पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

पत्तेदार शाक खायें, शरीर को स्वस्थ व निरोगी बनायें

Home » Blog » Ahar-vihar » पत्तेदार शाक खायें, शरीर को स्वस्थ व निरोगी बनायें

पत्तेदार शाक खायें, शरीर को स्वस्थ व निरोगी बनायें

हरे पत्तोंवाले शाक विटामिन्स व विभिन्न खनिज तत्त्वों से भरपूर होते हैं | इनमें पौष्टिक तत्त्व व रेशे भी अधिक होते हैं | ये एक बेहतर प्राकृतिक टॉनिक का कार्य करते हैं |

पालक (palak)Spinach :

★ पालक की भाजी रक्त की वृद्धि व शुद्धि करती है और हड्डियों को मजबूत बनाती है |
★ यह पेटसंबंधी बीमारियों में औषधि का कार्य करती है तथा आँतों में मल का संचय नहीं होने देती |
★ बुखार, पथरी, आँतों के रोग, कब्ज, रक्ताल्पता, रतौंधी, यकृत – विकार, पीलिया, बालों के असमय गिरने, प्रदर रोग आदि में यह लाभदायक है |
★ बच्चों की शारीरिक वृद्धि एवं पोषण में तथा गर्भिणी स्त्रियों के लिए यह बहुत उपयोगी है |
★ प्रतिदिन पालक के रस के सेवन से शरीर की शुष्कता व रक्त के विकार नष्ट होते हैं |
★ १०० ग्राम पालक के रस में १०० ग्राम गाजर का रस मिलाकर पीने से तेजी से रक्त की वृद्धि होती है व नेत्रज्योति बढ़ती है |
★ सूखा रोग में बच्चों को आधी कटोरी पालक का रस नियमित रूप से देना चाहिए |

इसे भी पढ़े : सब्जियां कैसे धोये ? How to wash fruit and vegetables

बथुआ bathua( मराठी में चाकवत भाजी )Lamb’s Quarters :

★ बथुआ पथ्यकर व उत्तम शाक है | यह आँखों के लिए विशेष हितकर है |
★ यह बल – वीर्य को बढ़ाता है, त्रिदोष ( वात, पित्त व कफ ) को शांत करके उनसे उत्पन्न विकारों को नष्ट करता है |
★ आमाशय व यकृत को शक्ति प्रदान करता है |
★ यह पाचनशक्ति को विकसित कर भूख बढ़ाता है |
★ इसके सेवन से मासिक धर्म की अनियमितता दूर होती है |
★ बवासीर में यह बहुत लाभदायी है |
★ कृमि, अम्लपित्त, अजीर्ण, मिर्गी, दमा, खाँसी, प्लीहावृद्धि आदि में भी लाभकारी है |
★ कब्ज की तकलीफ होने पर २ -३ दिन बथुए का रायता खाने से लाभ होता है |

मूली के पत्ते (Mooli Ke Patte) Radish Leaves :

★ ये रुचिकर, हलके, गर्म तथा पाचक होते हैं |
★ इनमें लौह तत्त्व (iron) पर्याप्त मात्रा में होता है |
★ ये यकृत, प्लीहा व गुर्दे के रोग, हिचकी, मूत्रसंबंधी विकार, उच्च रक्तचाप, मोटापा, बवासीर, खून की कमी व पाचन-संबंधी गड़बड़ियों में खूब लाभदायी हैं |
★ मूली के पत्तों का ५० ग्राम रस कुछ दिन लेना सूजन में फायदेमंद है |

इसे भी पढ़े : भोजन करते समय बैठने की सही विधि का ज्ञान क्या आपको है ..? |

मेथी(methi)Fenugreek :

★ मेथी की भाजी गर्म, पित्तवर्धक, सूजन मिटानेवाली व मृदु विरेचक होती है |
★ यह वायु, कफ व ज्वर नाशक है |
★ कृमि, पेट के रोग, संधिवात, कमरदर्द व शारीरिक पीड़ा में लाभदायी है |
★ पित्त-प्रकोप, अम्लपित्त व दाह में मेथी न खायें |
★ पेट में गैस की समस्या तथा गठिया व अन्य वातरोगों में नियमित रूप से इसका सेवन लाभकारी है |
★ प्रसव के बाद इसका सेवन विशेषरूप से करना चाहिए |
★ यह कब्ज को नष्ट करके उदर-रोगों से सुरक्षित रखती है |
★ ५० मि.ली. मेथी के पत्तों के रस में शहद मिला के कुछ दिन पीने से यकृत व पित्ताशय के विकारों एवं बहुमुत्रता में बहुत लाभ होता है |

 

keywords – बथुआ ,bathua,चाकवत भाजी,Lamb’s Quarter,पालक, palak ,Spinach ,मूली के पत्ते ,Mooli Ke Patte, Radish Leaves ,मेथी,methi,Fenugreek
2017-06-10T17:25:13+00:00 By |Ahar-vihar, Health Tips|0 Comments

Leave a Reply