मां‍गलिक दोष से घबरायें नही यह रहा उपाय | Manglik Dosh Nivaran in Hindi

Home » Blog » Successful LifeTips » मां‍गलिक दोष से घबरायें नही यह रहा उपाय | Manglik Dosh Nivaran in Hindi

मां‍गलिक दोष से घबरायें नही यह रहा उपाय | Manglik Dosh Nivaran in Hindi

कुंडली में मंगल दोष और उसका समाधान | Mangal Shanti ke Upay

क्या है कुंडली में मंगल दोष ( manglik dosha )

जब किसी कुण्डली में जब प्रथम, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम अथवा द्वादश भाव में मंगल होता है तब मंगलिक दोष लगता है। इस दोष को विवाह के लिए अशुभ माना जाता है। यह दोष जिनकी कुण्डली में हो उन्हें मंगली जीवनसाथी ही तलाश करना चाहिए ऐसी मान्यता है। जिनकी कुण्डली में मांगलिक दोष है वे अगर 28 वर्ष के पश्चात विवाह करते हैं, तब मंगल वैवाहिक जीवन में अपना दुष्प्रभाव नहीं डालता है।शादी से पहले अक्सर लोग होने वाले वर-वधू की कुंडली मिलवाते हैं। यदि किसी की कुंडली में मंगल दोष निकल आता है तो घबराने की जरुरत नहीं क्योंकि शास्त्रीय उपायों से सभी प्रकार के मंगल दोष को दूर किया जा सकता है।

मंगल दोष | कुज दोष | भौम दोष | मंगली दोष तब होता है जब मंगल 1,4,7,8 और 12 भाव में स्थित हो।

manglik dosha remedies

मांगलिक कुंडली का निर्णय बारिकी से किया जाना चाहिऐ क्योकि शास्त्रोँ मै मांगलिक दोष निवारण के तरीके उपलब्ध है.शास्त्रवचनो के जिस श्लोक के आधार पर जहा कोई कुंडली मांगलिक बनती है .वही उस श्लोक के परिहार (काट) कई प्रमाण है,ज्योतिष और व्याकरण का सिध्दांत है,कि पूर्ववर्ती कारिका से परवर्ती कारिका (बाद वाली) बलवान होती है .दोष के सम्बन्ध मै परवर्ती कारिका ही परिहार है ,इसलिये मांगलिक दोष का परिहार मिलता हो तो जरूर विवाह का फैसला किया जाना चाहिये॥ परिहार नही मिलने पर भी यदि मांगलिक कन्या का विवाह गैर मांगलिक वर से करना हो तो शास्त्रो मे विवाह से पूर्व “घट विवाह” का प्रावधन है ,मांगलिक प्रभाव वाली कुंडलीसे भयभीत होने कि जरूरत नही है ॥

ज्योतिशास्त्र में कुछ नियम बताए गये हैं जिससे वैवाहिक जीवन में मांगलिक दोष नहीं लगता है, आइये इसे समझें :

मंगल दोष के परिहार स्वयं की कुंडली में (मंगल भी निम्न लिखित परिस्तिथियों में दोष कारक नहीं होगा)—

★ जैसे शुभ ग्रहों का केंद्र में होना, शुक्र द्वितीय भाव में हो, गुरु मंगल साथ हों या मंगल पर गुरु की दृष्टि हो तो मांगलिक दोष का परिहार हो जाता है।

★ वर-कन्या की कुंडली में आपस में मांगलिक दोष की काट- जैसे एक के मांगलिक स्थान में मंगल हो और दूसरे के इन्हीं स्थानों में सूर्य, शनि, राहू, केतु में से कोई एक ग्रह हो तो दोष नष्ट हो जाता है।

★ मेष का मंगल लग्न में, धनु का द्वादश भाव में, वृश्चिक का चौथे भाव में, वृष का सप्तम में, कुंभ का आठवें भाव में हो तो भौम दोष नहीं रहता।

★ कुंडली में मंगल यदि स्व-राशि (मेष, वृश्चिक), मूलत्रिकोण, उच्चराशि (मकर), मित्र राशि (सिंह, धनु, मीन) में हो तो भौम दोष नहीं रहता है।

