जानिए बरसात के मौसम में कैसे रखे अपनी सेहत का ख्याल | Barish ke mosam me bimariyo se kaise bache

बारिश के मौसम में बीमारियों से कैसे बचे | How to stay healthy in rainy season

बारिश के दिनों में भोजन में अथवा खाने-पीने में अदरक, नींबू, सेंधा नमक आदि लें थोड़ी देर के बाद भोजन करना सुपाच्च होगा, पाचनतंत्र इन दिनों में कमजोर रहेता है । भोजन में पुदीना, हरा धनियाँ, सौंठ, अजवाइन, मेथी, जिरा, हिंग, कालीमिर्च, भेंडी, पड्वल, तुरई, खीरा, मुली पर ये मुली, देठा, लौकी, गिलकी ये खान-पान में हितकारी रहेगा ।

ताज़ी छाज खट्टी न हो, काली मिर्च और सेंधा नमक मिलाकर लेना, धनियाँ, पुदीना डालके लेने से वो हितकारी रहेगा । दोपहर को भोजन के साथ लेना और हितकारी रहेगा ।

इन दिनों में हलका-फुलका उपवास और सुपाच्च भोजन हितकारी रहेगा । रात देर का भोजन बड़ा नुकसान करेगा और भोजन के बीच-बीच में इन दिनों में साधा पानी पीये, ठंडा पानी नहीं पीये । इन दिनों में खट्टा, खारा, तीखा, भारी, राजमा, मिठाई, नया अनाज, आलू हानि करेगी, वायु बढ़ाते है । अरबी हानि करेगी, मटार, राजमा बड़ा नुकसान करेगा । जलेबी, बिस्कुट, डबल-रोटीयाँ, आटा लगा हुआ इडली, डोसे आदि इन चीजों से भी परहेज़ करनी चाहिये । मैदे की बनी चीजों से भी दूर रहना चाहिये ।

उबटन से मालिश हितकारी रहेगी, तेल की मालिश हितकारी रहेगी, व्यायम हितकारी रहेगा । हलके-फुलके वस्त्र, सूती वस्त्र हितकारी रहेंगे । दिन का सोना बहुत नुकसान करेगा वर्षा ऋतु में, रात्री का जागरण ये भी भारी नुकसान देता है ।

इसे भी पढ़े :बारिश के मौसम में स्वस्थ रहने के 6 सूत्र |

बरसात में खुले बदन अथवा भीगे बदन रहना, भीगे कपड़े रहना ये भी भविष्य में लकवा अथवा गठियां को, वायुप्रकोप को बुला सकता है ।

अति व्यायाम भी वर्षा ऋतु में मना किया हुआ है । बारिश में भीगना वर्जित है, हानिकारक है ।

वर्षा ऋतु(Barish) में सावधानी के लिए राम हरड उसमे 25 ग्राम सेंधा नमक मिलाकर रख दें । 2–3 ग्राम सुबह फाँक लें वो हितकारी रहेगा अथवा तो हरड रसायन गोली 1–2 सुबह खा लें अथवा एकाद दूसरा शाम को लें पाचन ठीक बनायेगा । मंदाग्नि न होने दें और मंदाग्नि है, पाचन ठीक नहीं है तो फांस के खाये नहीं । बीच-बीच में गुनगुना पानी पीयो और सुबह हप्ते में 2–3 दिन गुनगुना पानी, नींबू और शहद पीना वर्षा ऋतु में हितकारी है ।

लेकिन जो चुतुर्मास का नियम करें और शहद त्यागने का महत्त्व समझते तो वो शहद बिना भी नींबू, पानी का उपयोग कर सकते है ।

Leave a Comment