मधुमेह के 25 रामबाण घरेलु उपचार | Madhumeh ke Gharelu Upchar

Home » Blog » Disease diagnostics » मधुमेह के 25 रामबाण घरेलु उपचार | Madhumeh ke Gharelu Upchar

मधुमेह के 25 रामबाण घरेलु उपचार | Madhumeh ke Gharelu Upchar

मधुमेह (डायबिटिज) : madhumeh / diabetes in hindi

★ इस रोग की आजकल बहुतायत हो गई है। इस रोग में शर्करा (Sugar) बिना किसी रासायनिक परिवर्तन के मूत्र के साथ बाहर निकलती रहती है ।
★ इस रोग में शक्कर पच नहीं पाती है तथा रोगी को मूत्र अधिक आता है । बार-बार मूत्र त्याग के कारण प्यास भी अधिक लगती है, मुख सूखता रहता है, रोगी कमजोर वे कृषकाय हो जाता है।
★ मधुमेह की चिकित्सा अत्यन्त ही सरल है और अत्यन्त कठिन भी । जो रोगी संयमी हैं, जो अपनी जीभ को वश में रखते हैं उनके लिए इस रोग से | मुक्ति मात्र बच्चों का खेल है और जो असंयमी, पेटू है, उन्हें उनके लिए इसकी चिकित्सा असम्भव है।
★ सर्वप्रथन हर किसी को यह भली प्रकार समक्ष लेना चाहिए | कि (We Eat to live But We donot live to eat) अर्थात हम जीने के लिए खाते हैं, खाने के लिए नहीं जीते हैं |
★ मधुमेह रोग के साथ-साथ मधुमेह के रोगी को जो व्रण, पाण्डु, फोड़े, घाव, मोटापा, इत्यादि जो भी सहायक हों उन सबके लिए अलग से किसी चिकित्सा अथवा चिन्ता की आवश्यकता नहीं है । मधुमेह के दूर होते ही वह सब स्वयं नष्ट हो जायेंगे जैसे जड़ काट देने पर किसी पेड़ के फूल और पत्ते आदि स्वयं ही नष्ट हो जाते हैं ।

मधुमेह के लक्षण : diabetes ke lakshan

★ इस रोग के प्रारम्भ होने से पूर्व खूब भूख लगती है किन्तु धीरे-धीरे भूख । कम होती जाती है।
★शरीर की त्वचा शुष्क और स्पर्श करने से रूखी, खुरदरी महसूस होती है ।
★मसूढे फूल जाते हैं, उनसे रक्त निकलता है, कब्ज, अत्यधिक प्यास, पेशाब अधिक आना, मूत्र का आपेक्षित गुरुतत्व 1060 से भी ऊपर हो जाना, पेशाब में शर्करा निकलना, शरीर में खुजलाहट, शरीर स्क्ष होना, दुर्बलता; शरीरिक भार में कमी इत्यादि प्रधान लक्षण है ।
★इसके बाद शरीर धीरे-धीरे क्षीण होता जाता है । पैर में शोथ(सूजन) हो जाता है ।
★ स्त्रियों को यह रोग होने पर उनकी योनि में खुजली उत्पन्न हो जाती है ।
★बीमारी बढ़ने के साथ ही साथ फैफड़े भी खराब हो जाते हैं और अन्त में कारब-कल (फोड़ा) होकर रोगी की मृत्यु हो जाते है। |
★ यह रोग स्त्रियों की अपेक्षा पुरुषों को तथा निर्धनों की अपेक्षा धनवानों को, मध्य आयु वालों तथा वृद्धों को (40 से 60) वर्ष वालों को अधिक होता है।
★sugar hone ke karan -अत्यधिक मानसिक परिश्रम करना, उत्तेजना, चोट एवं कुछ संक्रामक रोग जैसे—डिफ्थीरिया, मलेरिया, इन्फ्लूएन्जा आदि

के कारण भी यह रोग हो जाया करता है।
★अधिक मद्यपान, या शर्करा युक्त भोजनों तथा यकृत और क्लोम ग्रन्थियों की कार्य प्रणाली में अवरोध उत्पन्न हो जाना भी कारण है ।