★ सिंह लग्न और कर्क लग्न में भी लग्नस्थ मंगल का दोष नहीं होता है। शनि, मंगल या कोई भी पाप ग्रह जैसे राहु, सूर्य, केतु अगर मांगलिक भावों (1,4,7,8,12) में कन्या जातक के हों और उन्हीं भावों में वर के भी हों तो भौम दोष नष्ट होता है। यानी यदि एक कुंडली में मांगलिक स्थान में मंगल हो तथा दूसरे की में इन्हीं स्थानों में शनि, सूर्य, मंगल, राहु, केतु में से कोई एक ग्रह हो तो उस दोष को काटता है।

★ कन्या की कुंडली में गुरु यदि केंद्र या त्रिकोण में हो तो मंगलिक दोष नहीं लगता अपितु उसके सुख-सौभाग्य को बढ़ाने वाला होता है।

★ यदि एक कुंडली मांगलिक हो और दूसरे की कुंडली के 3, 6 या 11वें भाव में से किसी भाव में राहु, मंगल या शनि में से कोई ग्रह हो तो मांगलिक दोष नष्ट हो जाता है।

★ कुंडली के 1,4,7,8,12वें भाव में मंगल यदि चर राशि मेष, कर्क, तुला और मकर में हो तो भी मांगलिक दोष नहीं लगता है।

★ वर की कुण्डली में मंगल जिस भाव में बैठकर मंगली दोष बनाता हो कन्या की कुण्डली में उसी भाव में सूर्य, शनि अथवा राहु हो तो मंगल दोष का शमन हो जाता है.

★ जन्म कुंडली के 1,4,7,8,12,वें भाव में स्थित मंगल यदि स्व ,उच्च मित्र आदि राशि -नवांश का ,वर्गोत्तम ,षड्बली हो तो मांगलिक दोष नहीं होगा

★ यदि 1,4,7,8,12 भावों में स्थित मंगल पर बलवान शुभ ग्रहों कि पूर्ण दृष्टि हो

मंगल दोष निवृत्ति के उपाय : Mangal shanti ke upay in hindi

★        बेटी बड़ी हो गयी मुझे उसकी बहुत चिंता है ! अरे ! फ़िक्र फेंक कुँए में | मंगल का ग्रह हो तो तेल और सिन्दूर का चोला चढा दो | हनुमानजी सात मंगलवार और एक मंत्र है ” अं राम अं  ” २१ -२१ माला जप करें अपने आप मंगल शांत हो जायेगा | मांगलिक छोरा हो छोरी हो उसकी चिंता मत करो | मैं भगवान की …भगवान मेरे हैं | वासुदेव सर्वमिति | – पूज्य बापूजी

★      इससे निबटने का सबसे सरल उपाय है हनुमान जी की नियमित उपासना। यह मंगल के हर तरह के दोष तो खत्म करने सहायक है।

★       हर मंगलवार को शिवलिंग पर कुमकुम चढ़ाएं। इसके साथ ही शिवलिंग पर लाल मसूर की दाल और लाल गुलाब अर्पित करें।

★       लाल वस्त्र में मसूर दाल, रक्त चंदन, रक्त पुष्प, मिष्टान एवं द्रव्य लपेट कर नदी में प्रवाहित करने से मंगल अमंगल दूर होता है|

2017-08-16T17:04:15+00:00 By |Mantra Vigyan, Successful LifeTips|42 Comments

42 Comments

  1. Manoj Kumar February 4, 2018 at 3:14 pm - Reply

    मुझे मेरी शादी के बाद पता लगा कि मेरी पत्नी मांगलिक है जिस कारण कुछ ही समय बाद मेरे और मेरी पत्नी के मध्य कुछ आनंद सी रहने लगी कृपया करके इस मांगलिक दोष को मैं किस प्रकार समाधान कर सकता हूं वह भी अपनी पत्नी को बिना बताए हुए क्योंकि मेरी पत्नी इस विषय पर विश्वास नहीं करती आपसे नम्र निवेदन है कि मुझे इस समस्या का समाधान बताएं धन्यवाद

    • admin February 5, 2018 at 12:00 am - Reply

      मनोज जी , कैसा भी भारी मंगल दोष हो ” अं राम अं ” मंत्र के जाप से इसे दूर किया जा सकता है |
      प्रति दिन सुबह स्नान करने के पश्चात कम से कम १०८ बार मन्त्र का जाप जरुर करें |

