गर्म पानी पीने के फायदे ही फायदे – Garam Pani Pine ke Fayde in Hindi

क्या आप जानते हैं कि गर्म पानी में अनेक औषधिय गुण छिपे होते हैं, जिनसे आम आदमी प्रायः अपरिचित रहता है। आयुर्वेद के अनुसार पानी को किसी बर्तन में उबालने पर जब पानी में से झाग का आना बंद हो पानी निर्मल हो जाए तथा उसकी मात्रा कुल से आधी शेष बच जाए तो उसे उष्णोदक कहा जाता है।

आयुर्वेद के अनुसार शीतल जल के हजम होने में एक प्रहर (तीन घंटे) लग जाता है। एक बार जल को गर्म करके ठंढा कर पीने पर वह आधे प्रहर में हजम हो जाता है। अच्छी तरह उबाला हुआ जल तथा हल्का गर्म जल चौथाई प्रहर में हजम हो जाता है।

रात्रि में सोते समय गर्म पानी पीने के फायदे :

यदि गर्म पानी रात्रि में सोते समय पिया जाए तो उससे होनेवाले प्रमुख लाभ इस प्रकार है –

  • कफ दोष नष्ट करता है।
  • मूत्राशय शुद्ध करता है।
  • वायु विकारों से पीड़ितों को सदैव ठंडे पानी के स्थान गर्म पानी ही पीना चाहिए।
  • खाँसी, दमा तथा बुखार को नष्ट करता है।
  • जुकाम तथा कब्ज की यह अति उत्तम दवा है।

वात, पित्त, कफ दोष निवारक गर्म पानी :

पानी को उबालें। उबले हुए पानी का चौथाई हिस्से का बचा हुआ पानी पीने से हमारे शरीर के तीनों दोषों वात, पित्त कफ का नाश होता है। गर्म पानी पीने से आमाशय एवं आँतों में गति पैदा होती है। परिणाम स्वरूप पेट में रुका हुआ आहार आँतों में जाकर पच जाता है। गर्म पानी में आहार को हजम करने की विलक्षण शक्ति होती है।

बुखार में गर्म पानी के फायदे :

  • पेट एवं आँतों की बढ़ी हुई वायु सुगमता पूर्वक निकल जाती है।
  • पेट की जठराग्नि प्रज्वलित होती है।
  • पानी हल्का होने के कारण शीघ्र पच जाता है।
  • कफ आसानी से सूख जाता है।

गर्म पानी पीने में सावधानियाँ :

  • बुखार में जब रोगी के शरीर में जलन हो रही है और चक्कर आ रहे हों तो उसे गर्म पानी बिलकुल नहीं दिया जाना चाहिए।
  • दस्तों में गर्म पानी पीना वर्जित है।
  • दिन में उबाला हुआ पानी रात को भारी हो जाता है, इसी प्रकार रात के समय उबाला हुआ पानी सुबह तक भारी हो जाता है इसलिए इसे पीना नहीं चाहिए।

Leave a Comment