पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

छाछ (मट्ठा)के 13 लाजवाब सेहतमंद फायदे और रोग उपचार में उसके औषधीय प्रयोग

Home » Blog » Ahar-vihar » छाछ (मट्ठा)के 13 लाजवाब सेहतमंद फायदे और रोग उपचार में उसके औषधीय प्रयोग

छाछ (मट्ठा)के 13 लाजवाब सेहतमंद फायदे और रोग उपचार में उसके औषधीय प्रयोग

यथा सुराणाममृतं सुखाय तथा नराणां भुवि तक्रमाहु: |
‘जिस प्रकार स्वर्ग में देवों को सुख देनेवाला अमृत है, उसी प्रकार पृथ्वी पर मनुष्यों को सुख देनेवाला तक्र हैं |’ ( भावप्रकाश )

★ दही में चौथाई भाग पानी मिलाकर मथने से तक्र तैयार होता है | इसे मट्ठा (chach)भी कहते हैं |
★ ताजा मट्ठा (chach)सात्त्विक आहार की दृष्टि से श्रेष्ठ द्रव्य है |
★ यह जठराग्नि प्रदीप्त कर पाचन – तंत्र कार्यक्षम बनाता है |
★ अत: भोजन के साथ तथा पश्चात मट्ठा(mattha) पीने से आहार का ठीक से पाचन हो जाता है |
★ जिन्हें भूख न लगती हो, ठीक से पाचन न होता हो, खट्टी डकारें आती हों और पेट फूलते – अफरा चढने से छाती में घबराहट होती हो, उनके लिए मट्ठा (mattha)अमृत के समान है |
★ मट्ठे (mattha)के सेवन से ह्रदय को बल मिलता है, रक्त शुद्ध होता है और विशेषत: ग्रहणी की क्रिया अधिक व्यवस्थित होती है |
★ कई लोगों को दूध रुचता या पचता नहीं है | उनके लिए मट्ठा (mattha)अत्यंत गुणकारी है |
★ मक्खन निकाला हुआ तक्र पथ्य अर्थात रोगियों के लिए हितकर तथा पचने में हलका होता है |
★ मक्खन नहीं निकला हुआ तक्र भारी, पुष्टिकारक एवं कफजनक होता है |
★ वातदोष की अधिकता में सोंठ व सेंधा नमक मिला के, कफ की अधिकता में सोंठ, काली मिर्च व पीपर मिलाकर तथा पित्तजन्य विकारों में मिश्री मिला के तक्र का सेवन करना लाभदायी है |
★ शीतकाल में तथा भूख की कमी, वातरोग, अरुचि एवं नाड़ियों के अवरोध में तक्र अमृत के समान गुणकारी होता है |
★ यह संग्रहणी, बवासीर, चिकने दस्त, अतिसार (दस्त), उलटी, रक्ताल्पता, मोटापा, मूत्र का अवरोध, भगंदर, प्रमेह, प्लीहावृद्धि, कृमिरोग तथा प्यास को नष्ट करनेवाला होता है |
★ दही को मथकर मक्खन निकाल लिया जाय और अधिक मात्रा में पानी मिला के उसे पुन: मथा जाय तो छाछ बनती है | यह शीतल , हलकी, पित्तनाशक, प्यास, वात को नष्ट करनेवाली और कफ बढ़ानेवाली होती है |

इसे भी पढ़े :  रोजाना एक गिलास छाछ पीने से होंगे ये चमत्कारी फायदे |Buttermilk Health Benefits

मट्ठे के औषधीय प्रयोग :

१] मट्ठे(mattha) में जीरा, सौंफ का चुनर व सेंधा नमक मिलाकर पीने से खट्टी डकारें बंद होती हैं |

२] गाय का ताजा, फीका मट्ठा(buttermilk) पीने से रक्त शुद्ध होता है और रस, बल तथा पुष्टि बढ़ती है | शरीर – वर्ण निखरता है, चित्त प्रसन्न होता है, वात-संबंधी अनेक रोगों का नाश होता है |

३] ताजे मट्ठे(buttermilk) में चुटकीभर सोंठ, सेंधा नमक व काली मिर्च मिलाकर पीने से आँव, मरोड़ तथा दस्त दूर हो के भोजन में रूचि बढ़ती है |

४] मट्ठे में अजवायन और काला नमक मिलाकर पीने से कब्ज मिटता है |
उपरोक्त सभी गुण गाय के ताजे व मधुर मट्ठे में ही होते हैं | ताजे दही को मथकर उसी समय मट्ठे का सेवन करें | ऐसा मट्ठा दही से कई गुना अधिक गुणकारी होता है | देर तक रखा हुआ खट्टा व बासी मट्ठा हितकर नही है |

५] केवल ताजे दही को मथकर हींग, जीरा तथा सेंधा नमक डाल के पीने से अतिसार, बवासीर और पेडू का शूल मिटता है |

ताजे दही का अर्थ है, रात को जमाया हुआ दही जिसका उपयोग सुबह किया जाय एवं सुबह जमाया हुआ दही जिसका सेवन मध्यान्हकाल में अथवा सूर्यास्त के पहले किया जाय | सायंकाल के बाद दही अथवा छाछ का सेवन नहीं करना चाहिए |

सावधानी – १] दही एंव मट्ठा ताँबे, काँसे, पीतल एवं एल्युमिनियम के बर्तन में न रखें | दही बनाने के लिए मिट्टी अथवा चाँदी के बर्तन विशेष उपयुक्त हैं, स्टील के बर्तन भी चल सकते हैं |

२] अति दुर्बल व्यक्तियों को तथा क्षयरोग, मूर्च्छा, भ्रम, दाह व रक्तपित्त में तक्र का उपयोग नहीं करना चाहिए | उष्णकाल अर्थात शरद और ग्रीष्म ऋतुओं में तक्र का सेवन निषिद्ध है | इन दिनों यदि तक्र पीना ही हो तो जीरा व मिश्री मिला के ताजा व कम मात्रा में लें |

 

इसे भी पढ़े : भोजन के उपरान्त छाछ पीने पर वैद्य की क्या आवश्यकता है?

keywords – chaach ke fayde , chach pine ke nuksan , chhach pine ke fayde , benefits of chach in hindi ,lassi ke fayde in hindi , lassi ke nuksan , chach banane ka tarika in hindi , chach ke nuksan , health benefits of buttermilk in ayurveda ,mattha ke fayde , छाछ पीने के नुकसान ,छाछ के नुकसान ,लस्सी के गुण ,छाछ के गुण , छाछ पीने का सही समय , छाछ पीने का समय , लस्सी के नुकसान, छाछ का मसाला ,मट्ठा पीने के फायदे , 

स्त्रोत – ऋषिप्रसाद – जनवरी २०१६ से

2017-06-11T08:45:33+00:00 By |Ahar-vihar, Health Tips|0 Comments

Leave a Reply