      ~ हरिओम

      • DEEPAK May 24, 2018 at 2:12 pm - Reply

        जाप पत्‍नी को करने है या पति को, जैसा ि‍कि मांगलिक पत्‍नी है तो

        • admin May 24, 2018 at 3:32 pm - Reply

          जिनकी जन्म पत्री में मंगल योग बनता है उन्हें ही विशेष मंगल शांति के लिये जप और उपाय करना चाहिये अगर पति भी साथ में करे तो यह और भी उत्तम रहेगा |
          मंगल की प्रसन्नता और कृपा प्राप्ति हेतु मंगल मंत्र का जाप सभी कर सकते है |
          ~हरी ॐ

  2. Nits March 14, 2018 at 11:44 am - Reply

    Meri shadi 4 month phle hui h or mujh ab pta lga h ki main manglik hu. Ise dosh ko kese duur kia jaay. Shadi k baad se h are bich anben rhti h choti choti baato pe kha suni hoti h. To koi upaay btaoo dosh duur krne ka

    • admin March 14, 2018 at 1:29 pm - Reply

      Nits जी ,

      १)नित्य १०८ बार “ॐ हुं श्रीं मंगलाय नमः” का जाप करें व संभव हो तो मंगलवार का उपवास रखे |यह प्रयोग सभी प्रकार की मंगल बाधा को दूर करता है
      २)नित्य घर में गुगल का धुप जरुर करें |
      ३)घर में पोछा मारते समय पानी में थोडासा नमक मिला दे यह घर की नकारात्मक उर्जा को दूर करने में मदद करता है |

      ~ हरिओम

  3. Huma March 22, 2018 at 8:40 pm - Reply

    MERI Shaadi ko char saal hue hai.mere aur mere pati ke beach mai roz ladai jhagda hota raheta hai.mere pati sarab pite hai .mujhe Shadow ke baad malum hua or mai manglik hu aur mere kundli meangal 8 house ka hai.plz mujhe upaye bataye.

  4. Huma March 22, 2018 at 8:53 pm - Reply

    MERI Shaadi ko char saal hue hai.mere aur mere pati ke beach mai roz ladai jhagda hota raheta hai.mere pati sarab pite hai .mujhe shadi ke baad malum hua ki mai manglik hu aur mere kundli me mangal 8 house ka hai.plz mujhe upaye bataye.

  5. VIKASH KUMAR, 9416595740 April 17, 2018 at 1:56 pm - Reply

    पूजनीय बापूजी मेरी बेटी का जन्म 22.05.2004 को सुबह 07:15 मिंट पर हुआ था l जिससे उसकी जन्म कुंडली में मांगलिक दोष आ गया ल अगले महीने में वो 14 साल की होने जा रही है l किरपा आप मुझे ये बताये जो आप ने मांगलिक दोष के उपाय बताये है उस में हनुमान जी को लाल चोला चढ़ाये या फिर 21 बार ‘अं राम अं’ मंत्र का जाप करना या फिर हर मंगलवार को शिवलिंग पर जो कुमकुम, लाल मसूर, लाल गुलाब चढाने की विधि बताई है वो मुझे करनी है या मेरी बेटी से करवानी है l और जिसे भी ये विधि करनी है वो बेटी के किस उम्र में करनी है, बताये प्लीज l

    • admin April 17, 2018 at 4:30 pm - Reply

      १) सभी प्रयोगों में से जो भी आपके अनुकूल हो उस प्रयोग को जिसकी भी जन्म पत्री में “मंगल योग” है उनके द्वारा संपन्न किये जाने चाहिये |
      २) इनकी कोई अवधि सीमा नहीं है |यथा संभव इनका पालन करें |

      ~ हरिओम

  6. Dolly April 30, 2018 at 10:39 am - Reply

    Meri date of birth 1dec1987 h. Meri sadi nhi hui h.ab Mujhe pta chla ki main manglik hun.kya mai bina manglik wale ldke se sadi kr skti hun.isse koi pdesani to nhi hogi.