मधुमेह (डायबिटीज ) में आहार / परहेज :

<> इनका सेवन किया जा सकता है : इस रोग में घी, मक्खन, पनीर, ताजा साग-सब्जियाँ, मूली, पालक, परवल, लौकी, करेला, बैगन, आदि तथा फल आम, अनार, सेब, जामुन, संतरा, मौसमी आदि सेवन करना तथा थोड़े नमक के साथ कागजो नीबू का रस पानी मिलाकर पीना पथ्य है।
इस रोग में तेल और मिर्च मसाला रहित करेला की तरकारी विशेषरूप से खाते रहना रोगी के लिए हितकर है।

<> शुगर में क्या नहीं खाना चाहिए : नये चावल, शीतल जल, बरफ, गरम और मीठे पदार्थ, धूप में घूमना-फिरना, परिश्रम, मैदा, चीनी, गुड़, माँस, मछली, तेल का सेवन तथा मैथुन करना अपथ्य है। आइये जाने शुगर कम करने के उपायों के बारे में |sugar kam karne ke upay ,madhumeh ka ilaj,madhumeh ka ilaj hindi me

इसे भी पढ़े : मधुमेह(डायबिटिज) का सरल व असरकारक ईलाज |

शुगर का घरेलू उपचार: sugar ka gharelu upchar in hindi

1• जामुन की गुठली का चूर्ण सौंठ, 50-50 ग्राम तथा गुड़मार बूटी 100 ग्राम लें। सभी को कुटपीसकर कपड़छन कर लें। फिर ग्वारपाठे के रस में घोटकर झड़बेर (जंगली बेर) के समान गोलियाँ बना लें । ये 1-1 गोली दिन में 3 बार शहद के साथ प्रयोग करायें । एक माह तक प्रयोग जारी रखें ।।

नोट:-इस योग के प्रारम्भ करने से पूर्व 3 दिन का उपवास करें। इस रोग में शक्कर से बनी मिठाइयाँ, पकवान व पेय निषेध है। रोगी कम खाये । हरी साग-समियों का प्रयोग अधिक करें । अल्प मात्रा में फल ले सकते हैं। दिन में सोवें, स्वच्छ पानी में तैरना लाभप्रद है, कम बोले, व्यायाम (शारीरिक शक्तिनुसार) अवश्य करें,, यदि कर सकें तो नित्य 30 ग्राम, गौ मूत्र का पान करें, अवश्य लाभ होगा।

2 • केवल चने की रोटी सात दिनों तक खाने से पेशाब की शक्कर बन्द हो जाती है । गूलर के पत्तों के उबाले जल से स्नान करें। खूब घूमें, पानी एक साथ न पीकर कई बार में थोड़ा-थोड़ा पियें । आँवले के रस में मधु मिलाकर सेवन करें। नासपाती, सेब, अमरूद, नीबू, करेला, टमाटर लाभकारी है । जौ की रोटी खाना भी लाभप्रद है । एक समय रोटी तथा एक समय फलाहर तथा बिना चीनी का दूध लेना लाभप्रद है।

3 • बढ़िया क्वालिटी के उत्तम छुहारे लेकर उनके टुकड़े कर उनकी गुठलियाँ निकाल दें। उसके 3-4 टुकड़े मुख में रखकर चूसते रहें । दिन भर में 8-10 बार लगातार 5-6 माह तक चूसें । लाभप्रद है।

4 • हरी गिलोय 40 ग्राम, पाषाण भेद तथा शहद 6-6 ग्राम लें। तीनों को मिलाकर 1 माह पियें । मधुमेह नष्ट हो जायेगा।

5 • 5 ग्राम की मात्रा में शुद्ध शिलाजीत प्रतिदिन दूध में डालकर पीने से मधुमेह शर्तिया नष्ट हो जाता है । कम से कम 1 किलो शिलाजीत का सेवन करलें। यह प्रयोग सर्दियों की ऋतु में करें ।

