दशांग लेप के फायदे गुण उपयोग और नुकसान | Dashang Lepa Benefits and Side Effects in Hindi

Home » Blog » Ayurveda » दशांग लेप के फायदे गुण उपयोग और नुकसान | Dashang Lepa Benefits and Side Effects in Hindi

दशांग लेप के फायदे गुण उपयोग और नुकसान | Dashang Lepa Benefits and Side Effects in Hindi

दशांग लेप क्या है ? Dashang Lepa in Hindi

दशांग चूर्ण लेप हर्बल पेस्ट फॉर्म में आयुर्वेदिक दवा है। इसका उपयोग हर्पस घावों, त्वचा रोगों, बुखार और सूजन के इलाज के लिए बाहरी अनुप्रयोग के रूप में किया जाता है। इसका उपयोग बुखार, सिरदर्द, एक्जिमा, हर्पस घाव, गर्मी के चकत्ते आदि जैसे आयुर्वेदिक उपचार में किया जाता है। इसे घी के साथ पेस्ट में बनाया जाता है और स्थानीय रूप से लागू किया जाता है।
दशांग लेप शोथ (सूजन), व्रण (घाव) और शूल (दर्द) का शमन करने वाला एक श्रेष्ठ योग है ।

दशांग लेप के घटक द्रव्य : Dashang Lepa Ingredients in Hindi

✦जटामांसी
✦सिरस की छाल
✦मुलहठी
✦तगर
✦लाल चन्दन
✦इलायची
हल्दी
✦दारुहल्दी
✦कूठ
✦खस सभी समान मात्रा में।

दशांग लेप बनाने की विधि : Preparation Method of Dashang Lepa

सब द्रव्यों को कूट पीस कर महीन चूर्ण करके मिला लें और तीन बार छान लें ताकि सब द्रव्य ठीक से मिल कर एक जान हो जाएं। लेप के लिए चुर्ण तैयार है।

दशांग लेप उपयोग विधि :

एक चम्मच चूर्ण पानी में घोंट पीस कर गाढ़ा लेप बनाएं। इसमें 56 बूंद शुद्ध घी टपका कर अच्छी तरह फेंट कर मिला लें । इस लेप को गाढ़ा-गाढ़ा लगा कर ऊपर से साफ़ रूई रख कर पट्टी बांध दें। यह लेप सुबह-शाम लगाएं।

दशांग लेप के फायदे और उपयोग : Dashang Lepa Benefits in Hindi

1-यह लेप सूजन, घाव, दर्द, विष दोष, दुष्ट व्रण (पुराना घाव), सर्वांग शोथ (शरीर में कहीं भी सूजन हो), दाह (जलन), सिर दर्द, पामा (तेज़ खुजली) ब्यूची (एक्ज़ीमा) , पित्त जन्य व रक्त जन्य शोथ पर बहुत ही गुणकारी सिद्ध होता है।
2- दशांग चूर्ण में समान मात्रा में सोना गेरू मिलाकर गुलाब जल के साथ पीस कर लेप बना कर लेप करने से 4-5 दिन में ये व्याधियां दूर हो जाती हैं।
3- वृषण (अण्डकोष) पर सूजन आने पर, दशांग चूर्ण, निर्गुण्डी के पत्तों के साथ पीसकर, लेप तैयार कर, लेप करने से सूजन दूर हो जाती है।
4- बुखार के साथ सिर दर्द हो तो एक चम्मच दशांग चूर्ण ठण्डे पानी में घोल लें। इसमें कपड़े की पट्टी भिगो कर माथे पर रखने से सिर दर्द दूर होता है और ज्वर का वेग कम होता है।

उपलब्धता : यह योग इसी नाम से बना बनाया आयुर्वेदिक औषधि विक्रेता के यहां मिलता है।

दशांग लेप के नुकसान : Dashang Lepa Side Effects in Hindi

✦दशांग लेप चिकित्सक की देखरेख में उपयोग किया जाना चाहिए।
✦बहुत ही कम गर्मी या जलने की उत्तेजना में वृद्धि हो सकती है। ऐसे मामले में, इसे केवल 5-10 मिनट के लिए लागू करें और फिर ठंडे पानी से धो लें।
✦यह उत्पाद बाहरी अनुप्रयोग के लिए है।
✦आकस्मिक मौखिक सेवन से बचें।
✦बच्चों की पहुंच और दृष्टि से दूर रखें।
✦सीधे सूर्य की रोशनी से दूर, एक शांत सूखी जगह में स्टोर करें।

2018-10-24T14:18:05+00:00 By |Ayurveda|0 Comments