    • admin April 30, 2018 at 7:38 pm - Reply

      हमारे महान ऋषियों ने हमारी हर समस्याओं का समाधान शास्त्रों में पहले ही दे रखा है इस लिये डरें नहीं |
      सबसे पहले आप यह सुनिश्चित कर लें की क्या वाकई जन्म कुंडली में मंगल योग है भी या नहीं …अगर आपकी जन्म कुंडली में मंगल योग है तो ऊपर बताये आसन उपायों से इसके बुरे प्रभाव से बचा जा सकता है | इन उपायों का लाभ लें |

      ~ हरिओम

  7. Manisha May 3, 2018 at 9:16 am - Reply

    Me ansik manglik hi or mere pati Nahi h per shaddi ke agle din se hi choti choti bato per jaghde hote h app kuch samadhan bataye

    • admin May 3, 2018 at 9:28 pm - Reply

      लाल रंग से परहेज करें तथा कुश या ऊन के आसन पे बैठ कर “ॐ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः” या “ॐ अं अंगारकाय नमः” मन्त्र का लाल चन्दन की माला से जप करे रुद्राक्ष की माला पे भी कर सकते है |

      ~ हरिओम

  8. kajal sharma May 4, 2018 at 4:55 pm - Reply

    namaste g mute puchhna h ki meri kundli m manglik nai have h bt m jinse shadi krna chahti hu wo manglik h kya hmari shadi ho skti h

    • admin May 4, 2018 at 8:22 pm - Reply

      वर, कन्या दोनों की कुंडली ही मांगलिक हों तो विवाह शुभ और दाम्पत्य जीवन आनंदमय रहता है। एक सादी एवं एक कुंडली मांगलिक नहीं होना चाहिए।

    • Rakesh June 7, 2018 at 11:35 am - Reply

      यदि पुरुष या स्त्री की कुंडली में 1, 4, 7, 8, 12वें भाव में शनि, राहु, सूर्य, मंगल हो तो कुंडली का मिलान हो जाता है। यदि एक की कुंडली में मंगल उपरोक्त भावों में स्तिथ हो तथा दूसरे की कुंडली में नहीं हो तो इस प्रकार के जातको के विवाह संबंध नहीं होने चाहिए।
      Thank you

  9. Shiwali May 7, 2018 at 3:36 pm - Reply

    Guruji meri age 28 hai Meri shadi 27 age mei hui 27feb’18 ko aur maanglik ladke se hui h Unki age 33 hai ab jab marriage hui thi tab 32 thi, lekin after marriage humari bani nahi. Uske parents v boht pareshan karte thae mujhe… ek din mere hubby mujhe boht maare thae mai apna bag pack kar liya apne ghr agai mujhe laga hubby ayga thoda samjhega situations ko lekin ulta ho Gaya hubby ne baat karna band kar diya.. phone switch off kar diya number Badal liya, sasural wale ghr mei enter ni karne dete Khte h ladka yha ni rhta Hume ni pta kha gaya. Mere husband ko 3 months ho gaye h… Gayab huae Wo Samne nai atae….jabki Hun Dono maanglik h…. mai beech mei Latakia gyi hu.. sasural wale ghr mei enter ni krne dete, pati Gayab h 3 months se… AB karu to Kya karu… Meri mumy hospitalised h.. har jaga se dukhi hu… Kyu mujh par itni mushkil aari h… Mann karta h suicide karlu… jiska pati aise Gayab ho jaye wo ladki Kya kare… koi upaay btaye pati wapas ajaye kuch to Faisla le… bas wo Gayab ho chuka h

    • admin May 7, 2018 at 6:22 pm - Reply

      अचानक अनचाही मुसीबत व परेशानी आने पर जब सारे रास्ते बंद होते नजर आयें ..आगे का मार्ग दिखाई न दे रहा हो तब इस परेशानी के निवारणार्थ शास्त्रों में एक बहुत ही प्रभावशाली मंत्र (चौपाई) बताया गया है |

      मंत्र : –

      दीन दयाल बिरिदु संभारी ।
      हरहु नाथ मम संकट भारी।।

      कलिकाल में यह मंत्र (चौपाई) सीघ्र फल प्रदान करता है |
      इस मंत्र का जितना हो सके नित्य अधिक से अधिक शंख्या में जाप करें | इसे तब तक चालू रखे जब तक आपकी परेशानी खत्म न हो जाये |

