलु उपचार |
 काकी मुद्रा :शरीर की गर्मी को शांत कर ठंडक प्रदान करने वाली चमत्कारिक मुद्रा
 गर्मियों में क्या करें, क्या न करें ?

९ . टमाटर tomatoes: जिन सब्जियों का स्वभाव गर्म होता है, उनमें टमाटर मिलाकर खाने से उनका स्वभाव ठंड़ा हो जाता है। टमाटर को गर्मी में भी खाएं। कच्चा टमाटर सेवन करने से त्वचा की खुश्की समाप्त होती है। यह गर्मी को दूर करता है।

१० . अरीठे : अरीठे का फेन दिन में दो-चार बार लगाकर मलना चाहिए। इसके बाद गरम पानी से धो लेना चाहिए।

११ . सौंफ Fennel:

  • गर्मी अधिक लगने पर 2 से 4 ग्राम सौंफ को पीसकर, पानी में घोटकर मिश्री के साथ मिलाकर बार-बार पिलाने से गर्मी अधिक नहीं लगती है। इसके अलावा इसको पीने से मल-मूत्र की जलन आदि दूर हो जाती है।
  • जब गर्मी अधिक लगे तो सौंफ पीसकर सिर पर, ललाट पर लेप करने से सिर का दर्द, सिर की गर्मी और सिर के चक्कर आदि दूर हो जाते हैं।

१२ . गूलर :

  • पके हुए कीड़े रहित गूलरों में पिसी हुई मिश्री डालकर सुबह के समय खाने से गर्मी में ठंड़क मिलती है।
  •  गूलर के दूध में शक्कर डालकर पीने से गर्मी से मुक्ति मिलती है।

१३ . शर्करा : गर्मी के दिनों में शरीर की गर्मी व जलन दूर करने के लिए गम्भारी के फल का गूदे का ठंड़ा शर्बत बनाकर उसमें शर्करा मिलाकर पीने से लाभ होता है।

१४ . रतनपुरुष : गर्मी के मौसम में गर्मी से बचने के लिए 5 से 10 ग्राम रतनपुरुष की जड़ और मिश्री को मिलाकर रोजाना सुबह-शाम पानी के साथ लेने से मन में शान्ति और शरीर में शीतलता का अनुभव होता है।

१५ . गुलकन्द :

  • 5 से 20 ग्राम गुलकन्द (गुलाब के पत्तियों से बना) के साथ मिश्री मिलाकर शर्बत बनाकर पिलाने से शरीर की गर्मी दूर हो जाती है और शान्ति मिलती है। शरीर में निखार भी आता है। इसलिए खासकर बच्चों एवं स्त्रियों के लिए यह बहुत अच्छा होता है।
  • 10 ग्राम गुलकन्द को जल के साथ मिलाकर पीने से शरीर की गर्मी दूर हो जाती है।
  • 10 ग्राम गुलकन्द को शहद के साथ मिलाकर पीने से अधिक गर्मी लगना दूर हो जाता है।

(उपाय व नुस्खों को वैद्यकीय सलाहनुसार उपयोग करें)

 

Leave a Comment