श्री गुरु नानक देव जी और कोड़ी (बोध कथा)

श्री गुरु नानक देव जी और कोड़ी (बोध कथा)

एक बार श्री गुरु नानक देव जी जगत का उद्धार करते हुए एक गाँव के बाहर पहुँचे और देखा वहाँ एक झोपड़ी बनी हुई थी। उस झोपड़े में एक आदमी रहता था, जिसे कुष्‍ठ का …

Read more

दांतों के रोगों का सरल आयुर्वेदिक निदान

दांतों के रोगों का सरल आयुर्वेदिक निदान

१) नीम्बू के रस को ताजे जल में मिलाकर कुल्ले करने से दांतों के अनेक रोगों में लाभ होता है! मुख की दुर्गन्ध दूर होती है | (२) निचोड़े हुए ताजे नीम्बू के छिलके से …

Read more

आयुर्वेदः निर्दोष एवं उत्कृष्ट चिकित्सा-पद्धति

ayurveda

आयुर्वेद एक निर्दोष चिकित्सा पद्धति है। इस चिकित्सा पद्धति से रोगों का पूर्ण उन्मूलन होता है और इसकी कोई भी औषध दुष्प्रभाव (साईड इफेक्ट) उत्पन्न नहीं करती। आयुर्वेद में अंतरात्मा में बैठकर समाधिदशा में खोजी …

Read more

अपने हाथ में ही अपना आरोग्य

1--apne-hat-me-apna-arogy

★    नाक को रोगरहित रखने के लिये हमेशा नाक में सरसों या तिल आदि तेल की बूँदें डालनी चाहिए। कफ की वृद्धि हो या सुबह के समय पित्त की वृद्धि हो अथवा दोपहर को वायु …

Read more

कालसर्पयोग (Kaalsarp Dosha)से मुक्ति का सरल उपाय

कालसर्पयोग (Kaalsarp Dosha)से मुक्ति का सरल उपाय

किसी पर कालसर्पयोग (Kaalsarp Dosha)होता है तो बेचारा मुसीबतों में आ जाता है लेकिन जो मेरे शिष्य हैं उन्हें कालसर्पयोग की विदाई करने के लिए कोई पूजा-पाठ या लम्बा-चौड़ा विधि-विधान नहीं कराना है केवल ‘कालसर्पयोग …

Read more

‘वहाँ देकर छूटे तो यहाँ फिट हो गये'(बोध कथा)

‘वहाँ देकर छूटे तो यहाँ फिट हो गये'(बोध कथा)

सुनी है एक सत्य घटनाः अमदावाद, शाहीबाग में डफनाला के पास हाईकोर्ट के एक जज सुबह में दातुन करते हुए घूमने निकले। नदी की तरफ दो रंगरूट (मनचले) जवान आपस में हँसी मजाक कर रहे …

Read more

सृष्टिकर्ता का विधान

सृष्टिकर्ता का विधान ❘❘ Pujya Asaram Bapu Ji ❘❘ जिस बलसे निर्बलोंकी सेवा नहीं होती, अपितु ह्रास होता है, वह बल स्वतः मिट जाता है। तिलक महिमा (Benefit of Tilak) ?  ललाट पर दो भौहों …

Read more