6 • गुड़मार बूटी, जामुन की गुठली दोनों सममात्रा में लेकर कूटपीसकर चूर्ण बनाकर रख लें । इसे 6 ग्राम की मात्रा में सुबह शाम गरम पानी के साथ नित्य । सेवन करें । लाभप्रद है।

7 • 20 ग्राम बिनौले को कूटकर 600 ग्राम पानी में औटावें । जब चौथाई रह जाये तब छानकर 10-10 ग्राम जल दिन में 3-4 बार में पिलायें । कुछ दिनों के निरन्तर सेवन से स्थायी लाभ हो जायेगा ।

8 • चित्रक के पंचाग को यवकुट (जौकुट) करके 6 ग्राम की मात्रा में प्रात: सायं 300 ग्राम पानी में डालकर पकायें । जब 500 ग्राम पानी शेष रह जाये, तब अग्नि से उतार छानकर गुनगुना ही रोगी को पिलायें । मात्र 3 सप्ताह के सेवन से मधुमेह एवं बहुमूत्र रोग नष्ट हो जाता है । अल्प-मोली घरेलू प्रयोग है।

9 • वट वृक्ष (बड़ या बरगद) की 400 ग्राम छाल को 400 ग्राम पानी में पकायें । जब पानी 200 ग्राम शेष बचे, तब उतार छानकर दोनों समय (सुबह शाम) 1-1 मात्रा पिलायें । एक माह मात्र के नियमित सेवन से मधुमेह रोग नष्ट हो जाता है ।

10 • जामुन की गुठली 12 ग्राम तथा अफीम 1 ग्राम लें । दोनों को जल के साथ घोटकर 32 गोलियाँ बनाकर छाया में सुखाकर शीशी में सुरक्षित रख लें। 2-2 गोली सुबह शाम जल के साथ निगलवायें । जौ की रोटी और हरे साग सब्जियों का प्रयोग अधिकता से करें ।

11 • शीतलचीनी, गुड़मार, असगन्ध, शंखाहूली सभी समभाग लेकर कूट पीसकर चूर्ण बना लें। सुबह शाम 3-3 ग्राम की मात्रा में ताजे जल के साथ दें । मधुमेह में अत्यन्त लाभकारी है।

12 • करेले का रस नित्य प्रात:काल 2 तोला की मात्रा में खाली पेट और भोजनोपरान्त पीने से 10 दिन में ही शर्करा का पेशाब में जाना बन्द हो जाता है। मधुमेह का अत्यन्त सफल प्रयोग है। करेला के रस को सुबह-शाम नित्य खाली पेट पीने से उदर की बढ़ी हुई तिल्ली (स्पलीन) कम हो जाती है ।

13 • काली मिर्च व काला जीरा 2-2 तोला, तुलसी के पत्ते 2 तोला, काला नमक 1 तोला लें । सभी को खरल में डालकर जल के साथ घोटकर बेर के बराबर गोलियाँ बनालें । यह 1-1 गोली सुबह शाम जल के साथ लें । केवल 1 माह के अन्दर बहुमूत्र रोग जड़ से नष्ट हो जायेगा ।

14 • करेलों के छाया-शुष्क टुकड़ों का महीन चूर्ण बनाकर इसे 6 ग्राम की मात्रा में जल के साथ लेने से मूत्र में शर्करा आना धीरे-धीरे बन्द हो जाता है।

15 • गुड़मार के चूर्ण को करेले के रस की 7 भावनायें देकर सुखाकर शीशी में सुरक्षित रख लें । इसे सुबह-शाम 3 से 6 ग्राम की मात्रा में जल के साथ लेने से तथा पूर्ण संयम के साथ पथ्य सेवन करने से महीना-डेढ़ महीना में मधुमेह नष्ट हो जाता है ।

16 • 3 ग्राम हल्दी चूर्ण 12 ग्राम शहद में मिलाकर नित्य प्रति 3 माह तक चाटने से मधुमेह ऐसा भागता है कि फिर मुड़कर पीछे नहीं देखता है।

