पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

प्राणियों पर हिंसा से प्राकृतिक आपदाएं (एक खास रिपोर्ट ) | The Link Between Natural Disasters and violence

Home » Blog » Articles » प्राणियों पर हिंसा से प्राकृतिक आपदाएं (एक खास रिपोर्ट ) | The Link Between Natural Disasters and violence

प्राणियों पर हिंसा से प्राकृतिक आपदाएं (एक खास रिपोर्ट ) | The Link Between Natural Disasters and violence

<>    कतलखानों में जब जानवरों को कतल किया जाता है तो वह बहुत ही बेरहमी के साथ किया जाता है ….बहुत हिंसा होती है… बहुत अत्याचार होता है

जानवरों का कतल होते समय उनकी जो चीत्कार निकलती है, उनके शरीर से जो स्ट्रेस हार्मोन निकलते है और उनसे शोक वेबस (तरंगें ) निकलती है वो बहुत ज्यादा पावर फुल होती हैं .ये तरंगें पूरी दुनिया को तरंगित कर देती है, कम्पायमान कर देती है

<>    जानवरों को जब काटा जाता है तो बहुत दिनों तक उनको भूखा रखा जाता है और कमजोर किया जाता है फिर इनके ऊपर ७० डिग्री सेंटीग्रेड ताप के गरम पानी की बौछार डाली जाती है उससे उनका शरीर फूलना शुरू हो जाता है

<>    तब गाय भैंस तड़पना और चिल्लाना शुरू कर देते है तब जीवित स्थिति में उनकी खाल को उतारा जाता है और खून को भी इकठ्ठा किया जाता है

फिर धीरे धीरे गर्दन काटी जाती है , पांव अलग से काटे जाते है शरीर का एक एक अंग अलग से निकला जाता है

<>    आज का आधुनिक विज्ञान ने ये सिद्ध किया है के मरते समय जानवर हो या व्यक्ति हो अगर उसको क्रूरता से मारा जाता है तोह उसके शरीर से निकलने वाली जो चीख पुकार है उनको व्हाइब्रेश्न्स की थेओरी में जब समझाया जाता है इस प्रक्रिया में जो नेगेटिव वेब्स निकलती हैं है वो पुरे बातावरण को बुरी तरह से प्रभाबित करती है और उसका आस पास के सम्पूर्ण वातावरण एवं सभी मनुष्यों पर प्रभाब पड़ता है..

<>    उससे नकारात्मक भाव जादा से जादा आते है

इससे मनुष्य में हिंसा करने की प्रवृत्ति बढ़ जाती है . इसी से अत्याचार और पाप पूरी दुनिया में बढ़ रहे हैं

<>    दिल्ली विश्यविद्यालय के दो प्रोफेसर है एक मदनमोहन जी और एक उनके सहयोगी जिन्होंने २० साल इनपर रिसर्च किया है और उनकी फिजिक्स की रिसर्च ये कहती है के जानवरों को जितना जादा कतल किया जायेगा जितना जादा हिंसा से मारा जायेगा उतना ही अधिक दुनिया में भूकंप आएंगे, जलजले आएंगे, प्राकृतिक आपदा आयेगी उतनेही दुनिया में संतुलन बिगड़ेगा …

 

इसे भी पढ़े :  अंडे की वह हकीकत जो आपसे छुपाई गई | You Will Never Eat Eggs Again After Reading This

2017-05-07T09:19:13+00:00 By |Articles|0 Comments

Leave a Reply