हमारे खान-पान का दिल की सेहत से बहुत घनिष्ठ संबंध है। कई अध्ययनों में इस तथ्य की पुष्टि हुई है कि अधिक चिकनाई वाला खानपान, घी, मक्खन, मांसाहार, जरूरत से ज्यादा कैलोरी लेना और कम प्राकृतिक रेशेवाला भोजन हमें कोरोनरी धमनी हृदय रोग की तरफ ले जाता है।

चरबीयुक्त मांस, अंडे, घी-मक्खन, तले हुए पकवान, फास्ट फूड इस नजर से सबसे बुरे हैं। उनमें कोलेस्ट्रोल बहुत बड़ी मात्रा में होता है।
अतिरिक्त कैलोरी लेना भी ठीक नहीं है। ज्यादा खाने और मदिरा पीते रहने से हमारे खून में ट्राइग्लिसराइड्स की मात्रा बढ़ जाती है जो रक्त-संचार प्रणाली के लिए नुकसानदेह है।

चाहे वह एल. डी. एल. किस्म का कोलेस्ट्रोल हो या ट्राइग्लिसराइड्स रक्त में दोनों का ही बढ़ना ठीक नहीं है। इनके बढ़े रहने से रक्त धमनियों में चर्बी की परत जमती जाती है और धमनियों में सँकरापन आ जाता है।

दिल की अपनी धमनियाँ- कोरोनरी आर्टरिज-जब इस प्रक्रियावश सँकरी हो जाती हैं, तभी दिल की बीमारी एंजाइना उपजती है। इन अवरुद्ध धमनियों में से किसी एक में खून का दौरा बिलकुल रुक जाने पर ही दिल का दौरा पड़ता है।

दिल की तंदुरुस्ती के लिए आहार में पर्याप्त मात्रा में रेशेदार चीजें लेना भी जरूरी है। साबुत अनाज, सामान्य डबलरोटी की बजाय ब्राउन (होल व्हीट) ब्रेड, हरी सब्जियाँ, सलाद और फल लेना फायदेमंद है।

खाना पकाने के लिए वनस्पति घी और खालिस घी इस्तेमाल करना भी ठीक नहीं है। इनमें सेच्युरेटेड फैट्स की मात्रा ज्यादा होती है। इसकी बजाय करडी (सफोला), सूरजमुखी (सनफ्लावर), तोरिया (रेपसीड) और मकई (कोन) के तेलों का इस्तेमाल करें, तो बेहतर है। इनमें पाई जानेवाली असंतृप्त वसा नुकसानदेह (एल.डी.एल.) कोलेस्ट्रोल की मात्रा को घटाती है।

खान-पान में ये सावधानियाँ बरतने से वजन संतुलित रखने, धूम्रपान से बचे रहने, नित्य नियम से व्यायाम करने से ब्लड शुगर और रक्तचाप पर नियंत्रण रखने से दिल की धड़कनें लंबी उम्र तक सलामत रह सकती हैं।

दिल मजबूत बनाने के लिये क्या खाएं / उपाय :

• प्रतिदिन लहसुन की कच्ची कली छीलकर खाने से कुछ दिनों में ही रक्तचाप सामान्य हो जाता है और दिल मजबूत होता है।

• अनार के रस को मिश्री में मिलाकर हर रोज सुबह-शाम पीने से दिल मजबूत होता है। खाने में अलसी का प्रयोग करने से दिल मजबूत होता है।

• सेब का जूस और आंवले का मुरब्बा खाने से दिल मजबूत होता है और दिल अच्छे से कामकरता है।
बादाम खाने से दिल स्वस्थ रहता है।

• शहद दिल को मजबूत बनाता है। कमजोर दिलवाले एक चम्मच शहद का सेवन रोज करें तो उन्हें फायदा होगा। लोग भी शहद का एक चम्मच रोज ले सकते हैं, इससे वे दिल की बीमारियों से बचे रहेंगे।

• छोटी इलायची और पीपरामूल का चूर्ण घी के साथ सेवन करने से दिल मजबूत और स्वस्थ रहता है।

• दिल को मजबूत बनाने के लिए गुड को देसी घी में मिलाकर खाने से भी फायदा होता

• लौकी उबालकर उसमें धनिया, जीरा व हल्दी का चूर्ण तथा हरा धनिया डालकर कुछ देर पकाकर खाइए। इससे दिल को शक्ति मिलती है।

• अलसी के पत्ते और सूखे धनिए का क्वाथ बनाकर पीने से हृदय की दुर्बलता मिट जाती है।

गाजर के रस को शहद में मिलाकर पीने से निम्न रक्तचाप की समस्या नहीं होती है और दिल मजबूत होता है।