17 • करेले को केवल धोकर ऊपर से वाले कोमल उभार को छीलकर निचोड़कर लीजिए । सुबह कुल्लादि करके आधा कप यह रस पी जाइए । निचुड़े हुए गूदे को हल्दी आदि में डालकर गाय के घी में भूनकर नाश्ता कर डालिए । करेलों की सुबह प्याज के साथ हल्के मसाले डलवाकर सब्जी बनवा लीजिए, दोपहर का खाना इसी सब्जी से खाइये । शाम को 2 साबुत करेले बारीक कुतरकर मक्खन में फ्राई कराइये और शाम का नाश्ता करिये। रात में 2 केले कुतरवाकर पिसवा लीजिए और किसी भी तरीदार सब्जी के लिए मसाले के तौर पर प्याज करेले की पिसी हुई पीठी भी भुनवा डालिए। यदि किसी मधुमेह के रोगी ने नियमित रूप से 3 माह यही दिनचर्या बना ली तो मधु मेह के छक्के ही छूट जायेगें । | ऐसे रोगी जो ऐलोपैथी की औषधियां और सूचीबेधों तथा इन्सुलीन से तंग आ चुके हों, उन्हें तो यह कुदरत का करिश्मा या वरदान ही साबित होगा।

18 • नीम की छाल का काढ़ा पीना भी मधुमेह नाशक है ।
त्रिबंग भस्म, नागभस्म 1-1 रत्ती, बंग भस्म 2 रत्ती, जामुन की गुठली का चूर्ण 3 माशा लेकर खरल करें, यह एक मात्रा है। इसे सुबह-शाम मधु से चटाकर ऊपर से 1 पाव गौ दुग्ध पिलावें ।

19 • मधुमेह के रोगी प्रतिदिन 2 बार भोजन के बाद त्रिफला चूर्ण (हरड़, बहेड़ा, आँवला) आधा तोला को गरम जल से अथवा पंच-सकार चूर्ण (सनाय, सौंठ, शिवा, (हरड़) सेंधा नमक और सौंठ का मिश्रण) आधा तोला (6 ग्राम) के साथ आधा तोला जामुन की गुठली का चूर्ण मिलाकर गरम जल के साथ लेते रहने से उदर शुद्धि होकर वातिक कोप का शमन हो जाता है ।

20 • इस रोग में सुबह-शाम 1 पाव गरम दूध से 3 से 6 रत्ती की मात्रा में शुद्ध शिलाजीत का प्रयोग करने से मधुमेह का कुछ ही दिनों में शमन हो जाता है ।

21 • छाया में सुखाये हुए आम के 1 तोला पत्तोको आधा सेर (500 ग्राम) पानी में उबालकर आधा पानी शेष रहने पर कपड़े से छानकर सुबह-शाम पीना मधुमेह नाशक है।

22 • महुआ की छालं 5 ग्राम एवं काली मिर्च 1 ग्राम लें । दोनों को मिलाकर जल के साथ पीसकर पीना मधुमेह नाशक है।

23 • बेल की ताजी हरी पत्तियाँ 2 तोला को 11 नग काली मिचों के साथ पीसकर नित्यप्रति पीने से मधुमेह रोग नष्ट हो जाता है।

24 • पान के साथ जस्ता-भस्म खाना मधुमेह नाशक है ।

25 • बिल्व पत्र स्वरस ढाई तोला को मधु के साथ सूर्योदय के पूर्व नित्य पीने से पेशाब में जाने वाली शर्करा 15 दिन में निरस्त हो जाती है ।

मधुमेह की अचूक दवा : shugar ki dawa

मधुमेह नाशक प्रमुख आयुर्वेदीय योग : मधुमेह रोग नष्ट करने के लिये अच्युताय हरिओम फार्मा द्वारा निर्मित “मधुरक्षा टेबलेट (शुद्ध शिलाजीत युक्त ) ” एवं “डायबिटीज टेबलेट “ का सेवन अक्सीर इलाज है |

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |