पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

Mahan Vibhutiyan

Home » Blog » Mahan Vibhutiyan

सरदार अजीत सिंह एक गुमनाम योद्धा | Sardar Ajit Singh

2017-05-22T12:43:02+00:00 By |Mahan Vibhutiyan|

क्या आप जानते हैं कि- १. वो उन बिरले क्रान्तिकारियों में से थे, जिनका नाम ही अंग्रेज सरकार को [...]

वीर विनायक दामोदर सावरकर | Vinayak Damodar Savarkar | Hindu and Indian nationalist

2017-05-16T17:31:39+00:00 By |Mahan Vibhutiyan|

वीर विनायक दामोदर सावरकर( veer savarkar ) ★ वीर विनायक दामोदर सावरकर पहले ऐसे देशभक्त थे जो दो जन्मों के [...]

झलकारी बाई एक महान वीरांगना | The untold story of the other Jhansi ki Rani

2017-05-14T16:04:59+00:00 By |Mahan Vibhutiyan|

वीरांगना झलकारी बाई ( jhalkari bai ) <> झलकारी बाई (२२ नवंबर १८३० - ४ अप्रैल १८५७) झाँसी की [...]

हकीकत राय की हकीकत सभी को सुनना चाहिए-Veer Haqiqat Rai

2017-05-16T17:37:46+00:00 By |Inspiring Stories(बोध कथा), Mahan Vibhutiyan|

श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वनुष्ठितात्। स्वधर्मे निधनं श्रेयः परधर्मो भयावहः।। ʹअच्छी प्रकार आचरण में लाये हुए दूसरे धर्म से गुणरहित भी [...]