      ~ हरी ॐ

  10. Mohit May 8, 2018 at 12:31 pm - Reply

    Sir, mera apse ek sawal hai, ladka or ladki ki shadi k liye kundli match karayi gayi hai, jisme ladka manglik nhi hai, or ladke ke Gann Manushay ke jabki ladki ke Gann Rakshas ke btaye gaye hai, total 30/36 Gan match hue hai, and ladki ki kundli me Anshik Manglik Dosh btaya gya hai, kya ye kundli dono ki shadi ke liye match hai ya nhi,

    1. ladke ke Gann Manushay ke jabki ladki ke Gann Rakshas ke.
    2. kundli me Anshik Manglik Dosh
    3. ladki (21 age running) and ladka (28 age running)

    • admin May 9, 2018 at 9:19 am - Reply

      सिर्फ राशी , सिर्फ ग्रह ,या सिर्फ भाव आपको परिणाम नही देते हैं |आपको जो भी पूरा परिणाम प्राप्त होगा वह कुंडली के संपूर्ण चार्ट से प्राप्त होता है |
      ~ हरिओम

  11. Supriya May 10, 2018 at 12:40 pm - Reply

    Pranaam guruji, Meri shadi ko 5 months huye h.mere pati manglik h 12th ghar k, aur m manglik ni hu. Shadi k baad k kuch samay s humara dampaty jeevan m dikkat arhi h. Ladai, behas..Meri baat bhi ni sunte..unke gharwale bhi mujhe pareshan kar rahe..hum dono sath m khush rahe..iska upay bataiye..

    • admin May 10, 2018 at 2:14 pm - Reply

      जिन लोगों की कुंडली मांगलिक होती है उन्हें प्रति मंगलवार मंगलदेव के निमित्त विशेष पूजन करना चाहिए।

      यदि प्रति मंगलवार हनुमानजी का पूजन किया जाए या हनुमान चालीसा का पाठ किया जाए तब भी मंगलदेव के दोषों की समाप्ति हो जाती है। हनुमानजी के पूजन से मंगल के साथ ही शनि दोषों का भी निवारण हो जाता है।

      ~ हरिओम

  12. Sarita May 14, 2018 at 1:12 pm - Reply

    Pranam Guriji meri kundali me manglik dosh hai meri ek shadi tute gayi hai pahli shadi tutane ki 6 sal bad maine 33 ki age me dusari shadi ki phir bhi mujge pati ka sukh nahi hai mansik sukh nahi hai hum dono pati aur patni ki beach her waqt manmutav hi rehta hai
    Apse binti hai ap koi upay bataye

    • admin May 14, 2018 at 2:26 pm - Reply

      ज्योतिष विज्ञान के अनुसार मंगल ग्रह दोष से मिलने वाली रोग, पीड़ा और बाधा दूर करने के लिए मंगलवार का व्रत बहुत ही प्रभावकारी माना जाता है। मंगलवार को सूर्योदय से लेकर अगले सूर्योदय तक का व्रत करें और इस अवधि में सिर्फ फल और दूध ही लें।
      मंगलवार का दिन हनुमान जी की आराधना का भी विशेष दिन माना जाता है। मंगल देव की खास पूजा उन लोगों को करनी चाहिए जिनकी कुंडली में मंगल दोष होता है।
      ~ हरिओम

  13. kamal saraswat May 15, 2018 at 9:58 am - Reply

    Guru ji ki jai ho, guru ji mai ek ladki k sath prem rishte main hu, meri age 26 hai or us ladki ki 23,,par wo ladki manglik hai or mai manglik nahi hu, jiski wajah se hmare ghar wala shadi krne se darte hai, kuch aisa upaye bataye jisse humari shadi ho sake , or baad mai koi dikkat na aaye shadisuda jindagi me,, hum dono alag nahi hona chahte guru ji, bhut pyar karte hai ek dusre ko please rply kariye maharaj,

    • admin May 15, 2018 at 12:22 pm - Reply

      अगर कुण्डली में मंगल दोष का निवारण ग्रहों के मेल से नहीं होता है तो व्रत और अनुष्ठान द्वारा इसका उपचार करना चाहिए|मंगला गौरी और वट सावित्री का व्रत सौभाग्य प्रदान करने वाला है|अगर जाने अनजाने मंगली कन्या का विवाह इस दोष से रहित वर से होता है तो दोष निवारण हेतु इस व्रत का अनुष्ठान करना लाभदायी होता है|जिस कन्या की कुण्डली में मंगल दोष होता है वह अगर विवाह से पूर्व गुप्त रूप से घट से अथवा पीपल के वृक्ष से विवाह करले फिर मंगल दोष से रहित वर से शादी करे तो दोष काफी अंस तक खत्म हो जाता है| प्राण प्रतिष्ठित विष्णु प्रतिमा से विवाह के पश्चात अगर कन्या विवाह करती है तब भी इस दोष का परिहार हो जाता है|

      ~ हरिओम

  14. Rakesh May 21, 2018 at 12:41 pm - Reply

    Thanks a lot for this wonderful post.
    mybapuji

  15. Anonymous May 30, 2018 at 5:19 pm - Reply

    Guruji pranam
    Mera bhaii ka naam rahul patidar,dob 16 march 1993 hai.uski hamesha sagae hone hi wali hoti h ki bich me koi aise bat aa jati h ki sagae ki bat fix hote hote bich me tut jati h pichle 1year se 20-25 ladkiya dekh chuke h kripaya upay bataye

    • admin May 31, 2018 at 1:22 pm - Reply

      जिन पुरुषों का विवाह नहीं हो रहा हो या उसमे बाधा आरही हो उन्हें श्रीकृष्ण के इस मंत्र का 108 बार नित्य जप करना चाहिए ।

      “क्लीं कृष्णाय गोविंदाय गोपीजनवल्लभाय स्वाहा।”

      इसके अलावा प्रत्येक गुरूवार को बरगद , पीपल या केले के वृक्ष पर जल अर्पित करने से विवाह बाधा दूर होती है|

  16. Sarita June 10, 2018 at 12:08 pm - Reply

    Pranam pujya bapuji
    Bapuji meri kundali me manglik dosh hai ap mujhe bata sakte hai manglik dosh ko dur karne ki liya kaun sa mantra ka jap kerna chaiya aur kitna kerna chaiya

    • admin June 11, 2018 at 8:25 am - Reply

      लाल रंग से परहेज करें तथा कुश या ऊन के आसन पे बैठ कर “ॐ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः” या “ॐ अं अंगारकाय नमः” मन्त्र का लाल चन्दन की माला से जप करे रुद्राक्ष की माला पे भी कर सकते है |
      इस मंत्र का नित्य कम से कम 108 बार जाप करना चाहिये |

      ~ हरिओम

  17. Sangram June 19, 2018 at 11:17 pm - Reply

    Namaskar Guruji, meri shadi Ko 4sal hogaye, meri bewi lagna kundli 4the ghar main mangal aur ketu hai aur meri lagna kundli main 4the ghar main Shani hai. Hamari shadi shuda jindagi thik nahi hai aur daily jhagade hote hai. Plz mujhe meri bewi ko kambu main rakhne ka koi upay bataye

    • admin June 20, 2018 at 8:38 am - Reply

      पति-पत्नी के बिच आपस में बनती ना हो या झगड़े होते हैं तो उस दंपत्ति को ” खं ” बिज मंत्र का नित्य १०८ बार जाप करना चाहिये |
      इसके अलावा घर में गुगल का धूप नित्य करें तथा पति पत्नी रात का भोजन रसोई घर में साथ बैठकर करें |
      यह उपाय आपके बिगड़ते रिश्ते ठीक कर आपसी प्रेम में वृद्धि करने में आपकी सहायता करेगा |

      ~ हरी ओम

  18. NEESHA June 21, 2018 at 6:34 pm - Reply

    mere shadi ko 3 sal hue hamari love marriage he muje mangal he aur guruvar ka janam he mere husband ko shani he but jise ki apne bola ki shani aur mangal ka ho sakta he waisa kuch nahi he bahut jhagde hote apas me banti nahi jablki hamari love marriage he bahut issue hote plz koi upay batay muje , mere pati bahut gussa karne wala insan anger control nahi hota unse

  19. Ruchika June 25, 2018 at 12:46 pm - Reply

    Mai manglik hu aur meri shadi ho chuki hai ek beti thi 3 months ki achanak uski death ho gyi, kya beti ki maut ki wajah mere manglik hone se hai? Kripya margdarshan kre, bhot hi presan hu.

