एक्यूप्रेशर द्वारा दस्त (loose motion )का सफल उपचार | How to stop loose motion

Home » Blog » Acupressure Therapy » एक्यूप्रेशर द्वारा दस्त (loose motion )का सफल उपचार | How to stop loose motion

एक्यूप्रेशर द्वारा दस्त (loose motion )का सफल उपचार | How to stop loose motion

दस्त (loose motion )के एक्यूप्रेशर बिंदु :

how to stop loose motion in hindi

loose motion Acupressure point-1

★ मुख्य बिंदु : नाभि के ठीक चार अंगुल नीचे स्थित बिंदु ( चित्र १ में बिंदु ‘अ’ )

★ छाती की बीचवाली हड्डी के नीचेवाले छोर और नाभि के ठीक बीच में स्थित बिंदु ( चित्र १ में बिंदु ‘ब’ )

loose-motion-Acupressure-point-2

★ दोनों हथेलियाँ में दूसरी और तीसरी ऊँगली के मध्य चित्र २ में दर्शाये गये भाग पर ऊँगलियों के जोड़ से हाथ की कलाई की ओर हथेली के ठीक मध्य तक रगड़ते हुए हलका दबाव दें |
★ इस प्रकार एक हाथ में ५ से ७ बार करें |
★ दबाव पेन, पेन्सिल के पीछेवाले भाग या अँगूठे से दिया जा सकता हैं |
★ एक्यूप्रेशर करने से पहले हथेली पर २ – ४ बूँद तेल या टेलकम पाउडर लगा लेने से एक्यूप्रेशर अच्छी तरह से होता है |

loose motion-Acupressure-point-3

★ सहायक बिंदु : हाथों व पैरों के अँगूठे व प्रथम ऊँगली के बीचवाले मांसल भाग पर स्थित बिंदु |
★ उक्त चित्रों में दर्शाये गये बिन्दुओं पर ५ से १० सेकंड तक दबाव दें, फिर छोड़ दें, फिर दबाव दें |
★ ऐसा २ से ३ मिनट तक दिन में ३ बार करें |

loose-motion-Acupressure-point-4

★ सीधे लेटकर दोनों पैरों के नीचे टखने के पास गरम पानी की थैली या काँच की बोतल में गरम पानी भरकर चित्र ४ में दर्शाये अनुसार १५ से २० मिनट के लिए रखें |
★ इससे दस्त में जल्दी लाभ होता हैं और शरीर की थकान भी दूर होती है | यह प्राकृतिक चिकित्सा का अनुभूत प्रयोग हैं |

इसे भी पढ़े : एक्यूप्रेशर द्वारा ह्रदयरोग का सफल उपचार |

क्या खायें : what to eat during loose motion

★ दस्त सामान्यत: अत्यधिक या अनुचित अथवा दूषित आहार तथा दूषित पानी के कारण होते हैं |
★ दस्त (loose motion )होने पर पेडू पर गर्म पानी की थैली से ५ – ७ मिनट सेंक करें |
★ भोजन में पतली खिचड़ी लें |
★ दही के ऊपर का पानी २ चम्मच पीना लाभदायी है |
★ दूध, फल या फलों का रस तथा पचने में भारी प्रदार्थ नहीं लेने चाहिए |

औषधि : loose motion medicine

★ कुटज घनवटी की ४ – ४ गोलियाँ दिन में ३ – ४ बार लेने से दस्त बंद हो जाते हैं |

अच्युताय हरिओम तुलसी अर्कअच्युताय हरिओम बेल चूर्ण के सेवन से दस्त में काफी लाभ होता है |

दस्त लगने पर प्रार्थमिक उपचार विपरीतकरणी मुद्रा तुरंत चालू करें | समय पर वैद्यकीय सलाह बहुत जरूरी हैं क्योंकि ज्यादा दस्त लगने पर बच्चों व वृद्धों की जान को खतरा हो सकता हैं |

स्त्रोत – ऋषिप्रसाद

2017-06-28T11:34:24+00:00 By |Acupressure Therapy|0 Comments

Leave A Comment

4 × 1 =