पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेशधन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।।हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।""ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।"पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया
Fugiat dapibus, tellus ac cursus commodo, mauris sit condim eser ntumsi nibh, uum a justo vitaes amet risus amets un. Posi sectetut amet fermntum orem ipsum quia dolor sit amet, consectetur, adipisci velit, sed quia nons.
Fugiat dapibus, tellus ac cursus commodo, mauris sit condim eser ntumsi nibh, uum a justo vitaes amet risus amets un. Posi sectetut amet fermntum orem ipsum quia dolor sit amet, consectetur, adipisci velit, sed quia nons.
Fugiat dapibus, tellus ac cursus commodo, mauris sit condim eser ntumsi nibh, uum a justo vitaes amet risus amets un. Posi sectetut amet fermntum orem ipsum quia dolor sit amet, consectetur, adipisci velit, sed quia nons.

Yoga & Pranayam

Home » Blog » Yoga & Pranayam

वज्रासन के अदभुत लाभ | Benefits of Vajrasana – How to do Vajrasana

2017-03-01T14:54:05+00:00 By |Yoga & Pranayam|

वज्रासन -- जिनकी पाचन शक्ति कमजोर है उनके लिए वरदान है यह आसन और करने में बड़ा ही आसान है [...]

पद्मासन (Padmasana) लगाने की सहीं विधी व उससे होने वाले अदभुत लाभ

2017-01-17T15:52:47+00:00 By |Yoga & Pranayam|

इस आसन में पैरों का आधार पद्म अर्थात कमल जैसा बनने से इसको पद्मासन या कमलासन कहा जाता है। ध्यान [...]

अदभुत चमत्कारिक यौगिक क्रिया ” केवल निधि (Kevali kumbhaka)”

2017-01-17T14:36:30+00:00 By |Yoga & Pranayam|

जिसको केवली कुम्भक सिद्ध हो जाता है, वह पूजने योग्य बन जाता है । यह योग की एक ऐसी [...]

सूर्य नमस्कार के चमत्कारिक लाभ व करने की सपूर्ण विधि

2017-01-10T21:36:02+00:00 By |Yoga & Pranayam|

आदित्यस्य नमस्कारं ये कुर्वन्ति दिने दिने । जन्मान्तरसहस्रेषु दारिद्र्यं नोपजायते ।। अर्थ : जो लोग सूर्यको प्रतिदिन नमस्कार करते हैं, [...]

साइटिका निवृत करने के लिए प्राणायाम

2017-01-03T05:58:33+00:00 By |Yoga & Pranayam|

साइटिका निवृत करने के लिए पैरों के तलवे पर सरसों का तेल लगाये और पैरों से ताली बजाएं और [...]

तृप्ति प्राणायाम – इसकी खोज महर्षि च्यवन ने की है

2017-01-03T05:53:05+00:00 By |Yoga & Pranayam|

जीवन से शुष्कता मिटाने के लिए व ख़ुशी लाने के लिए पहले दायें बायें से श्वास लिया छोड़ा 10 [...]

सूर्यभेदी प्राणायाम (Surya Bheda Pranayam )

2017-01-02T03:08:03+00:00 By |Yoga & Pranayam|

सर्दी है या सर्दी के दिनों में बहुत ज्यादा ठंड लगती हो तो बायाँ स्वर बंद करके .... दायें नथुने [...]

ब्रम्हचर्य सहायक प्राणायाम

2017-01-01T15:27:58+00:00 By |Students, Yoga & Pranayam|

सीधा लेट जाये पीठ के बल से.. कान में रुई के छोटे से बॉल बना के कान बंद कर देना [...]

सूर्यनारायण का ध्यान

2017-01-01T15:10:14+00:00 By |Students, Yoga & Pranayam|

भ्रूमध्य में सूर्यनारायण का ध्यान करने से, ॐकार का ध्यान करने से बुद्धि विकसित होती है और नाभि से सूर्य [...]

स्वास्थ्य पर स्वर का प्रभाव

2017-01-01T04:10:27+00:00 By |Health Tips, Yoga & Pranayam|

जिस समय जो स्वर चलता है उस समय तुम्हारे शरीर में उसी स्वर का प्रभाव होता है। हमारे ऋषियों ने [...]