    • admin June 25, 2018 at 2:14 pm - Reply

      हमारी कुंडली में “पंचम भाव“ संतान सुख का स्थान होता है तथा “बृहस्पति“ संतान का नैसर्गिक कारक है अतः मुख्य रूप से तो पंचम भाव और बृहस्पति ही संतान के लिए विचारणीय होते हैं |हमारी कुंडली में विशेषकर पंचम भाव पंचम भाव का स्वामी ग्रह और बृहस्पति कैसी स्थिति में हैं यह हमारे जीवन में संतान प्राप्ति या संतान सुख को निश्चित करता है।

      ~हरिओम

  20. Mayur June 25, 2018 at 3:41 pm - Reply

    2 – 5 -1990. 21.46. Nagpur. Kya muje bhi mangal dosh hai

  21. vipin June 29, 2018 at 5:12 pm - Reply

    JaI Ho Guru Ji Namaskar . Me Jis Ladki Se Pyar Karta hu wo Maglik hai.
    or Ladki Ke Ghar wale bhi shadi krne ko teyar ni hai. wo bolte hai jo ladka maglik hoga us ke sath Krege.
    kya koi esa upaye hai jis se maglik dosh kat jaye

    • admin June 29, 2018 at 6:00 pm - Reply

      ज्योतिशास्त्र में मांगलिक कुंडलियो हेतु दो तरह के परिहार मिलते है।

      (1) स्वय की कुंडली मे-जैसे शुभ ग्रहो का केन्द्र मे होना,शुक्र द्वितीय भाव मे हो,गुरू मंगल साथ हो या मंगल पर गुरू की दृष्टिे हो तो मांगलिक दोष का परिहार हो जाता है।

      (2) वर-कन्या की कुन्डली मे आपस मांगलिक दोष का काट –जैसे एक के मांगलिक स्थान मे मंगल हो और दूसरे के इन्ही स्थानो मे सूर्य,शनि,राहु,केतु मे से कोई एक ग्रह हो तो दोष नष्ट हो जाता है।पापक्रांत शुक्र और सप्तम भाव के स्वामी की नेष्ट स्थिति को भी मंगल तुल्य ही समझे।मंगल दोष परिहार के कुछ शास्त्र वचन निम्न प्रकार है।इनके आधार पर यदि मांगलिक दोष भंग हो जाता है तो विवाह के बाद उनका दाम्पत्य जीवन सुख और प्रसन्नता पूर्वक व्यतीत होगा॥

      •जिस वर –कन्या के (1,4,7,8,12) इन स्थनो मे शनि हो तो मंगली दोष मिट जाता है|
      •यदि एक कुंडली मे मांगलिक योग हो और दूसरे कि कुंडली के (3,6,11)वे भाव मे से किसी भाव मे राहु ,मंगल या शनि मे से कोई ग्रह हो तो मांगलिक दोष नष्ट हो जाता है ।
      • 3,6,11वे भावो मे अशुभ ग्रह हो और केन्द्र (1,4,7,10)व त्रिकोण (5,9) मे शुभ ग्रह हो,सप्तमेष सातवे भाव मे हो तो मंगल दोष नही रहता है ।
      • गुरु भौम के साथ पडने से अथवा चन्द्रमा भौम एक साथ और केन्द्र मे (1,4,7,10) इन स्थानो मे चन्द्रमा होवे तो भी मंगली दोष मिट जाता है , जिसके लग्न मे गुरु बैठा हो अथवा त्रिकोण स्थान (5,9) मे गुरु बैठा और 11 भाव शनि हो 10 वे स्थान राहु बैठा हो तो भी मंगली दोष मिट जाता है

  22. Happybawa July 11, 2018 at 6:04 pm - Reply

    Mai masahari hu aur manglik bhi please mere liye koi saral upaye btaiye
    Meharbani kijiye

Leave A Comment

four × 2 =